दर्दनाक:  फौज में शामिल होने के बाद पहली बार 3 जून को घर आने वाला था ‘लाल’, अब उसी दिन पहुंचेगा पार्थिव शरीर

गाजीपुर |  सेना की नौकरी करना आसान बात नहीं है. जवानों के साथ ही घर वालों को भी अपने दिल पर पत्थर रखना पड़ता है. सेना में काम करने वाले परिवार के लोगों को कभी भी अप्रत्याशित सूचना मिल सकती है. ऐसा ही एक मामला गाजीपुर से सामने आया है. जानकारी के अनुसार पिछले साल सेना में भर्ती होने के बाद जवान पहली बार छुट्टी पर गाजीपुर अपने घर लौट रहा था. बेटे के घर आने की खबर से पूरा परिवार काफी खुश था. लेकिन शायद इनकी खुशियों को किसी की नजर लग गई. बेटे के लौटने वाले दिन के एक दिन पहले परिवार वालों को सूचना मिली की उनका बेटे अभिषेक यादव की एक सड़क हादसे में मृत्यु हो गई. इस खबर के मिलने से खुशियां मातम में बदल गई. 3 जून को पहली बार छुट्टियों में घर आ रहा था अभिषेक गाजीपुर के हरियाबाद थाना क्षेत्र के वृंदावन गांव निवासी रामजनम यादव का 23 वर्षीय पुत्र अभिषेक यादव पिछले साल सेना में भर्ती हुआ था और असम में तैनात था. अभिषेक नौकरी पाने के बाद पहली छुट्टी पर 3 जून को घर आने वाला था लेकिन 30 मई को जवानों की जीप खाई में पलट गई और हादसे… Continue reading दर्दनाक: फौज में शामिल होने के बाद पहली बार 3 जून को घर आने वाला था ‘लाल’, अब उसी दिन पहुंचेगा पार्थिव शरीर

गाजीपुर में भी गंगा में लाशें

गाजीपुर/बक्सर। बिहार के बक्सर के बाद अब उत्तर प्रदेश के गाजीपुर में गंगा में लाशें बहती दिखाई दी हैं। जिला प्रशासन ने कई लाशों को पानी से निकाल कर उनका अंतिम संस्कार कराया है। हालांकि जिला प्रशासन ने इस बात से इनकार किया है कि ये लाशें स्थानीय लोगों की हैं। अधिकारियों ने कहा है कि वे जांच करा रहे हैं कि शव कहां से आए हैं। मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक गाजीपुर में गंगा के किनारे एक किलोमीटर के इलाके में 50 से ज्यादा शव मिले हैं। पिछले दो दिन में एक सौ से ज्यादा शव मिलने की खबर है। बलिया में भी गंगा नदी में 12 शव मिलने की खबर है। माना जा रहा है कि कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह से हो रही बेहिसाब मौतों के कारण लोग अपनों का अंतिम संस्कार नहीं कर पा रहे हैं तो शवों को नदी में प्रवाहित कर रहे हैं या नदी के किनारे दफन कर रहे हैं। इस बीच उत्तर प्रदेश के गाजीपुर और बलिया में गंगा नदी में बड़ी संख्या में शव मिलने के बाद बिहार के बक्सर जिले के अधिकारियों ने अपने दावे को सही बताते हुए कहा कि उनके यहां मिले शव भी उत्तर… Continue reading गाजीपुर में भी गंगा में लाशें

UP : यमुना नदी में बहती मिली कई लाशें, कोरोना से मौतों की आशंका, लोग करने लगे जल प्रवाह!

