राहुल के कितने साथी पार्टी छोड़ गए?

सिर्फ गिनती करनी है कि राहुल गांधी ने कांग्रेस पार्टी के उपाध्यक्ष और फिर अध्यक्ष और अब पूर्व अध्यक्ष के रूप में कितने नेताओं को आगे बढ़ाया और उनमें से कितने आज उनके साथ हैं।

दिग्विजय का डटना और कांग्रेस का हौसला

digvijay singh protest : कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह जब एक विरोध प्रदर्शन कर रहे थे तो उन्हें बेरिकेट्स लगाकर पुलिस ने रोका। 74 साल के दिग्विजय बेरिकेट्स पर चढ़ गए। पुलिस ने लाठियां मारीं। तेज पानी की बौछारें फैंकीं। मगर दिग्विजय डटे रहे। तेज पानी की धार ने उन्हें पीछे धकेला। मगर दिग्विजय फिर पलट कर आए। कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के लिए वह भारी हौसला बढ़ाने वाला क्षण था। आज राहुल गांधी और प्रियंका के अलावा कांग्रेस का और कौन सा नेता ऐसा है जो सड़कों पर आकर इस तरह संघर्ष कर रहा हो? कैमरा उन दृश्यों के पीछे खुद भागता है मगर न्यूज चैनल उन्हें नहीं दिखा पाते। कैमरामेन निराश हो जाते हैं कि ऐसे जीवंत फुटेज भी नहीं लिए। मगर उन्हें समझाया जाता है कि यह विपक्ष के नेता के थे। इन्हें नहीं दिखाया जा सकता। ऐसा ही कुछ रविवार को भोपाल में हुआ। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह जब एक विरोध प्रदर्शन कर रहे थे तो उन्हें बेरिकेट्स लगाकर पुलिस ने रोका। 74 साल के दिग्विजय बेरिकेट्स पर चढ़ ( digvijay singh protest ) गए। पुलिस ने लाठियां मारीं। तेज पानी की… Continue reading दिग्विजय का डटना और कांग्रेस का हौसला

कांग्रेसी की राज्यों में बदली रणनीति

congress changed strategy in the states : कांग्रेस पार्टी प्रदेशों में अपने क्षत्रपों को एकछत्र राज देने की पिछले 20 साल से चली आ रही रणनीति को बदल रही है। कांग्रेस ने पहले भी इसका प्रयास किया था, लेकिन तब कामयाबी नहीं मिली थी और इस प्रयोग के चक्कर में आंध्र प्रदेश और तेलंगाना दोनों प्रदेश हाथ से निकल गए थे। अब ज्यादा व्यवस्थित तरीके से कांग्रेस यह प्रयास कर रही है कि प्रदेशों में एक क्षत्रप के हाथ में सब कुछ सौंपने की बजाय दो या तीन प्रादेशिक क्षत्रप तैयार किए जाएं। राजीव गांधी के समय तक ऐसा ही होता था। यह भी पढ़ें: हर क्षत्रप के पीछे एक नेता लगा है! कांग्रेस का बड़े से बड़ा नेता भी मुख्यमंत्री का पांच साल का कार्यकाल पूरा नहीं कर पाता था। आजादी की लड़ाई में शामिल रही पीढ़ी के कुछ नेताओं को छोड़ दें तो पूरे देश में अपवाद के लिए ही कुछ नेता होंगे, जिन्होंने मुख्यमंत्री का अपना कार्यकाल पूरा किया होगा। बिहार में डॉक्टर जगन्नाथ मिश्रा जैसे क्षत्रप नेता तीन बार भले मुख्यमंत्री बने पर कार्यकाल एक बार भी पूरा नहीं हुआ। उत्तर प्रदेश में नारायण दत्त तिवारी से लेकर वीपी सिंह तक कोई अपना कार्यकाल पूरा नहीं… Continue reading कांग्रेसी की राज्यों में बदली रणनीति

हर क्षत्रप के पीछे एक नेता लगा है!

