bharat me corona se death

अवसर सिर्फ हमारी खाम-ख्याली में!

जिस वक्त ‘आत्म-निर्भर भारत’ की बात कह कर प्रधानमंत्री मोदी एक तरह से ‘मेक-इन-इंडिया’ योजना की नाकामी स्वीकार कर रहे हैं, उसी वक्त भारत के लिए दुनिया के मैनुफैक्चरिंग हब बनने के अवसर की भी बात कही जा रही...

जिस तकलीफ़ से घर लौटा हूं, अब फिर जाने की हिम्मत नहीं होगी’

श्रमिक स्पेशल ट्रेन के किराये को लेकर सरकार के विभिन्न दावों के बीच गुजरात से बिहार लौटे कामगारों का कहना है कि उन्होंने टिकट ख़ुद खरीदा था। उन्होंने यह भी बताया कि डेढ़ हज़ार किलोमीटर और 31 घंटे से...

महिला की सड़क पर हुई डिलीवरी, डेढ़ घंटे बाद फिर चलना शुरू किया

भोपाल- महाराष्ट्र के नासिक से मध्य प्रदेश के सतना तक की 11 सौ किलोमीटर की पैदल यात्रा के दौरान पिपरगांव में मां को प्रसव-पीड़ा हुई और रास्ते में ही बच्चे को जन्म दिया। यहीं नहीं, डेढ़ घंटे बाद उसने...

जत्था गंगोत्री से 300 किमी पैदल चलकर पहुंचा सहारनपुर, एक ने तोड़ा दम

सहारनपुर। लॉकडाउन के चलते काम बंद हो गया, पैसे भी खत्म हो गए। ऐसे में भूखे मरने से बचने के लिए 11 मजदूरों का एक जत्था गंगोत्री से पैदल चलकर सहारनपुर तो पहुंचा, लेकिन एक मजदूर करीब 300 किलोमीटर...

‘घर’ पहुंचाने के लिए वसूल रहे तीन हजार रुपए, ट्रक में भरे 57 मजदूर फिर…

मुंबई | मजदूरों को अपने घर लौटने के दौरान भारी परेशानी का सामना कर रहा है।महाराष्ट्र में मुंबई-नासिक राजमार्ग पर एक ट्रक पुरुषों, महिलाओं और बच्चों से भरा होने के बावजूद और सवारियों के लिए इंतजार में खड़ा है।...

आठ महीने की गर्भवती बीवी व बेटी को 800 किमी खींचकर लाया मजदूर

New Delhi | यह बालाघाट का एक मजदूर है, जो हैदराबाद में नौकरी करता था। वह 800 किलोमीटर दूर से हाथ से बनी लकड़ी की एक गाड़ी में बैठा कर अपनी आठ महीने की गर्भवती पत्नी और दो साल...

Corona Virus Crisis | वायरस से पहले घायल भारत!

New Delhi | 25 मार्च से 15 मई के 52 दिनों में भारत में लोग इतना पैदल चले हैं, गर्मी में इतने झुलसे हैं, इतने प्यासे-भूखे रहे हैं, थके हैं, टूटे, मरे हैं कि मानवता की याददाश्त में महामारी...

कोरोना के बाद क्या-क्या बदलेगा?

कोरोना वायरस की महामारी को लेकर गंभीर सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक विमर्श के साथ साथ कुछ हल्की-फुल्की चर्चाएं भी चल रही हैं। सब अपने हिसाब से अंदाजा लगा रहे हैं कि कोरोना वायरस खत्म हो जाएगा या जब सब लोग इसके साथ जीना सीख जाएंगे तो जीवन कैसा होगा।
- Advertisement -spot_img

Latest News

Delhi में भयंकर आग से Rohingya शरणार्थियों की 53 झोपड़ियां जलकर खाक, जान बचाने इधर-उधर भागे लोग

नई दिल्ली | दिल्ली में आग (Fire in Delhi) लगने की बड़ी घटना सामने आई है। दक्षिणपूर्व दिल्ली के...
- Advertisement -spot_img