कांग्रेस को झटके पर झटका

मध्यप्रदेश में लगे झटके से अभी कांग्रेस उबर नहीं पाई है और अब उसे गुजरात में दूसरा झटका बर्दाश्त करना पड़ रहा है। गुजरात के पांच कांग्रेसी विधायकों ने विधानसभा से इस्तीफा दे दिया है। उन्हें भाजपा या किसी अन्य पार्टी ने किसी होटल में घेरकर नहीं बैठा रखा है। वे खुले-आम घूम रहे हैं और उन्हें जो बोलना है, वह बोल रहे हैं। उन्होंने भाजपा में भी शामिल होने की बात नहीं कही है। उन्होंने यह इस्तीफा देकर गुजरात के अपने कांग्रेसी नेताओं को यह संदेश दे दिया है कि उनके द्वारा नामजद राज्यसभा के दो सदस्य जीत नहीं पाएंगे। कांग्रेस अब सिर्फ एक सदस्य को ही भेज पाएगी, क्योंकि 182 सदस्यों की विधानसभा में अब उसके सिर्फ 68 सदस्य ही रह गए हैं। इन पांचों बागी सदस्यों की जमात में अभी पता नहीं कितने सदस्य और भी शामिल हो जाएंगे। राज्यसभा के लिए चुनाव 26 मार्च को होने हैं। अगले 8-10 दिन में पता नहीं क्या गुल खिलेंगे ? एक बात जरुर अच्छी हो रही है कि जो कांग्रेसी विधायक अपनी पार्टी के राज्यसभा उम्मीदवार का समर्थन नहीं कर रहे हैं, वे अपने पद से इस्तीफा दे रहे हैं लेकिन इस्तीफे के बाद वे क्या करेंगे ? पार्टी… Continue reading कांग्रेस को झटके पर झटका

सांसदी-विधायकी से इस्तीफे की राजनीति

अप्रैल में रिटायर होने वाले 55 राज्यसभा सदस्यों में से15 भाजपा के और 13 कांग्रेस के हैं| दोनों को तीन-चार सीटों का नुक्सान होगा ,जबकि तृणमूल कांग्रेस और वाईआरएस कांग्रेस की सीटें बढ़ेंगी। कांग्रेस को असम, आंध्र ,तेलंगाना , उड़ीसा , मेघालय , हिमाचल से आठ सीटों का नुक्सान है , जिस की भरपाई इन राज्यों से नहीं हो सकती।  कांग्रेस को उम्मींद थी कि राजस्थान से -2, गुजरात से-1 और मध्य प्रदेश से भी 1 सीट ज्यादा मिलने के कारण 4 सीटों की भरपाई हो जाएगी। इस तरह उसके सिर्फ 4 सदस्य घटेंगे , मौजूदा 46 से घट कर 42 हो जाएंगे।  लेकिन मध्य प्रदेश और गुजरात ने राज्यसभा के चुनाव दिलचस्प बना दिए हैं| संख्या बल के हिसाब से इन दोनों राज्यों से कांग्रेस को एक एक रिटायर होने वाले सदस्यों के बदले दो-दो सीटों पर जीत होनी चाहिए थी। कर्नाटक की तरह ही भाजपा ने मध्यप्रदेश और गुजरात के कांग्रेस विधायकों से भी इस्तीफे दिला कर अपनी सदस्य संख्या बरकरार रखने की कोशिश को सफल बना लिया है। मध्यप्रदेश से भाजपा के दो सदस्य रिटायर हो रहे हैं और भाजपा की कोशिश है कि वह दोनों सीटें दुबारा जीत कर आए जबकि कांग्रेस अपने एक सदस्य के… Continue reading सांसदी-विधायकी से इस्तीफे की राजनीति