congress leader high command : कांग्रेस पार्टी में इन दिनों कमाल हो रहा है। पार्टी ने पहले जो क्षत्रप तैयार किए और राज्यों में जिनको एकछत्र राज करने का अधिकार दिया उनके पीछे अब विरोधी नेताओं को लगा दिया है। कांग्रेस अपने को बदल रही है और पुराने क्षत्रपों को मैसेज दे रही है कि अगर वे पार्टी छोड़ना चाहते हैं तो उसके लिए स्वतंत्र हैं। अब पार्टी किसी एक नेता के हाथ में प्रदेश की एकछत्र कमान नहीं सौंपने वाली है। तभी पंजाब से लेकर हरियाणा और छत्तीसगढ़ से लेकर केरल, उत्तराखंड तक कई जगह ऐसा दिख रहा है। यह भी पढ़ें: चिराग पर है भाजपा की नजर छत्तीसगढ़ में कांग्रेस ने भूपेश बघेल की सत्ता अस्थिर कर दी है। पार्टी ने टीएस सिंहदेव को आगे किया और सिंहदेव दावा कर रहे हैं कि सरकार बनाते समय यह तय हुआ था कि दोनों ढाई ढाई साल तक मुख्यमंत्री रहेंगे। बघेल ने असम के चुनाव में बड़ी मेहनत की थी और पार्टी आलाकमान के सामने अपनी उपयोगिता साबित की थी। इसके बावजूद उनकी मुश्किल बढ़ी है। सिंहदेव मुख्यमंत्री पद पर दावेदार कर रहे हैं और कांग्रेस आलाकमान उनकी बात भी सुन रहा है। सो, भले मुख्यमंत्री नहीं बदला जाए पर… Continue reading हर क्षत्रप के पीछे एक नेता लगा है!

राहुल के ट्विटर का रिफ्रेशमेंट कब तक चलेगा?

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्विटर पर अपनी पार्टी के कुछ नेताओं और कुछ खास पत्रकारों को अनफॉलो किया तो पार्टी की ओर से सफाई दी गई कि राहुल गांधी के ट्विटर हैंडल का रिफ्रेशमेंट चल रहा है और वे जल्दी ही नई रणनीति के साथ लौटेंगे। हालांकि वे ट्विटर से कहीं गए नहीं फिर लौटने की बात कहां से हुई यह समझ में नहीं आया। पार्टी की ओर से यह भी कहा गया कि रिफ्रेशमेंट के बाद जब नई रणनीति से राहुल लौटेंगे तो हो सकता है कि उन लोगों को भी फॉलो करें, जिनको अभी अनफॉलो किया है। उन्होंने पिछले हफ्ते मंगलवार को इन नेताओं, पत्रकारों को अनफॉलो किया था और अब एक हफ्ता होने जा रहा है। लेकिन उन्हें फिर से फॉलो करने का कोई संकेत अभी तक नहीं मिला है। तभी यह सवाल उठाया जा रहा है कि आखिर राहुल की टीम के ऐसे लोग, जो परदे के पीछे काम कर रहे हैं उनको अनफॉलो करने का क्या मतलब है? उनको अनफॉलो करना था कि ऐसे नेताओं को करते, जिन्होंने पार्टी का भट्ठा बैठाया है या पार्टी में विवाद का कारण बने हैं, बेचारे अलंकार सवाई, बायजू या कौशल विद्यार्थी का क्या कसूर है!… Continue reading राहुल के ट्विटर का रिफ्रेशमेंट कब तक चलेगा?

अनफ़ॉलो तो राहुल गांधी ने मुझे भी कर दिया!

