समझदारों को समझा नहीं सकते!

कई बार जब मैं अपने आस-पास के लोगों का बौद्धिक स्तर देखता हूं तो बहुत आश्चर्य होता है। तब याद आता है कि जब हम बचपन में जो कुछ पढ़ते व सीखते थे उसका क्या मतलब होता था? आजकल बहुत सर्दी पड़ रही है। मैं साल के पहले मंगलवार को हनुमानजी की पूजा करने मंदिर… Continue reading समझदारों को समझा नहीं सकते!