भारत में रूसी वैक्सीन के लिए करार

भारत में कोरोना वायरस की वैक्सीन के लिए पहला करार हो गया है। भारतीय कंपनी डॉक्टर रेड्डी लैब ने रूस की कंपनी के साथ 10 करोड़ डोज के लिए करार किया है।

रूसी वैक्सीन के सौ फीसदी सफल होने का दावा

रूस ने दावा किया है कि उसने कोरोना वायरस की जो वैक्सीन तैयार की है वह क्लीनिकल ट्रायल में सौ फीसदी तक सफल रही है। वैक्सीन का ट्रायल 42 दिन पहले मॉस्को के बुर्डेंको मिलिट्री हॉस्पिटल में शुरू हुआ था।

भारत में वैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल शुरू!

भारत में कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए बन रही वैक्सीन का इंसानों पर परीक्षण शुरू हो रहा है।

वैक्सीन निर्माण में जल्दबाजी खतरनाक

ज्ञात इतिहास में कभी ऐसा नहीं हुआ कि किसी बीमारी की दवा या वैक्सीन खोजने की ऐसी होड़ मची हो। यह भी एक तथ्य है कि इससे पहले जो वैक्सीन सबसे कम समय में तैयार हुई थी, उसमें भी पांच साल लगे थे।