राहुल गांधी को मैं पहले भी फॉलो करता था, अब भी करता हूं और जब तक हूं, करता रहूंगा। क्योंकि उन में दम है। मैं उनकी ज़्यादातर बातों से सहमत हूं, लेकिन बहुत-सी बातों से नहीं। मैं उनके कर्मकांड के ज़्यादातर आयामों से सहमत हूं, लेकिन हर पहलू से नहीं। मुझे लगता है कि उन्हें स्वयं में, अपने आसपास की संरचना में और कांग्रेस के सांगठनिक ढांचे में कई संशोधन करने की ज़रूरत है। लेकिन उन्हें फ़ॉलो करने में मुझे तो इस से कोई विरोधाभास नहीं लगता। फॉलो करने का मतलब दंडवत-सहमति कहां से हो गया? कांग्रेस को ट्विटरमयी होने की ज़रूरत तो है, लेकिन ट्विटर के आगे जहॉ और भी हैं। पिछले तीन-चार दिनों से राहुल की अनुगमन-सूची राष्ट्रीय मीडिया के विमर्श का मसला जिस तरह बनी हुई है, वह मौजूदा मीडिया के बौद्धिक स्तर की प्रतिच्छाया है। लेकिन यह आभासी-जगत पर इस कदर आश्रित हो गए राजनीतिक दलों पर भी तो निरावृत्त टिप्पणी है। सोचिए ज़रा! यह भी पढ़ें: रास्ता बन गया है, आगे की फि़क्र कीजिए यह भी पढ़ें: हिमयुग के द्वार खड़ी नरेंद्र भाई की भाजपा मैं भी उन तक़रीबन चार दर्जन लोगों में हूं, जिन्हें दोबारा कांग्रेस-अध्यक्ष बनने में हीले-हवाली कर रहे पूर्व कांग्रेस-अध्यक्ष राहुल… Continue reading अनफ़ॉलो तो राहुल गांधी ने मुझे भी कर दिया!

राहुल की ट्विटर नीति से हलचल

नई दिल्ली। कांग्रेस पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी वैसे तो ट्विटर के जरिए ही इन दिनों राजनीति कर रहे हैं और केंद्र सरकार को निशाना बना रहे हैं लेकिन इस बार उन्होंने अलग कारणों से हलचल मचाई है। राहुल ने अपने कई करीबी सहयोगियों और वरिष्ठ पत्रकारों को अनफॉलो कर दिया है। उन्होंने सरकार के विरोधी माने जाने वाले कई पत्रकारों को भी अनफॉलो किया है, जिससे कई सवाल उठे हैं। राहुल गांधी ने फैक्ट चेक करने वाली वेबसाइट ऑल्ट न्यूज के प्रतीक सिन्हा को भी अनफॉलो कर दिया है। ध्यान रहे भाजपा ने जब एक टूलकिट जारी करके दावा किया कि यह कांग्रेस पार्टी ने तैयार किया है तो ऑल्ट न्यूज ने ही फैक्ट चेक करके बताया कि भाजपा दावा फर्जी है और इसी वेबसाइट की रिपोर्ट के आधार पर ट्विटर ने भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा के पोस्ट को मैनिपुलेटेड मीडिया का टैग दिया था। बहरहाल, प्रतीक सिन्हा को राहुल के अनफॉलो करने के बाद सोशल मीडिया में दक्षिणपंथी समूह प्रतीक सिन्हा को निशाना बना रहे हैं। राहुल गांधी ने वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई और बरखा दत्त को भी अनफॉलो कर दिया है। पार्टी ने बयान जारी कर कहा कि यह राहुल के अकाउंट का रिफ्रेशमेंट है। वे… Continue reading राहुल की ट्विटर नीति से हलचल

Corona पर कांग्रेस और भाजपा के बीच जुबानी जंग, Kapil Sibal बोले- आलोचना का नहीं, एक साथ खड़े होने का समय

