chinnamasta jayanti 2023

  • सर्वमनोरथ, सर्वसिद्धि प्रदात्री महाविद्या छिन्नमस्ता

    महाविद्या छिन्नमस्ता से सम्बन्धित कथाएं मार्कण्डेय पुराण के देवी सप्तशती में और शिव पुराण में अंकित प्राप्य हैं। पौराणिक व तांत्रिक ग्रन्थों के अनुसार छिन्नमस्ता ने ही चंडी स्वरूप धारण करके असुरों का संहार किया था। देवी छिन्नमस्ता प्रत्यालीढपदा हैं, अर्थात युद्ध के लिए सदैव तत्पर एक चरण आगे और एक चरण पीछे करके वीर भेष में छिन्नशिर और खंग धारण किये हुए खड़ी हैं।हिमाचल प्रदेश के उन्ना जिले में चिन्तापुर्णी देवी के नाम से भगवती छिन्नमस्ता का भव्य मंदिर है। कामाख्या के बाद संसार के दूसरे सबसे बड़े शक्तिपीठ के रूप में विख्यात माता छिन्नमस्तिके मंदिर झारखण्ड की राजधानी...