कोविड-19 : भय के बीच भारतीय सेना मुख्यालय बंद

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा कोविड-19 से लड़ने के लिए किए गए संपूर्ण लॉकडाउन के आह्वान के बाद रायसीना हिल के साउथ ब्लॉक में स्थित भारतीय सेना का मुख्यालय बुधवार को बंद रहा। सूत्रों ने कहा कि सेना मुख्यालय गुरुवार से लगभग 15 प्रतिशत कर्मचारियों के साथ काम करेगा। सैन्य मामलों के विभाग का कार्यालय बुधवार को भी बंद रहा। कोविड-19 के बारे में बात करते हुए, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत ने कहा कि देश एक ऐसे मोड़ पर है, जहां सशस्त्र बलों को अपने मैन्डेट से परे काम करना होगा और देश को कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ाई में मदद करनी होगी। इससे पहले, बल ने मुख्यालय में 50 प्रतिशत कर्मचारियों को कम कर दिया था और अपने कर्मियों के लिए सोशल डिस्टेन्सिंग से संबंधित दिशानिर्देश जारी किए थे। भारतीय सेना प्रमुख ने सीधे कोविड-19 के प्रसार को नियंत्रित करने के उपाय करने में शामिल आवश्यक और आपातकालीन सेवाओं में लगे कर्मियों को छोड़कर 23 मार्च, 2020 से कार्यालयों में उपस्थिति कम करने का निर्देश दिया था। भारतीय सेना ने सोमवार को अपने कैंटीन स्टोर बंद कर दिए और किराना और आवश्यक सामानों की होम डिलीवरी देने का फैसला किया। एडवाइजरी में कहा गया है कि… Continue reading कोविड-19 : भय के बीच भारतीय सेना मुख्यालय बंद

जनरल रावत पर निगाहें

जनरल बिपिन रावत भारत के पहले चीफ ऑफ डिफेन्स स्टाफ (सीडीएस) बन गए हैं। सीडीएस चार सितारा जनरल होंगे। उनकी भूमिका भारतीय सेना के तीनों अंगों के बीच बेहतर तालमेल बनाने की होगी। 31 दिसंबर 2019 तक थल सेना प्रमुख रहे जनरल बिपिन रावत को पहला सीडीएस बनने का मौका मिला है। जनरल रावत थल सेना के अध्यक्ष रहे हैं, लेकिन अब चूंकि उन पर थल सेना, वायु सेना और नौ सेना के बीच तालमेल बनाने की जिम्मेदारी है, तो जाहिर है उन पर निगाहें टिकी होंगी। जनरल रावत जो मिसाल कायम करेंगे, उनका आगे अनुपालन किया जाएगा। सीडीएस प्रधानमंत्री को सैन्य अभियानों और दीर्घकालिक रक्षा नियोजन और प्रबंधन के विषय में सेना के तीनों अंगों की राय से परिचित भी कराएंगे। वे नए सैन्य मामलों के विभाग के मुखिया भी होंगे। उन्हें वेतन सेना प्रमुख के स्तर का ही मिलेगा। सेना प्रमुख की अधिकतम आयु 62 साल की होती है, जबकि सीडीएस की अधिकतम आयु सेना नियमों को संशोधित कर 65 तक कर दी गई है। भारत में सीडीएस पद के स्थापना को लेकर बातचीत लंबे समय से चल रही थी। पहली बार इसकी स्थापना का प्रस्ताव कारगिल युद्ध के बाद 2000 में बनी कारगिल समीक्षा समिति ने दिया… Continue reading जनरल रावत पर निगाहें

भारत को नए जनरल रावत मिल गए

जनरल बिपिन रावत थल सेना प्रमुख पद से रिटायर हुए और उसके साथ ही नए सैन्य प्रमुख बन गए। वे देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बनाए गए हैं। उनकी जगह जनरल मनोज मुकुंद नरवाने नए सेना प्रमुख बने हैं। उन्होंने सेना की कमान संभालते ही जो पहला बयान दिया उससे साफ हो गया कि वे जब तक सेना प्रमुख रहेंगे लोगों को जनरल बिपिन रावत की कमी नहीं महसूस होने देंगे।