नई दिल्ली | कोरोना महामारी से निपटने को लेकर कांग्रेस और भाजपा (Congress and BJP) के बीच जुबानी जंग छिड़ने के बाद, कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल (Kapil Sibal) ने आज कहा कि ये समय साथ खड़े होने का है,आलोचना करने का नहीं। सिब्बल ने एक ट्वीट में कहा, “स्टैंड टुगेदर इंडिया, यह साथ खड़े होने का समय है, ना कि आलोचना करने का जब हम इस लड़ाई को जीत लेंगे, उसके बाद पता लगा लेंगे की कौन सही है और कौन गलत। कोरोना महामारी (Corona epidemic) को लेकर पूर्व पीएम मनमोहन सिंह और विपक्षी दलों की सलाह ना मानने के लिए कांग्रेस पार्टी सरकार पर लगातार हमले कर रही है। कांग्रेस (Congress) ने मंगलवार को भाजपा (BJP पर घमंडी होने का आरोप लगाया। इसके तुरंत बाद भाजपा (BJP) अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) ने अंतरिम पार्टी प्रमुख सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) को पत्र लिखकर कहा कि मुद्दों को उठाना और महामारी पर सरकार को सुझाव देना विपक्षी दलों का कर्तव्य है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) को अंतरिम रूप से भेजे पत्र में, नड्डा ने उनकी पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि महामारी के खिलाफ लड़ाई में, कांग्रेस के पूर्व प्रमुख राहुल गांधी सहित कांग्रेस के शीर्ष नेताओं… Continue reading Corona पर कांग्रेस और भाजपा के बीच जुबानी जंग, Kapil Sibal बोले- आलोचना का नहीं, एक साथ खड़े होने का समय

Corona Epidemic : विदेशी सहायता लेने पर Rahul Gandhi ने की केंद्र सरकार की आलोचना

नई दिल्ली | कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने आज कोरोना महामारी (Corona epidemic) के बीच भारत (India) को विदेशी मदद लेने के लिए केंद्र सरकार (Central government) की आलोचना की और आरोप लगाया कि सरकार ने अपना काम ठीक से नहीं किया है। राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने ट्वीट किया, विदेशी सहायता प्राप्त करने पर भारत सरकार की बार – बार छाती ठोकना दयनीय है। यदि भारत सरकार ने अपना काम ठीक से किया होता तो हमें ऐसा ना करना पड़ता। राहुल गांधी ने नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली केंद्र सरकार (Central government) पर कोविड की खराब स्थिति को ना संभालने के लिए निशाना साधा। इसे भी पढ़ें – Rajasthan: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दिए निर्देश, Lockdown की हो सख्ती से पालना उन्होंने एक ट्वीट में एक हिंदी कैप्शन की फोटो अटैच करते हुए कहा, कि शहरों के बाद अब गाँव भी परमात्मा निर्भर (शहरों के बाद, गाँव भी भगवान की दया के लिए छोड़ दिए हैं ) कोविड 19 महामारी की दूसरी लहर अब गांव में कहर बरपा रही है। राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने पहले ट्वीट किया था कि देश के पीएम के लिए एक नए घर की जरूरत नहीं है, लेकिन ऑक्सीजन की जरूरत है, जो… Continue reading Corona Epidemic : विदेशी सहायता लेने पर Rahul Gandhi ने की केंद्र सरकार की आलोचना

खड़गे ने प्रधानमंत्री को दिए सुझाव

नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा में नेता विपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी है। अपनी पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी की तर्ज पर खड़गे ने भी प्रधानमंत्री मोदी को कोरोना वायरस से लड़ने के लिए कुछ सुझाव दिए हैं। खड़गे ने रविवार को लिखे पत्र में कहा कि सरकार को वैक्सीन और चिकित्सा उपकरणों पर टैक्स में छूट देनी चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि वैक्सीनेशन के लिए आवंटित किए गए 35 हजार करोड़ रुपए को खर्च किया जाए और ये सुनिश्चित करना चाहिए की देश के हर व्यक्ति का वैक्सीनेशन हो सके। मल्लिकार्जुन खड़गे ने प्रधानमंत्री को यह भी सुझाव दिया कि विदेशों से आ रही राहत सामग्री को बंटवाने के लिए प्रवासी मजदूरों की मदद ली जानी चाहिए। उन्होंने यह काम मनरेगा के तहत करवाने का सुझाव दिया। गौरतलब है कि हाल ही के दिनों में कांग्रेस नेता राहुल गांधी और पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के बाद प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखने वाले खड़गे तीसरे कांग्रेस नेता हैं। उन्होंने वैक्सीनेशन की रफ्तार बढ़ाने के लिए वैक्सीन बनाने वाली कंपनियों को अनिवार्य रूप से लाइसेंस देने की वकालत की। उन्होंने चिकित्सा उपकरणों पर टैक्स में छूट देने की भी… Continue reading खड़गे ने प्रधानमंत्री को दिए सुझाव

