प्रवासी श्रमिकों के लिये सड़कों पर हैं 12 हजार बसें : योगी

प्रवासी श्रमिकों से पैदल और अवैध वाहनो से यात्रा नहीं करने की अपील करते हुये उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राज्य सड़क परिवहन निगम की 12 हजार बसें प्रवासी श्रमिकों को उनके गृह जिले पहुंचा रही हैं।

श्रमिको के साथ बसों को जाने की अनुमति दे योगी सरकार : प्रियंका

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा है कि लॉकडाउन के कारण पीड़ा झेलते हुए पैदल चल रहे श्रमिको को सम्मानपूर्वक घर भेजने की जिम्मेदारी सबकी है

नोएडा व गाजियाबाद शाम 5 बजे तक पहुंचेंगी बसें : कांग्रेस

कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश सरकार से कहा कि पार्टी प्रवासियों को भेजने के लिए बसों को शाम 5 बजे तक गाजियाबाद और नोएडा के जिला मजिस्ट्रेट (जिलाधिकारी) को सौंप देगी।

बस मुद्दे पर कांग्रेस और योगी सरकार के बीच तेज हुयी जुबानी जंग

लाकडाउन में रोजी रोटी गंवा कर घर वापसी कर रहे प्रवासी श्रमिकों की सहानुभूति की खातिर बसों के इंतजाम को लेकर कांग्रेस और उत्तर प्रदेश सरकार के बीच छिड़ी जुबानी तकरार लगातार चौथे दिन आज भी जारी है।

पंजाब और चंडीगढ़ बस भेजे कांग्रेस: मायावती

बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने आज कहा कि कांग्रेस को अपनी 1000 बसें उत्तरप्रदेश भेजने की बजाय पंजाब और चंडीगढ़ भेजनी चाहिए ताकि प्रवासी मजदूर यमुना

दिल्ली के लिए विशेष बसें चलाएगी हरियाणा सरकार

कोरोनावायरस संक्रमण की रोकथाम के मद्देनजर लागू देशव्यापी लॉकडाउन के कारण राष्ट्रीय राजधानी में फंसे लोगों को एक बड़ी राहत देते हुए हरियाणा सरकार ने अब 18 मई

दिल्ली सरकार को मिले बस, मेट्रो और बाजार खोलने के प्रस्ताव

दिल्ली सरकार को लॉक डाउन के दौरान मेट्रो और सीमित संख्या में बसें चलाने का सुझाव मिला है। दिल्ली सरकार के मुताबिक उन्हें इस दौरान दिल्ली के बाजार खोले

मजदूरों को मिली बस!

नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और इससे सटे राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, एनसीआर के इलाकों से पैदल ही अपने घर की ओर रवाना हुए हजारों मजदूरों को उत्तर प्रदेश सरकार ने बसों की सुविधा मुहैया कराई है। शनिवार को राज्य सरकार की ओर से बसें मुहैया कराई गईं, जिनसे इन मजदूरों को उत्तर प्रदेश और बिहार में उनके गृह जिलों तक पहुंचाया जाएगा। हालांकि ये बसें भी सभी मजदूरों को नहीं मिलीं। हजारों की संख्या में मजदूर पैदल ही चलते रहे। दिल्ली से तीन-चार सौ किलोमीटर की दूरी तक के गांवों के रहने वाले मजदूर पैदल ही अपने घर पहुंच गए। दिल्ली, नोएडा, गाजियाबाद, साहिबाबाद, गुड़गांव, मानेसर जैसे इलाकों से हजारों की संख्या में मजदूरों का पलायन तीन दिन से चल रहा था पर शुक्रवार को न्यूज चैनलों और सोशल मीडिया में इसके वीडियो वायरल हुए, जिसके बाद सरकार की नींद खुली और कुछ बसों की व्यवस्था की गई। हालांकि इसके बावजूद ज्यादातर मजदूर पैदल ही चलते रहे। इनमें कई मजदूर बीमार भी हुए। शुक्रवार की रात से रास्ते में खाने-पीने की व्यवस्था हो जाने से मजदूरों की मुश्किल थोड़ी कम हुई। बहरहाल, उत्तर प्रदेश के एक अधिकारी ने शनिवार को बताया कि मुख्यमंत्री ने शुक्रवार की रात को ही एक… Continue reading मजदूरों को मिली बस!

बस और ट्रक की भिडंत में पांच लोगों की मौत, 32 लोग घायल

मध्यप्रदेश के जबलपुर जिले के बरगी बायपास पर बसंत नगर के पास एक बस और ट्रक की टक्कर में पांच लोगों की मौत हाे गई और 32 लोग घायल हो गए हैं।

नागरिकता कानून : दिल्ली में व्यापक प्रदर्शन

नागरिकता संशोधन अधिनियम को लेकर राष्ट्रीय राजधानी में रविवार को व्यापक हिंसक प्रदर्शन किया गया। इस दौरान भीड़ ने चार बसों में आग लगा दी

और लोड करें