इस फिल्म में सच्चाई कुछ नहीं

अपनी सेनाओं व युद्ध में हिस्सा लेने वाले लोगों के लिए मेरे मन में बहुत इज्जत है। विशेष तौर पर कारगिल युद्ध के शहीद कैप्टन अनुज नैयर के माता-पिता पहले मेरे फ्लैट में ही किराए पर रहते थे।