Former Maharashtra minister एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एकनाथ गायकवाड का कोरोना से निधन

मुंबई | देश में कोरोना महामारी का प्रकोप बना हुआ है कोरोना से मौतों का आकड़ा बढ़ता ही जा रहा है महाराष्ट्र (Maharashtra) के पूर्व मंत्री एवं कांग्रेस (Congress) के वरिष्ठ नेता एकनाथ गायकवाड (Eknath Gaikwad) का आज कोरोना संक्रमण (Corona infection) से निधन हो गया। पार्टी के सूत्रों ने इस बारे में बताया। वह 81 वर्ष के थे। सूत्रों ने बताया कि पूर्व सांसद महाराष्ट्र स्कूल शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड के पिता हैं। शहर के अस्पताल (Hospital) में उनका उपचार चल रहा था और सुबह करीब 10 बजे उन्होंने आखिरी सांस ली। एकनाथ गायकवाड (Eknath Gaikwad) मुंबई कांग्रेस के अध्यक्ष भी रहे हैं। इसे भी पढ़ें – टीम इंडिया के तेज गेंदबाज T Natarajan के घुटने की हुई सर्जरी, ऑस्ट्रेलिया दौरे पर किया था दमदार प्रदर्शन महाराष्ट्र कांग्रेस (Maharashtra Congress) के प्रवक्ता सचिन सावंत ने गायकवाड को ‘‘पिता तुल्य और मार्गदर्शक’ बताते हुए कहा, ‘गायकवाड का निधन बेहद दुखद है। सावंत ने ट्वीट किया, कांग्रेस (Congress) पार्टी और मुझे अपूरणीय क्षति हुई है। मेरे पास शब्द नहीं हैं। उन्हें श्रद्धांजलि। इसे भी पढ़ें – Corona Death Report: अब कर्नाटक में भी कोरोना से हुइ मौतों का कम आंकड़ा देने का मामला आया सामने 

कोरोना अपडेट : Rahul Gandhi आये कोरोना की चपेट में, पीएम Narendra Modi ने ट्वीट करके ये कहा

New Delhi | देश में कोरोना के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं। आये दिन किसी ना किसी के संक्रमित होने की खबर मिलती ही रहती है। इसी क्रम में कांग्रेस नेता राहुल गांधी कोरोना पॉजिटिव (Rahul Gandhi Corona Positive) पाए गए हैं। राहुल गांधी ने इस बात की जानकारी ट्वीट कर दी है। उन्होंने कहा है कि Mild Symptoms के बाद टेस्ट कराया और वे पॉजिटिव आए। राहुल ने हाल ही में उनके संपर्क में आने वाले लोगों से जरूरी एहतियात बरतने और सभी कोरोना नियमों का पालन करने की अपील की है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ट्वीट करके उनसे शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना की है।  कांग्रेस के युवा नेता सचिन पायलट ने भी ट्वीट किया है और राहुल गांधी के शीघ्र स्वास्थ्यलाभ की कामना की है। इसे भी पढ़ें Corona Update : बाहरी राज्यों से Rajasthan आने वाले लोग सावधान, Web Portal पर सूचनाएं डालनी होंगी अनिवार्य, ये रहा Link ये बड़े नेता भी हैं संक्रमित कांग्रेस नेता राहुल गांधी भी कोरोना पाॅजिटिव आए हैं। इससे पूर्व भारत के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह भी कोविड संक्रमित आए थे। वहीं राज्यसभा प्रतिपक्ष के उप नेता आनंद शर्मा भी कोविड से संक्रमित हुए हैं। बीजेपी के नेता और पीएमओ में राज्यमंत्री… Continue reading कोरोना अपडेट : Rahul Gandhi आये कोरोना की चपेट में, पीएम Narendra Modi ने ट्वीट करके ये कहा

कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव का क्या होगा?

