गाजियाबाद में फिर इंटरनेट बंद

नई दिल्ली। संशोधित नागरिकता कानून का विरोध शुरू होने के बाद से राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में इंटरनेट बंद होने का सिलसिला जारी है। दिल्ली से सटे गाजियाबाद में एक बार फिर अगले 24 घंटे के लिए इंटरनेट सेवाएं बंद रखने का ऐलान किया गया है। शुक्रवार को जुम्मे की नमाज के बाद कानून व्यवस्था बिगड़ने की आशंका से प्रशासन ने गुरुवार रात दस बजे से शुक्रवार रात दस बजे तक इंटरनेट सेवाओं को बंद रखने का फैसला लिया है। गाजियाबाद के डीएम अजय शंकर पांडेय ने ये निर्देश दिए हैं। नागरिकता कानून पर मचे बवाल के बीच इससे पहले बीते गुरुवार को भी गाजियाबाद सहित यूपी के कई जिलों में इंटरनेट सेवाओं पर रोक लगाई गई थी।

नागरिकताः सरकारी शीर्षासन

नए नागरिकता कानून ने हमारे नेताओं को अधर में लटका दिया है। पड़ौसी मुस्लिम देशों के मुस्लिम शरणार्थियों को नागरिकता दें या न दें, इस सवाल ने प्रधानमंत्री और गृहमंत्री को यह कहने के लिए मजबूर कर दिया है कि भारत सरकार अब ‘राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर’ (एनआरसी) बनाएगी ही नहीं।  ऐसा कहकर नरेंद्र मोदी और अमित शाह ने भारत सरकार और भाजपा, दोनों को ही शीर्षासन करवा दिया है। उन्होंने कहा है कि सरकार तो सिर्फ ‘राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर’ ही बना रही है, जो अटलजी की भाजपा सरकार और डा. मनमोहनसिंह की कांग्रेस सरकार के दौरान भी बनता रहा है। जनसंख्या रजिस्टर और नागरिक रजिस्टर में फर्क यह है कि पहले में जो भी भारत में छह महिने से रहता है, वह अपना नाम लिखा सकता है लेकिन दूसरे में हर व्यक्ति के बारे में सप्रमाण विस्तृत जानकारी मांगी जाएगी और यदि उसकी जांच में कोई कमी पाई गई तो उसे नागरिकता नहीं दी जाएगी। उसे घुसपैठिया करार दिया जाएगा। मोदी और शाह देश में फैले जन-आंदोलन से इतना घबरा गए हैं कि दोनों ने कह दिया है कि हम नागरिकता रजिस्टर बना ही नहीं रहे जबकि भाजपा के 2019 के घोषणा-पत्र में उक्त रजिस्टर बनाने का साफ-साफ वादा किया… Continue reading नागरिकताः सरकारी शीर्षासन

मोदी को सार्वजनिक संपत्ति के नुकसान की चिंता!

लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नागरिकता कानून के विरोध में हुए प्रदर्शनों में सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाए जाने पर चिंता जताई है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में जिस तरह लोगों ने हिंसा की, संपत्ति को नष्ट किया वो अपने घर में बैठ कर सोचें कि क्या ये सही था? गौरतलब है कि राज्य के मुख्यमंत्री ने सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वालों की पहचान कर उनसे इसकी भरपाई करने का अभियान छेड़ा है। बहरहाल, प्रधानमंत्री ने राज्य के युवाओं से यह भी कहा कि आजादी के बाद से अधिकारों पर सबसे ज्यादा जोर रहा है पर अब दायित्वों के निर्वहन पर ध्यान देने की जरूरत है। पूर्व प्रधानमंत्री दिवंगत अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती के मौके पर लखनऊ में आयोजित एक समारोह में प्रधानमंत्री मोदी ने सार्वजनिक संपत्ति के नुकसान पर चिंता जताई और प्रदर्शनकारियों से कहा- उन्हें इसके लिए आत्मचिंतन करना चाहिए। मोदी ने कहा- सरकारी संपत्ति को तोड़ने वालों को मैं कहना चाहूंगा कि बेहतर सड़क, बेहतर ट्रांसपोर्ट सिस्टम, उत्तम सीवर लाइन नागरिकों का हक है तो इसे सुरक्षित रखना और साफ-सुथरा रखना भी तो उनका कर्तव्य। उन्होंने कहा- आज अटल सिद्धि की इस धरती से मैं यूपी के युवा साथियों को, यहां के हर नागरिक… Continue reading मोदी को सार्वजनिक संपत्ति के नुकसान की चिंता!

और लोड करें