हर जगह कांग्रेस के विधायक कमजोर हैं

कांग्रेस पार्टी के विधायक आखिर इतने कमजोर क्यों हैं कि हर जगह उनके टूट जाने का खतरा पैदा हो गया है? मध्य प्रदेश के कांग्रेस विधायकों को राजस्थान में ले जाकर रखा गया। विधानसभा सत्र शुरू होने से ठीक पहले उनको वहां से निकाल कर लाया गया। उससे पहले पार्टी के 22 विधायक बगावत करके बेंगलुरू चले गए। वहां उनको अलग रिसार्ट में रखा गया था। इस बीच गुजरात में कांग्रेस विधायकों में टूट-फूट की खबर आई तो उनको वहां से हटा कर राजस्थान ले जाया गया। मध्य प्रदेश के विधायक लौटा नहीं कि गुजरात के विधायक पहुंच गए। गुजरात के विधायकों को पिछले राज्यसभा चुनाव के समय भी बेंगलुरू में रखा गया था। तब वहां कांग्रेस-जेडीएस की सरकार थी। अब यह भी कहा जा रहा है कि महाराष्ट्र में जहां कांग्रेस गठबंधन सरकार में शामिल हैं वहां के भी कई कांग्रेस विधायक नाराज हैं और बगावत कर सकते हैं। बिहार में जनता दल यू ने दावा किया है कि कांग्रेस के अनेक विधायक उसके संपर्क में हैं और इस साल होने वाले चुनाव से पहले पाला बदल सकते हैं। राजस्थान से लेकर झारखंड तक कई और राज्यों में कांग्रेस के विधायक खतरे में बताए जा रहे हैं। सोचें, विधायकों… Continue reading हर जगह कांग्रेस के विधायक कमजोर हैं

गुजरात में कांग्रेसी विधायकों के इस्तीफे

अहमदाबाद। गुजरात में चार सीटों के लिए होने वाले राज्यसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है। उसके पांच विधायकों ने इस्तीफा दे दिया है। इससे भाजपा के तीन सीटों पर जीतने की संभावना बढ़ गई है। ध्यान रहे कांग्रेस पहले से ही खरीद-फरोख्त का अंदेशा जता रही थी। भाजपा ने संख्या नहीं होने के बावजूद जैसे ही तीसरा उम्मीदवार दिया उसी समय कांग्रेस की चिंता बढ़ गई थी। इस बीच रविवार को कांग्रेस के पांच विधायकों ने इस्तीफा दे दिया। इस्तीफा देने वालों में प्रवीण मारू, मंगल गावित, सोमाभाई पटेल, जेवी काकड़िया और प्रद्युम्न जडेजा शामिल हैं। इससे पहले कांग्रेस ने अपने विधायकों को खरीद-फरोख्त से बचाने के लिए 14 विधायकों को जयपुर भेज दिया। 36 और विधायकों को भी राजस्थान भेजा जा सकता है। सभी विधायकों को एक रिसॉर्ट में ले जाया गया है। विधायकों को मोबाइल न रखने की हिदायत दी गई है। वे परिवार या परिचित से मुलाकात भी नहीं कर सकते। राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार को कांग्रेस हाईकमान सबसे सुरक्षित मान कर चल रही है। यह भी कहा जा रहा है कि कांग्रेस विधायक उदयपुर शिफ्ट किए जाएंगे। कांग्रेस ने अपने पांच विधायकों को गुजरात में ही एक रिसॉर्ट में रखा है।… Continue reading गुजरात में कांग्रेसी विधायकों के इस्तीफे

भाजपा के मंसूबे पूरे नहीं होंगे : दिग्विजय

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने विधायकों की खरीद-फरोख्त के मामले में भाजपा पर फिर से हमला बोला है। उन्होंने कहा है कि भाजपा की विधायकों के खरीद-फरोख्त के मंसूबे पूरे नहीं हुए।

कांग्रेस के घटनाक्रम से भाजपा का कोई लेना-देना नहीं: शर्मा

मध्य प्रदेश में कांग्रेस के विधायकों की खरीद-फरोख्त को लेकर विपक्षी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर लग रहे आरोपों का पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष वी.डी. शर्मा ने जवाब देते हुए कहा है

विधायक बिकता है बोलो खरीदोगे…

विधायकों की खरीद-फरोख्त से जुड़े दिग्विजय सिंह के जिस बयान से मध्य प्रदेश की सियासत गरमा गई। उसमें अब कांग्रेस और भाजपा में आर-पार की लड़ाई की स्थिति बनती नजर आ रही है।

खरीद-फरोख्त की आशंका के बीच राकांपा, शिवसेना, कांग्रेस विधायकों को होटलों में भेजा गया

महाराष्ट्र में चल रहे राजनीतिक नाटक और विधायकों की खरीद-फरोख्त की आशंका के बीच राकांपा, कांग्रेस और शिवसेना ने अपने-अपने विधायकों को मुंबई के विभिन्न लग्जरी होटलों में भेजा है।

और लोड करें