जम्मू-कश्मीर : बकरीद में ‘गाय’ की कुर्बानी पर रोक लगाने के बाद धार्मिक संगठनों ने जताई आपत्ति

जम्मू-कश्मीर | Cow not be sacrificed : अगले हफ्ते ईद-उल-अजहा ( बकरीद ) का त्योहार देशभर में मनाया जाएगा. इस बार कोरोना का लगातार प्रकोप औऱ लॉकडाउन के कारण लोगों की आर्थिक हालत खासा अच्छी नहीं है. यहीं कारण है कि व्यपारियों में उत्साह की कमी देखी जा रही है. इन्हीं सबके बीच जम्मू-कश्मीर से एक बड़ी खबर आ रही है. जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने ईद-उल-अजहा के पहले एक आदेश जारी किया है. इस, आदेश में कहा गया है कि बकरीद के मौके पर गायों और ऊंटों को अवैध रूप से मारने पर रोक लगा दी गई है. इस संबंध में पशु और मत्स्य पालन विभाग ने संभागीय आयुक्तों और आईजी को पत्र लिखकर बकरीद के मौके पर गायों, बछड़ों और ऊंटों को मारने पर प्रतिबंध लगाने का आह्वान किया है. श्रीनगर: कोरोना की वजह से बकरीद( ईद उल-अज़हा) से पहले बकरा व्यापारियों को परेशानी हो रही है। एक व्यापारी ने बताया, “मैंने अच्छा माल लाया फिर भी अच्छी खरीदारी नहीं हो रही है। कोरोना की वजह से लोगों के पास पैसे नहीं इसलिए खरीदारी कम हो रही है। हमने बकरों के दाम भी कम कर दिए हैं।” pic.twitter.com/p3MMo4DD75 — ANI_HindiNews (@AHindinews) July 17, 2021 भेड़, गाय, बछड़ों और ऊंटों की… Continue reading जम्मू-कश्मीर : बकरीद में ‘गाय’ की कुर्बानी पर रोक लगाने के बाद धार्मिक संगठनों ने जताई आपत्ति

Corona Epidemic बीच मुस्लिम धर्मगुरुओं की लोगों से अपील, घरों में रहकर मनाए ईद

नई दिल्ली | मुसलमानों का सबसे बड़ा त्योहार ईद उल फितर (Eid ul Fitr) रमजान के महीने के खत्म होने पर मनाया जाता है। लेकिन पिछले साल की तरह इस साल भी कोरोना महामारी (Corona epidemic) ने तबाही मचाई हुई है। इसे देखते हुए मुस्लिम धर्मगुरुओं (Muslim religious leaders) ने तमाम लोगों से गुजारिश करते हुए कहा कि, सभी लोग घरों में ही ईद की नमाज पढ़, खुशियां मनाएं। इस्लामिक कैलेंडर के अनुसार, रमजान के बाद शव्वाल की पहली तारीख को ईद-उल-फितर ((Eid ul Fitr)) मनाई जाती है। ईद (Eid) के दिन सुबह की नमाज पढ़ इसकी शुरूआत हो जाती है। जामा मस्जिद के शाही ईमाम सईद अहमद बुखारी ने मुस्लिम समाज से अपील करते हुए कहा कि, आगामी दिनों में मनाई जानी वाली ईद पर लोग अपने घरों में ही नमाज पढ़ें। ये जानलेवा बीमारी बहुत तेजी से फैल चुकी है। यह ऐसा कयामत का मंजर जिसे हमने आपने अपनी जिंदगी में कभी नहीं देखा। कई परिवारों ने अपने लोगों को खो दिया। इसे भी पढ़ें – Corona infection को रोकने में योगी सरकार का प्रयास सराहनीय : राजनाथ सिंह कई लोग तो अपनों को कंधा भी नहीं दे सके, डॉक्टरों के मुताबिक अभी तीसरी लहर बाकी है। इसके लिए… Continue reading Corona Epidemic बीच मुस्लिम धर्मगुरुओं की लोगों से अपील, घरों में रहकर मनाए ईद

चैत्र नवरात्र 2021 : जानें,  क्यों है चैत्र नवरात्री का इतना महत्व, कहां कैसी होती है मां की पूजा

