निवेशकों के पांच लाख करोड़ रुपये डूबे

शेयर बाजार में सोमवार को शुरुआती कारोबार के दौरान भारी गिरावट के चलते निवेशकों के करीब पांच लाख करोड़ रुपये डूब गए। कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते बढ़ती आर्थिक अनिश्चितता के कारण यह गिरावट हुई।

शिखर से फिसला शेयर बाजार

ऊर्जा क्षेत्र के साथ रिलायंस इंडस्ट्रीज तथा आईसीआईसीआई बैंक जैसी दिग्गज कंपनियों में बिकवाली के दबाव में घरेलू शेयर बाजारों में तेजी का सिलसिला थम गया

आईसीआईसीआई बैंक के शेयर 2 साल में होंगे दोगुने: मॉर्गन

मुंबई। वैश्विक ब्रोकरेज फर्म मॉर्गन स्टैनली ने एक रिपोर्ट में कहा है कि आईसीआईसीआई बैंक के शेयर गुरुवार को बीएसई पर अपने 52 सप्ताह के उच्च स्तर 518.60 रुपए पर पहुंच गए हैं। रिपोर्ट में कहा गया कि भारत का यह दूसरा सबसे बड़ा निजी बैंक अगले दो वर्षो में अपना शेयर मूल्य दोगुना कर सकता है। मॉर्गन स्टैनली ने बुधवार को आईसीआईसीआई स्टॉक पर विचार किया, जो बाजार में संकेत दे रहा है कि एक विशेष स्टॉक अपने क्षेत्र या बाजार में दूसरों को पछाड़ देगा। उन्होंने कहा कि पिछले 18 महीनों में स्टॉक ने अच्छा प्रदर्शन किया है। रिपोर्ट में कहा गया है, हमारा नया एक साल का टारगेट प्राइस 775 रुपए है। दो साल में स्टॉक 1,000 रुपए हो सकता है।हम अपना एडीआर टार्गेट प्राइस भी बढ़ाकर 21.50 डॉलर कर रहे हैं। विश्लेषकों का कहना है कि बैंक की परिसंपत्ति की गुणवत्ता में सुधार, ऋण वृद्धि में प्रगति, शुद्ध ब्याज मार्जिन (एनआईएम) और बीमा प्रीमियम वृद्धि जैसे मुख्य कारक आईसीआईसीआई बैंक के पक्ष में महत्वपूर्ण कारक हैं। इसके अलावा नकारात्मक पहलुओं की बात करें तो अर्थव्यवस्था में आई मंदी, धीमी गति से अपेक्षित ऋण वृद्धि की वसूली जैसे बिंदु भी हैं। आईसीआईसीआई बैंक ने पिछले महीने उच्च… Continue reading आईसीआईसीआई बैंक के शेयर 2 साल में होंगे दोगुने: मॉर्गन

आईसीआईसीआई बैंक का मुनाफा 28 फीसदी घटा

मुंबई। निजी क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक आईसीआईसीआई बैंक ने चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में 654.96 करोड़ रुपए का लाभ अर्जित किया है जो पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि के 908.88 करोड़ रुपए के लाभ की तुलना में 28 फीसदी कम है। बैंक ने निदेशक मंडल की बैठक के बाद जारी वित्तीय परिणाम के अनुसार दूसरी तिमाही में कर बाद उसका 3575 करोड़ रुपए रहा है लेकिन पहले के छोड़े गए कर के फिर से गणना करने की वजह से एक मुश्त अतिरिक्त शुल्क लगने के कारण लाभ पर दबाव बना है। उसने कहा कि सितंबर में समाप्त इस तिमाही में उसकी कुल आय 24.63 फीसद बढ़कर 22759.52 करोड़ रुपे पर पहुंच गयी जो पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में 18262.12 करोड़ रुपए रही थी। इस तिमाही में बैंक के संपदा की गुणवत्ता में सुधार हुआ है। सकल एनपीए घटकर 6.37 फीसद पर आ गया जबकि पहले यह 6.49 फसीद रहा था। शुद्ध एनपीए भी 1.77 फीसद से घटकर 1.6 फसीद पर आ गया

और लोड करें