मोदी, राजनाथ ने नवनियुक्त सीडीएस को बधाई दी

नई दिल्ली। जनरल बिपिन रावत के चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) के तौर पर कार्यभार संभालने के बाद बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने उनके सफल कार्यकाल के लिए उन्हें बधाई दी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक साथ कई ट्वीट करते हुए देश के पहले सीडीएस के लिए शुभकामनाएं व्यक्त की। रक्षामंत्री राजनाथ ने जनरल रावत को सफल कार्यकाल के लिए अपनी शुभकामनाएं दी। मोदी ने नवनियुक्त सीडीएस जनरल बिपिन रावत को बधाई देते हुए कहा मुझे खुशी है कि नए साल और नए दशक की शुरुआत के साथ भारत को जनरल बिपिन रावत के रूप में पहला चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ मिला है। मैं उन्हें बधाई देता हूं। वह एक उत्कृष्ट अधिकारी हैं, जिन्होंने बड़े उत्साह के साथ भारत की सेवा की है। मोदी ने कारगिल युद्ध में शहीद हुए सैनिकों को श्रद्धांजलि भी दी और याद दिलाया कि युद्ध के बाद सीडीएस की नियुक्ति पर चर्चा हुई थी। उन्होंने ट्वीट किया पहले सीडीएस के पदभार ग्रहण करते ही, मैं उन सभी को श्रद्धांजलि देता हूं, जिन्होंने हमारे देश के लिए अपनी सेवा दी है और अपने प्राणों को न्यौछावर किया है। मैं कारगिल में लड़े बहादुर जवानों को याद करता हूं, जिसके बाद हमारी… Continue reading मोदी, राजनाथ ने नवनियुक्त सीडीएस को बधाई दी

सरकार ने सैन्य मामलों का नया विभाग बनाया, सीडीएस होंगे इसके प्रमुख

नई दिल्ली। सरकार ने रक्षा मंत्रालय में सैन्य मामलों का एक नया विभाग बनाया है और नवनियुक्त चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत इसके प्रमुख होंगे। मंगलवार को जारी एक सरकारी आदेश में यह जानकारी दी गई। थल सेना प्रमुख के रूप में तीन साल का कार्यकाल पूरा कर चुके जनरल रावत को सोमवार को देश का पहला सीडीएस नामित किया गया था। आदेश के अनुसार नए विभाग के पास तीनों सेनाओं – थल सेना, नौसेना और वायु सेना से संबंधित कार्य होंगे। इसके अलावा मौजूदा नियमों और प्रक्रियाओं के अनुसार पूंजीगत खरीद को छोड़कर सेवाओं के लिए विशिष्ट खरीद की भी जिम्मेदारी नए विभाग के पास होगी। इस आदेश में कहा गया है कि विभाग संयुक्त और थिएटर कमानों की स्थापना सहित संचालन में सहयोग के जरिए संसाधनों के अधिकतम उपयोग के लिए सैन्य कमांड के पुनर्गठन की सुविधा सुनिश्चित करेगा। इसके अलावा यह संयुक्त योजनाओं और आवश्यकताओं के एकीकरण के जरिए सैन्य सेवाओं में खरीद, प्रशिक्षण और स्टॉफ की नियुक्ति की प्रक्रिया में समन्वय लाएगा। साथ ही विभाग सेना में स्वदेश निर्मित उपकरणों के इस्तेमाल को बढ़ावा देगा। इसे भी पढ़ें : केरल विधानसभा में सीएए को वापस लेने की मांग वाला प्रस्ताव पारित राष्ट्रपति रामनाथ… Continue reading सरकार ने सैन्य मामलों का नया विभाग बनाया, सीडीएस होंगे इसके प्रमुख

विकेन्द्रीकरण से आवंटित राशि का इस्तेमाल संभव हुआ : राजनाथ

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि वित्तीय अधिकारों के विकेन्द्रीकरण के चलते मंत्रालय को पिछले तीन वर्षों में आवंटित राशि का पूरी

राजनाथ सिंह से की सेना के तीनों अध्यक्षों से मुलाकात

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सोमवार को सेना के तीनों प्रमुखों सेनाध्यक्ष जनरल बिपिन रावत, नौ सेनाध्यक्ष एडमिरल करमबीर सिंह और वायु सेना अध्यक्ष एयर चीफ मार्शल आर के एस भदौरिया ने मुलाकात की।

और लोड करें