भ्रामक प्रचार पर अंकुश कैसे लगे!

विकसित देशों में ऐसा नहीं होता। मैगी की नौ किस्में बनाने वाली स्विटजरलैंड की कंपनी नेस्ले कई दशक पहले धुंआधार प्रचार के जरिए बच्चों के लिए स्वास्थ्य के कथित रूप से बेहतर विकल्प के तौर पर विकासशील देशों के बाजारों में दूध उतारा था।