राजस्थान में आप की जबरदस्ती पंचायत

राजस्थान में कांग्रेस पार्टी में बगावत हुई और सचिन पायलट कुछ विधायकों को लेकर हरियाणा के किसी होटल में पहुंच गए।

विधायकों का मामला 24 जुलाई तक टला

सचिन पायलट के नेतृत्व में बागी हुए कांग्रेस विधायकों पर हाई कोर्ट का फैसला फिर टल गया है। हाई कोर्ट ने इसे 24 जुलाई तक के लिए टाल दिया है और इस दौरान विधायकों पर कोई कार्रवाई नहीं करने का निर्देश दिया है।

सीबीआई सक्रिय तो एसीबी भी

राजस्थान में चल रही सियासी उठापटक के बीच केंद्र और राज्य सरकार दोनों की एजेंसियां सक्रिय हैं।

पायलट के लिए जहाज में जगह नहीं

राजस्थान उच्च न्यायालय का फैसला कांग्रेस के बागी नेता सचिन पायलट के या तो पक्ष में आएगा या विरोध में आएगा। या हो सकता है कि अदालत सारे मामले को विधानसभा अध्यक्ष पर ही छोड़ दे।

दलबदल के लिए 35 करोड़ रू का ऑफर!

राजस्थान कांग्रेस के एक विधायक गिर्राज मलिंगा ने सचिन पायलट पर बड़ा आरोप लगाया है।

गहलोत बुलाएगें विधानसभा सत्र?

राजस्थान में कांग्रेस नेता सचिन पायलट और उनके साथ कुछ विधायकों की बगावत से पैदा हुई अस्थिरता को खत्म करने के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत विधानसभा का सत्र बुला सकते हैं। बताया जा रहा है कि उन्होंने इसकी तैयारी शुरू कर दी है और बुधवार को सत्र बुलाया जा सकता है।

भाजपा कर रही लोकतंत्र की हत्या: कांग्रेस

राजस्थान में चल रही सियासी उठापटक के बीच कांग्रेस पार्टी ने भाजपा पर तीखा हमला किया है। कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि भाजपा लोकतंत्र की हत्या करने का प्रयास कर रही है। कांग्रेस के केंद्रीय नेतृत्व की ओर से पर्यवेक्षक बना कर भेजे गए वरिष्ठ नेता अजय माकन ने रविवार को एक प्रेस कांफ्रेंस की, जिसमें उन्होंने कहा कि राजस्थान में लोकतंत्र की हत्या हो रही है। अगर ऐसा ही चलता रहा तो लोग वोट डालने नहीं जाएंगे।

पैसों पर ईमान बेचते नेता

राजस्थान के राजनीतिक दंगल ने अब एक बड़ा मजेदार मोड़ ले लिया है। कांग्रेस मांग कर रही है कि भाजपा के उस केंद्रीय मंत्री को गिरफ्तार किया जाए, जो रिश्वत के जोर पर कांग्रेसी विधायको को पथभ्रष्ट करने में लगा हुआ था।

बेढब दौर के जनद्रोहियों की दास्तान

सवाल कांग्रेस का नहीं है, सवाल भारतीय जनता पार्टी का नहीं है, सवाल सचिन पायलट का नहीं है और सवाल अशोक गहलोत का भी नहीं है।

कांग्रेस ने राजस्थान संकट के दौरान राहुल की चुप्पी का बचाव किया

जहां एक ओर राजस्थान में सचिन पायलट के बगावती तेवर के कारण काग्रेस संकट का सामना कर रही है, वहीं पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

समस्या कांग्रेस के अंदर है

सचिन पायलट की महत्त्वाकांक्षाएं अत्यधिक हैं, यह साफ है। उन्हें ना तो राजस्थान और बाकी देश में फैली महामारी की फिक्र है, ना ही इस बात की उनकी महत्त्वाकांक्षा उस पार्टी के लिए मददगार बन रही है, जिसकी कड़े शब्दों में वे हाल तक आलोचना करते रहे हैं।

दिल्ली के मीडिया का पायलट प्रेम

सचिन पायलट दिल्ली की मीडिया में खास कर अंग्रेजी मीडिया में बहुत लोकप्रिय रहे हैं। अंग्रेजी मीडिया के कई पत्रकार तो ऐसे हैं, जो उनके लिए कुछ भी करने को तैयार रहते हैं।

कांग्रेस के युवा नेताओं की चुप्पी!

कांग्रेस पार्टी में पिछले काफी समय से युवा यानी नई पीढ़ी बनाम पुरानी पीढ़ी का विवाद चल रहा है। राजस्थान में सचिन पायलट की बगावत के बाद एक बार फिर इस पर फोकस है।

कार्ति का निशाना किस पर?

राजस्थान में सचिन पायलट का प्रकरण शुरू होने के बाद पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम के बेटे और शिवगंगा सीट से के सांसद कार्ति चिदंबरम ने छायावादी अंदाज में लिखे हुए दो ट्विट किए

कांग्रेस का संकट विचार का है

कांग्रेस में जब से संकट का नया दौर शुरू हुआ तब से कोई कह रहा है कि वहां नए टैलेंट की परवाह नहीं है तो कोई कह रहा है कि कांग्रेस में अनुभव की कद्र नहीं है और किसी का कहना है कि पार्टी में नेतृत्व अच्छा नहीं है पर असली बात कोई नहीं कह रहा है कि कांग्रेस में विचार का संकट है।

और लोड करें