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण ( COVID-19 ) के कारण कोहराम मचा हुआ है. कोरोना से रोजाना सैकड़ों लोगों की मौतों के कारण श्मशान घाट और क्रबिस्तान में लोगों को दाह संस्कार के लिए जगह नहीं मिल रही है. लोगों को घंटों इंतजार करना पड़ रहा है. इसी बीच हमीरपुर जिले ( Hamirpur District ) में एक चैंकाने वाला मामला आया है. यहां यमुना नदी  ( Yamuna River ) में कई लाशें बहती दिखी हैं. जिनके लिए कहा जा रहा है कि लोग शवों का अंतिम संस्कार जल प्रवाह से कर रहे हैं. यमुना नदी में शवों के मिलने के बाद हड़कंप मच गया है. ये भी पढ़ें:- Rajasthan Covid Update : फिर फूटा कोरोना बम, 24 घंटे में मिले 18231 नए कोरोना मरीज, 164 की गई जान लोग करने लगे जल प्रवाह! एएसपी अनूप कुमार के अनुसार, मामला सामने आने के बाद इलाके के पुलिस अधिकारी को वहां भेजा गया था. जिन्होंने बताया कि कानपुर के बाहरी जिले से ट्रैक्टर में लादकर दो शव लाए गए और उनका अंतिम संस्कार किया गया. शवों को देखकर ऐसा लगता है कि इन्हें जल प्रवाह किया गया है. एक लाश अधजली अवस्था में मिली है. ये लाश कानपुर देहात की तरफ… Continue reading UP : यमुना नदी में बहती मिली कई लाशें, कोरोना से मौतों की आशंका, लोग करने लगे जल प्रवाह!

Maharashtra : उच्च न्यायालय ने शवों के अंतिम संस्कार पर महाराष्ट्र सरकार, BMC से मांगा जवाब

मुंबई | बंबई उच्च न्यायालय (Bombay High Court) ने आज कहा कि कोरोना (Corona) से जान गंवाने वालों के शव घंटों तक नहीं रखे जा सकते और इसके साथ उसने महाराष्ट्र सरकार (Government of Maharashtra) तथा बीएमसी (BMC) से राज्य तथा मुंबई में श्मशानों की स्थिति के बारे में अदात को अवगत कराने का निर्देश दिया। मुख्य न्यायाधीश दीपांकर दत्ता और न्यायमूर्ति जी एस कुलकर्णी की पीठ ने कहा कि कई श्मशानों में शव के अंतिम संस्कार (Funeral) के लिए काफी इंतजार करना पड़ता है और पीड़ितों के रिश्तेदारों को श्मशान के बाहर कतार में लगे रहना पड़ता है। अदालत ने कहा, महाराष्ट्र सरकार (Government of Maharashtra) और अन्य नगर निकायों को इस मुद्दे के समाधान के लिए कुछ ठोस व्यवस्था तैयार करनी चाहिए। घंटों तक शव नहीं रखे जा सकते। अदालत (Court) ने कहा कि अगर श्मशान में कतार लगी हुई है तो अस्पतालों से शव नहीं छोड़े जाने चाहिए। न्यायमूर्ति कुलकर्णी ने महाराष्ट्र के बीड जिले की एक घटना का हवाला दिया जहां कोरोना (Corona) संक्रमण के शिकार 22 लोगों के शव को एक ही एंबुलेंस से श्मशान में पहुंचाया गया। इसे भी पढ़ें – Uttar Pradesh : Corona situation को प्रियंका गांधी ने योगी आदित्यनाथ को लिखा पत्र,… Continue reading Maharashtra : उच्च न्यायालय ने शवों के अंतिम संस्कार पर महाराष्ट्र सरकार, BMC से मांगा जवाब

Corona से भयावह हालात : श्मसान घाट में शव रखने को जगह नहीं, बैठने की जगह चिता, प्लास्टिक शेड भी जलकर खाक

लखनऊ | उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ (Uttar Pradesh Lucknow) में कोरोना वायरस (Corona Virus) का प्रकोप लोगों पर टूट रहा है। कोरोना वायरस (Covid-19) से मौतों का आंकड़ा (Death Rate) बढ़ता जा रहा है। आलम यह है कि दाह संस्कार के लिए घाटों (No Space for Funeral) पर जगह नहीं है। घाटों पर शवों के लिए लकड़ियां कम पड़ रही हैं। शवों को जलाने के लिए भी कोई नहीं है। शवों को लेकर पहुंच रहे लोगों को खुद ही दाह संस्कार करना पड़ रहा है। ऐसा ही एक मामला लखनऊ के भैसा कुंड श्मशान घाट (BhainsaKund Shamsan Ghat Lucknow) में देखने को मिला। परिजनों को अंतिम संस्कार की जगह तक नहीं मिली, तो प्लास्टिक शेड के नीचे ही चिता जला दी। ऐसे में शव के साथ शेड भी पूरी तरह जलकर खाक हो गया। कोरोना से बढ़ती मौतों के कारण ऐसे ही हाल अन्य मोक्षधामों के भी है। बड़ा हादसा होते-होते बच गया गुरुवार को लखनऊ के भैसा कुंड श्मशान घाट में एक बड़ा हादसा होते-होते बच गया। यहां जब लोगों को शव का अंतिम संस्कार करने की जगह नहीं मिली, तो प्लास्टिक शेड के नीचे लोगों के बैठने की जगह ही चिता बनाकर शव का अंतिम संस्कार कर… Continue reading Corona से भयावह हालात : श्मसान घाट में शव रखने को जगह नहीं, बैठने की जगह चिता, प्लास्टिक शेड भी जलकर खाक