अगले महीने कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव हो जाएगा या चुनाव अभी टला रहेगा? यह लाख टके का सवाल है, जिसका जवाब कांग्रेस का कोई नेता नहीं दे रहा है। सब बड़ी बेसब्री से चुनाव नतीजों का इंतजार कर रहे हैं। कई किस्म का कांटा-जोड़ चल रहा है। अगर कांग्रेस केरल में सरकार बना लेती है और तमिलनाडु में सहयोगी पार्टी डीएमके की सरकार बन जाती है और असम में विधानसभा त्रिशंकु हो जाती है तो इसका श्रेय राहुल गांधी को जाएगा। फिर वे जब चाहें तब अध्यक्ष बन सकते हैं। तब चुनाव को लेकर कोई आवाज नहीं उठेगी। लेकिन अगर केरल और असम के नतीजे अनुकूल नहीं आए तो कांग्रेस नेताओं के एक समूह तत्काल अध्यक्ष के चुनाव की मांग करेगा। हालांकि यह जरूरी नहीं है कि उनकी मांग पर का चुनाव हो जाए। अब भी कोरोना का ब्रह्मास्त्र बाकी है, जिसके बहाने चुनाव थोड़े दिन और टाला जा सकता है। लेकिन उसके नाम पर चुनाव ज्यादा नहीं टलेगा। महीने-दो महीने में जब केसेज कम होंगे तब चुनाव कराना होगा। मई-जून में संभावित चुनाव से पहले उत्तर प्रदेश के पंचायत चुनावों के नतीजे भी बहुत मायने वाले हैं। प्रियंका गांधी की टीम कांग्रेस को चुनाव लड़ा रही है। अगर कांग्रेस… Continue reading कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव का क्या होगा?

पार्टी के बड़े नेता राहुल के पक्ष में

कांग्रेस के तमाम बड़े नेता राहुल गांधी को अध्यक्ष बनाने के पक्ष में हैं। इन दिनों भारत की राजनीति में बड़ा नेता वह होता है, जो प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री या मंत्री होता है। बाकी नेताओं का कोई खास मतलब नहीं रह गया है। इस समय कांग्रेस के तीन मुख्यमंत्री हैं और तीनों चाहते हैं कि राहुल गांधी जल्दी से जल्दी कांग्रेस अध्यक्ष पद संभालें। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, पंजाब के कैप्टेन अमरिंदर सिंह और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कई बार  पार्टी फोरम में और कई बार सार्वजनिक रूप से कहा है कि राहुल को अध्यक्ष बनना चाहिए। इसलिए जब अध्यक्ष के चुनाव की बात आएगी तो ये तीनों मुख्यमंत्री उनके लिए अपनी ताकत लगाएंगे, जिसका मुकाबला करना जाहिर है कि बाकी लोगों के मुश्किल होगी। मुख्यमंत्रियों के बाद दूसरी ताकत राज्यों में पार्टी के पूर्व मुख्यमंत्रियों या सहयोगी पार्टियों में शामिल महत्वपूर्ण मंत्रियों की है। तो चाहे महाराष्ट्र हो या झारखंड दोनों जगह सरकार में शामिल नेता परिवार के प्रति पूरी तरह से प्रतिबद्ध हैं। पूर्व मुख्यमंत्रियों में केरल के एके एंटनी और ओमन चांडी, कर्नाटक के सिद्धरमैया व वीरप्पा मोईली, मध्य प्रदेश के कमलनाथ, महाराष्ट्र के सुशील शिंदे, पृथ्वीराज चव्हाण और अशोक चव्हाण, उत्तराखंड के हरीश रावत… Continue reading पार्टी के बड़े नेता राहुल के पक्ष में

संजय निरुपम से कांग्रेस नेता नाराज

रविशंकर प्रसाद की लाइन को ही आगे बढ़ाते हुए कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने कहा कि इस मामले में शरद पवार से पूछताछ होनी चाहिए।

और लोड करें