मौत के पाले को छूकर आना!

तो हो गयी अपनी भी कोविड-19 सेमुठभेड। भयानक, हाहाकारी और लगभग जानलेवा। बस यूं समझिए कि तीन रोज तक मौत से सीधा आमना-सामना था और मैं बस ज़िन्दगी और मौत के पाले को छूकर लौट आया। बीस रोज तक अस्पताल में कोविड से लड़ा।