वझे का मामला उलझाएगा शिव सेना को

चूंकि मामला देश के सबसे बड़े उद्योगपति की सुरक्षा से जुड़ा है और मुख्य विपक्षी भाजपा इस मामले का एडवांटेज लेकर राज्य सरकार को घेरना चाहती है इसलिए भी मामला उलझ गया है।

सचिन वझे के समर्थन में शिव सेना

मुंबई पुलिस के विवादित अधिकारी सचिन वझे की गिरफ्तारी के बाद सत्तारूढ़ शिव सेना उनके समर्थन में उतरी है

वझे को नही मिली जमानत

देश के सबसे बड़े उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर से थोड़ी दूरी पर विस्फोटक से भरी स्कॉर्पियो गाड़ी मिलने के विवाद में घिरे पुलिस अधिकारी सचिन वझे की मुश्किलें बढ़ गई हैं

मनसुख हिरेन की हत्या हुई थी!

देश के सबसे बड़े उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के आगे बम बनाने वाली सामग्री से भरी जो गाड़ी मिली थी उसके मालिक की मौत का राज गहरा गया है।

एंटीलिया के बाहर संदिग्ध गाड़ी का राज गहराया

मुंबई। रिलायंस उद्योग समूह के अध्यक्ष मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के बाहर संदिग्ध कार में बम बनाने की सामग्री मिलने और संभावित हमले की साजिश का राज गहरा गया है। एंटीलिया से दो सौ मीटर की दूरी पर जिस स्कॉर्पियो गाड़ी में बम बनाने की सामग्री और कथित तौर पर धमकी देने वाली चिट्ठी मिली थी, उस गाड़ी के मालिक का शव शुक्रवार को बरामद हुआ है। कहा जा रहा है कि गाड़ी के मालिक मनसुख हिरेन ने खुदकुशी कर ली है। पुलिस को शुक्रवार को कलवा क्रीक पर एक शव मिला, जो संदिग्ध स्कॉर्पियो के मालिक मनसुख हीरन का है। अधिकारियों ने बताया कि मनसुख हिरेन ठाणे के व्यापारी थे और क्लासिक मोटर्स की फ्रेंचाइजी चलाते थे। ठाणे के एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि मनसुख ने कलवा ब्रिज से कूद कर खुदकुशी की है। संदिग्ध हालत में स्कॉर्पियो की जांच में पता चला था कि मनसुख हिरेन ने गाड़ी चोरी हो जाने की शिकायत दर्ज कराई थी। उनकी लाश मिलने से करीब एक घंटे पहले महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने विधानसभा में यह मुद्दा उठाया था। फडणवीस ने मुंबई पुलिस के अधिकारी सचिन वझे की भूमिका को लेकर सवाल उठाया है। उन्होंने विधानसभा में कहा… Continue reading एंटीलिया के बाहर संदिग्ध गाड़ी का राज गहराया

विकास की कोविड रिपोर्ट निगेटिव, पोस्टमार्टम के लिए हरी झंडी

मारे गए गैंगस्टर विकास दुबे की कोरोना जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। उसके शव को अब पोस्टमार्टम के लिए ले जाया गया।

जिलाधिकारी और एसएसपी पीड़िता के शव को लेकर लखनऊ के लिए रवाना

गाजियाबाद के जिलाधिकारी अजय कुमार पांडेय और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) सुधीर कुमार सिंह शनिवार को उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता के शव को दिल्ली से लेकर लखनऊ के लिए रवाना हो गये हैं।

और लोड करें