Good News:  वैज्ञानिकों ने कहा जून में मिल जाएगी कोरोना से राहत, जानें क्या कहा तीसरी लहर पर …

New Delhi: भारत में कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने सबको परेशान कर दिया है. कोरोना कहर के बीच में एक राहत की भी खबर है. विशेषज्ञों का कहना है कि इस महीने में कोरोना अपने पीक पर रहेगा. लेकिन अनुमान लगाया जा रहा है कि जून में नये मामलों में बड़ी गिरावट देखने को मिल सकती है. हैदराबाद में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान में प्रोफेसर माथुकुमल्ली विद्यासागर का अनुमान है कि आने वाले कुछ दिनों में कोरोना अपने पीक पर होगा. IIT कानपुर के प्रोफेसर मनिंद्र अग्रवाल द्वारा तैयार मॉडल का हवाला देकर उन्होंने कहा कि मौजूदा अनुमान के मुताबिक, जून के अंत तक हर दिन 20 हजार केस देखने को मिल सकते हैं. हालांकि, विद्यासागर ने जरूरत के हिसाब से इसे संशोधित करने की भी बात कही. अगर यह अनुमान सही साबित होता है, तो कोरोना की दूसरी लहर झेल रहे भारत के लिए राहत की बात होगी, क्योंकि अभी देश में हर दिन करीब चार लाख से अधिक कोरोना केस सामने आ रहे हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, बीते तीन दिनों से लगातार देश में रोजाना कोरोना के चार लाख से अधिक मामले आ रहे हैं और रोजाना होने वाली मौत की संख्या ने भी… Continue reading Good News:  वैज्ञानिकों ने कहा जून में मिल जाएगी कोरोना से राहत, जानें क्या कहा तीसरी लहर पर …

Corona Alert: कोरोना संक्रमित के शव को छूना कितना सही, जानें क्या कहते हैं एक्सपर्ट

New Delhi: देशभर में कोरोना की दूसरी लहर से लोग परेशान हैं. एकदिन में 3 हजार से ज्यादा मौतें हो रही हैं. शुरुआत में देश के कई जगह से यह खबर आई थी कि कोरोना से मरने वालों के अंतिम संस्कार को शहर से बाहर करने का आग्रह कर रहे थे. कई जगह पर इसे लेकर लोग स्थानीय प्रशासन के साथ भीड़ भी गए थे. ऐसे में एक बार फिर जब कोरोना से इतनी मौतें हो रही है तो लोगों के मन में कई सवाल आ रहे हैं. देशभर के लोगों के मन में यह सवाल घर कर गया है कि क्या कोरोना से मरने वाले लोगों की डेडबॉडी को छूने से कोरोना हो सकता है?? लोगों के मन में आ रहा है ये सवाल काफी हद तक जायज भी है क्योंकि अंतिम संस्कार के समय स्थानीय प्रशासन द्वारा अंतिम संस्कार तो किया जाता है. इस दौरान घर के अन्य लोगों के मौजूद होने की मंजूरी दी जाती है. ऐसे में लोगों के मन में यह सवाल उठ रहे हैं कि क्या कोरोना से दम तोड़ने लोग के शव से भी संक्रमण फैल सकता है. नया इंडिया की टीम ने विशेषज्ञों से बात कर लोगों के कुछ ऐसे ही सवालों… Continue reading Corona Alert: कोरोना संक्रमित के शव को छूना कितना सही, जानें क्या कहते हैं एक्सपर्ट

मानवता के इंतेहान में कहीं असफल ना हो जाएं..विशेषज्ञों ने जताया मुंबई में तीसरी लहर का अनुमान

कोरोना की पहली लहर ने देश की कमर तोड़ दी थी। और दूसरी लहर ने देश सांसे को लगभग रोक दिया है। ऐसे में तीसरी लहर की कल्पना भी अनुमान से परे है। दूसरी लहर से जूझते देश की हालत पहले ही बहुत खराब है। ऐसे में जरूरत है कि ना सिर्फ दूसरी लहर का प्रभाव कम किया जाए बल्कि तीसरी लहर को भी रोका जाना जरूरी है। लेकिन विशेषज्ञों ने जो अनुमान जताया है कि वह होश उड़ाने के लिए बहुत है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने बुधवार को यह चेतावनी ज़ारी करते की है। महाराष्ट्र सरकार ने कहा है कि पर्याप्त संख्या में टीका उपलब्ध नहीं होने के कारण 18 से 44 वर्ष के लोगों का टीकाकरण एक मई से शुरू नहीं होगा। स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे महाराष्ट्र के लिए पर्याप्त संख्या में टीके उपलब्ध नहीं होने के कारण पहले ही चिंता जता चुके हैं। महाराष्ट्र महामारी से बुरी तरह प्रभावित राज्य है और वहां वर्तमान लाभार्थियों (45 वर्ष से ऊपर के लोग) के लिए टीके की कमी की खबर है जिससे वहां टीकाकरण की गति धीमी है। इसे भी पढ़ें  Corona Alert: विशेषज्ञ ने बताया कोरोना से बचने के लिए पोषक आहार के साथ ये करना सबसे जरूरी अधिकारी भी… Continue reading मानवता के इंतेहान में कहीं असफल ना हो जाएं..विशेषज्ञों ने जताया मुंबई में तीसरी लहर का अनुमान

सावधान! तबाही ना मचा दे covid की  Triple mutation strain, यहाँ आ चुकी है भारत में..

