सभ्यताओं की कोडिंग और शिकार हिंदू!

तोजैसे लोग वैसी सभ्यता। जैसी सभ्यता वैसा व्यवहार। हर सभ्यता की एंथ्रोपोलॉजी अलग, मनोविज्ञान अलग, राजनीतिक संस्कृति अलग। शरीर भले एक सा बॉयोलॉजिक लेकिन आत्मा अलग-अलग। जैविक दिमाग एक लेकिन उसकी प्रोग्रामिंग, क़ोडिंग अलग-अलग।