लॉकडाउन बढ़ने की घोषणा का इंतजार

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए देश भर में लागू लॉकडाउन को दो हफ्ते के लिए आगे बढ़ाने पर सहमति बन गई है पर रविवार को इसकी घोषणा नहीं हुई। बताया जा रहा है कि शनिवार को मुख्यमंत्रियों के साथ प्रधानमंत्री की वीडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान इस पर सहमति बन गई थी। जानकार सूत्रों का कहना है कि इस बार दो हफ्ते के लिए बढ़ाया जाने वाला लॉकडाउन थोड़ा अलग हो सकता है। उसके लिए दिशा-निर्देश तैयार किए जा रहे हैं। सोमवार या मंगलवार को इसकी घोषणा हो सकती है। जानकार सूत्रों के मुताबिक सरकार कुछ कामकाज शुरू करने की इजाजत दे सकती है। बताया जा रहा है कि दो हफ्ते के लॉकडाउन के लिए पूरे देश को तीन जोन में बांटा जाएगा। इसके तहत ग्रीन, ऑरेंज और रेड जोन बनाए जाएंगे। लॉकडाउन को इन्हीं जोन के हिसाब से लागू किया जाएगा। माना जा रहा है कि ऑरेंज और ग्रीन जोन में कुछ गतिविधियों की इजाजत दे दी जाएगी। गौरतलब है कि शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मुख्यमंत्रियों की चार घंटे तक चली बैठक में लॉकडाउन दो हफ्ते बढ़ाने पर सहमति बन गई थी। बैठक के तुरंत बाद कई मुख्यमंत्रियों ने इसकी… Continue reading लॉकडाउन बढ़ने की घोषणा का इंतजार

क्या भारत में सामुदायिक संक्रमण नहीं?

भारत में अभी भी माना जा रहा है, प्रचार हो रहा है कि कम्युनिटी ट्रांसमिशन नहीं शुरू हुआ है। पर अलग अलग राज्यों से ऐसे कई ट्रेंड मिले हैं, जिनसे लग रहा है कि संक्रमण सामुदायिक हो गया है। जैसे मध्य प्रदेश में ज्यादातर मामलों में संक्रमण के सोर्स का पता नहीं चल पाया है।

भारत का दावा कितना सही है?

विदेश मंत्रालय, स्वास्थ्य मंत्रालय और इंडियन कौंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च, आईसीएमआर की मंगलवार की साझा प्रेस कांफ्रेंस में कई अहम बातें कही गईं। भारत में कोरोना वायरस का संक्रमण फैलने की स्पीड कम कर देने के दावे के साथ-साथ यह भी कहा गया कि भारत और दुनिया के दूसरे देशों की तुलना नहीं की जा सकती है। खासतौर से अमेरिका से तुलना से अधिकारियों ने इनकार कर दिया। यह सही है कि किसी भी देश की तुलना दूसरे देश से नहीं की जा सकती है। क्योंकि अलग अलग देशों में वायरस अलग-अलग तरीके से फैला है। हर देश की सामाजिक संस्कृति अलग है, लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता अलग है, देश का जलवायु अलग है और इसके संक्रमण को रोकने के तरीके भी अलग हैं। इसलिए तुलना करना ठीक नहीं है। पर सवाल है कि जब दूसरे देशों से तुलना नहीं हो सकती है तो फिर उनके मुकाबले अपने यहां इस वायरस के कम संक्रामक होने, कम घातक होने या कम फैलने का दावा कैसे किया जा सकता है? भारत की ओर से दावा किया गया कि पिछले एक हफ्ते में भारत में इस वायरस का संक्रमण तेजी से फैला है इसके बावजूद दुनिया के दूसरे देशों के मुकाबले भारत में… Continue reading भारत का दावा कितना सही है?

कम्युनिटी संक्रमण शुरू नहीं

नई दिल्ली। भारत सरकार ने देश में कोरोना वायरस का कम्युनिटी संक्रमण शुरू होने की खबरों का खंडन किया है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को बताया कि देश में कोरोना वायरस का संक्रमण अभी कम्युनिटी लेवल पर नहीं पहुंचा है, यह लोकल लेवल पर ही फैल हो रहा है। मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने लॉकडाउन को सफल बनाने की अपील करते हुए कहा कि समाज के हर एक व्यक्ति को सहयोग करना होगा, वरना अब तक संक्रमण को रोकने के जो भी नतीजे सामने आए हैं, वह सब बेकार हो जाएंगे। उन्होने देश में हो रही जांच के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि कोरोना की जांच के लिए 115 सरकारी और 47 निजी लैब हैं। नेशनल इंस्टीट्यूट आफ मेंटल हेल्थ के की ओर से डॉक्टरों की ट्रेनिंग करवाई जा रही है। इंडियन कौंसिल मेडिकल रिसर्च, आईसीएमआर ने बताया- अब तक 38,442 टेस्ट किए गए हैं। इनमें से 3,501 टेस्ट रविवार को किए गए थे। आईसीएमआर ने कहा- हम अभी भी अपनी परीक्षण क्षमता के 30 फीसदी से कम हैं। पिछले तीन दिनों में 1,334 परीक्षण निजी लैब्स में किए गए हैं। उन्होंने देश के लोगों से कहा कि सौ फीसदी फीसदी अलर्ट रहें और देश को… Continue reading कम्युनिटी संक्रमण शुरू नहीं

कम्युनिटी ट्रांसमिशन की बात गलत

नई दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस के स्टेज तीन में पहुंच जाने और इस वायरस का कम्युनिटी ट्रांसमिशन शुरू हो जाने की खबरों को अफवाह बताते हुए केंद्र सरकार ने इसका खंडन किया है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि अभी तक भारत में कोरोना संक्रमण के कम्युनिटी ट्रांसमिशन के जरिए फैलने के ठोस प्रमाण नहीं मिले हैं। गौरतलब है कि कोरोना संक्रमित वस्तु या किसी और माध्यम से संक्रमण जब आम लोगों के बीच फैलता है तो उसे कम्युनिटी संक्रमण कहा जाता है। इस बीच केंद्र सरकार ने लॉकडाउन से लोगों को हो रही परेशानियों को देखते हुए दवाओं की होम डिलीवरी को मंजूरी दे दी है। जल्दी ही इसकी अधिसूचना जारी कर दी जाएगी। गुरुवार को स्वास्थ्य मंत्रालय में संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने इस वायरस के संक्रमण की जानकारी देते हुए कहा- सोशल डिस्टेंसिंग जरूरी है। इससे चेन ऑफ ट्रांसमिशन को तोड़ सकते हैं। अभी भी सतर्कता बरतने की जरूरत है। लापरवाही न करें। उन्होंने कहा कि राज्यों और जिलों में लॉकडाउन सौ फीसदी फॉलो किया जाए। सारे लोग नैतिक जिम्मेदारी दिखाते हुए इसमें सहयोग करें। उन्होंने आगे कहा- पॉजिटिव केस में नंबर बढ़ रहे हैं, मौतें भी हो रही हैं। कोरोना संक्रमण की दर में कमी… Continue reading कम्युनिटी ट्रांसमिशन की बात गलत

और लोड करें