भारत में कोरोना वायरस(corona virus) ने आतंक मचा रखा है। भारत में कोरोना की दूसरी लहर चल रही है। जिससे एक दिन में करीब 3 लाख मामले दर्ज हो रहे है। और 2 हजार मौते हो रही है। विशेषज्ञों (expert) के अनुसार कोरोना की दूसरी लहर पहली लहर से कई गुना खतरनाक है। इसी बीच एक रिपोर्ट के मुताबिक(according to a report) भारत के कुछ हिस्सों में ‘ट्रिपल म्यूटेशन स्ट्रेन(Triple mutation strain) पाया गया है। भारत के साथ ही ये ट्रिपल म्यूटेशन स्ट्रेन अमेरिका, स्विट्जरलैंड, सिंगापुर और फिनलैंड में भी पाया गया है। और देश का हेल्थ सिस्टम(health system) जर्जर होता जा रहा है। देश के अधिकांश अस्पतालों(hospital) में चिकित्सा सेवाएं बहाल(resumed) करने की जरूरत है। ऑक्सीजन(oxygen) की कमी तो देश के लगभग सभी अस्पतालों में है। वहीं बैड और दवाओं की भी लगातार कमी हो रही है। विशेषज्ञों का कहना है कि इससे पहले ये वायरस तबाही मचाये इसे रोकना होगा। देश में सभी लोगों को सतर्क(alert) रहना होगा। इसे भी पढ़ें दर्दनाक : तीन दिन से मृत पड़ी थी कोरोना पाॅजिटिव महिला! शव को खा रहे थे जानवर क्या है वायरस का म्यूटेशन म्यूटेशन (mutation) तब होता है जब वायरस अपना रूप बदलता है और जितना वो म्यूटेट (mutation)होता… Continue reading सावधान! तबाही ना मचा दे covid की Triple mutation strain, यहाँ आ चुकी है भारत में..

कोरोना अपडेट : कोरोना से बचने के लिए कौन सा मास्क है बेहतर,जानें विशेषज्ञों की राय…

कोविड-19 ने पूरे देश में अपना आतंक फैला रखा है। भारत में कोरोना की दूसरी लहर का प्रकोप चल रहा है। कोरोना की दूसरी लहर पहली लहर से कई गुना खतरनाक है। दूसरी लहर में कोरोना का म्यूटेट वायरस हैं। ऐसे में लोगो का अपना और दूसरों का ज्यादा ध्यान रखना चाहिए। हम देखते है कि कई लोग मास्क लगाते है तो कई नहीं लगाते हैं।बाजार में हम देखते है कि ज्यादातर लोग कपड़े के मास्क का उपयोग करते हैं।  ऐसे में लोग ये जानने को इच्छुक है कि इस महामारी बचने के लिए कौनसा मास्क लगाये। क्योंकि कोरोना काल में जनता बाहर भी निकलती है। तो कौनसे मास्क से वायरस से बचा जा सकता है।  मेडिकल जर्नल ‘द लैंसेट’ में प्रकाशित स्टडी में यह दावा किया गया है कि कोरोना वायरस के हवा में फैलने की आशंका है। तब से यह सवाल अहम हो गया है कि कौन सा मास्क वायरस से बचा सकता है । कपड़े के मास्क से वायरस से बचा जा सकता है या फिर एन-95 से..। मैरीलैंड स्कूल ऑफ मेडिसिन के डॉ. फहीम यूनुस ने इस सवाल का जवाब देने का प्रयास किया है। उन्होंने कोरोना की दूसरी लहर से बचने के लिए N95 या… Continue reading कोरोना अपडेट : कोरोना से बचने के लिए कौन सा मास्क है बेहतर,जानें विशेषज्ञों की राय…

कोरोना के मामले बढ़ने पर एक्सपर्ट्स ने ऐसे मास्क पहनने को बताया सही

देश में कोरोना से बढ़ते मरीजों की संख्या परेशान करने वाली है. आज के आंकड़ें तो और भी ज्यादा चौंकाने वाले हैं. एक दिन में देशभर से आज कोरोना के 2 लाख नये केस सामने आये हैं.  ऐसे में सरकार और  स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा लगातार लोगों के सावधानी बरतने के लिए कहा जा रहा है.  हालातों को देखते हुए अब  एक्सपर्ट्स दो मास्क पहनने की सलाह दे रहे हैं. एक्सपर्ट्स का मानना है कि इससे संक्रमण के खतरे से बचा जा सकता है.  डबल मास्क को लेकर लोगों में मन में कई तरह के सवाल भी हैं कि क्या ये पूरी तरह से सेफ है ? या फिुर डबल मास्क से से सांस लेने की तकलीफ नहीं होगी ? आइए जानते हैं कि इसपर एक्सपर्ट्स का क्या कहना है. क्यों जरूरी हुआ डबल मास्क ? देश भर में देखा गया है कि कोरोना वायरस के नए वैरिएंट बहुत तेजी से फैल रहे हैं. इसलिए  संक्रमितों में वायरस का लोड भी पहले की अपेक्षा काफी ज्यादा है. माना जाता है कि  एक वायरस भी बुरी तरह से संक्रमित कर नूकसान कर सकता है. ऐसे में एक्सपर्ट्स का कहना है कि डबल मास्किंग से मास्क के किनारों में गैप रह… Continue reading कोरोना के मामले बढ़ने पर एक्सपर्ट्स ने ऐसे मास्क पहनने को बताया सही

और लोड करें