भारतीय कैलेंडर के अनुसार वर्ष में चार बार नवरात्री का त्योहार चार बार आते हैं. इसमें चैत्र ,शारदीय नवरात्री और दो गुप्त नवरात्री आते हैं. जिनमें चैत्र और शारदीय नवरात्री प्रमुख होते हैं. इस बार के चैत्र के नवरात्रे 13 अप्रैल से शुरू होकर 21 अप्रैल को समाप्त हो रहे हैं. चैत्र के नवरात्रों के शुरुआती दिन को भारतीय नववर्ष कहा जाता है और अंतिम दिन को रामनवमी के नाम से जाना जाता है. इन नवरात्रों को बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाता है. नवरात्र के नौ दिनों में मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है.  भक्त नवरात्री में शक्ति की उपासना करते हैं. कहा जाता है कि इस 9 दिनों में  सच्चे मन से  देवी की पूजा करने से भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती हैं. नवरात्रि का लोगों को बेसब्री से इतंजार रहता है. देवी दुर्गा की मुर्तियों को कुमकुम, चुड़ियों, वस्त्रों और आभूषणों से सजाया जाता है. बंगाल में नवरात्रि की विशेष रौनक होती है.  हालांकि दूसरी नवरात्री के समय यहां पंडालों के कारण ज्यादी रौनक होती है.  शारदीय नवरात्रों में बंगाल में बनने वाले  पंडाल देशभर में आकर्षण का केंद्र होते हैं. ऐसा कहते हैं बंगाल के लोग इन 9 दिनों में … Continue reading चैत्र नवरात्र 2021 : जानें, क्यों है चैत्र नवरात्री का इतना महत्व, कहां कैसी होती है मां की पूजा

महिला दिवस पर पिया से मिलेंगी दो दुल्हन, पाकिस्तान से लौट रही हैं भारत की दो बहुएं

Jaipur : अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस (International Women’s Day) के मौके पर पाकिस्तान में फंसी दो दुल्हनें अपने पिया के पास पहुंच सकेंगी। पाकिस्तान से सटे सीमावर्ती इलाके बाड़मेर-जैसलमेर (Jaisalmer) की दुल्हनें सरहद पार से भारत आ रही हैं. ऐसे में यहां के लोगों में उत्साह का माहौल है. दोनों दुल्हनों को लेने के लिए परिजन भी बाघा बार्डर (Bagha border) पहुंच गये हैं. दुल्हनों के आने की खबर फैलने के बाद से बाघा बार्डर पर भी एक सुखद माहौल बना हुआ है. आम लोगों और पयर्टकों में भी उत्साह का माहौल है. बता दें कि दोनों दुल्हनों की शादी 2019 में हुई थी. लेकिन भारत और पाकिस्तान के रिश्ते खराब होने के कारण ये दोनों ही दुल्हनें पाकिस्तान में ही फंस गयी थी. इसे भी पढ़ें-  महिला दिवस पर पुलिस द्वारा दुष्कर्म का मामला विधानसभा… 2019 से पाकिस्तान में फंसी थी दुल्हनें बता दें कि राजस्थान के इस इलाके के लोगों का पाकिस्तान(Pakistan) जा कर विवाह करना एक सामान्य बात है. जैसलमेर (Jaisalmer) के रहने वाले विक्रम सिंह (Vikram Singh) और बाड़मेर (Barmer) जिले के गिराब क्षेत्र के महेन्द्र सिंह (Mahendra singh) की शादी पाकिस्तान के अमरकोट (Amarkot) और सिणोई में हुई थी. ये दोनों ही शादियां 2019 में हुई थी.… Continue reading महिला दिवस पर पिया से मिलेंगी दो दुल्हन, पाकिस्तान से लौट रही हैं भारत की दो बहुएं

बेकाबू महंगाई पर भाजपा सरकार मौन : प्रियंका

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने आज कहा कि त्योहार के मौसम में बेकाबू मंहगाई से उत्तर प्रदेश की जनता त्रस्त है जबकि झूठे प्रचार में करोड़ो रूपये खर्च करने वाली राज्य की भाजपा सरकार जनता की परेशानी पर चुप्पी साधे हुये है।

‘जब तक दवाई नहीं तब तक ढिलाई नहीं ‘: मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आने वाले दिनों में त्योहारों, सर्दी के मौसम और अर्थव्यवस्था की स्थिति के मद्देनजर वैश्विक महामारी कोविड-19 के खिलाफ बचाव को लेकर गुरुवार एक ‘जन आंदोलन ‘की शुरुआत

मारुति की बिक्री में सात माह बाद बढ़ोतरी

त्योहारों का महीना अक्टूबर आॅटोमोबाइल कंपनियों के लिए रौनक लेकर आया। देश की अग्रणी कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया लिमिटेड की सात माह में पहली बार घरेलू बाजार में बिक्री बढ़ी है।

दिवाली तब, अब और वह मजा!

हवा में ठंडक-सी होने लगी है। दिन छोटे हो रहे हैं। दोपहर भी बर्दाश्त हो जाती है और हवा में त्योहार, उत्सव का माहौल बनने लगा है। बावजूद लग रहा है कुछ तो ठीक नहीं! कुछ अच्छा नहीं लगने का एहसास लगभग वैसा ही है जैसा मुझे विदेश रहते हुए हुआ था।

और लोड करें