Kabul Blast : एक बार फिर धमाकों से गूंजा काबुल, 19 की मौत 50 से ज्यादा घायल …

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में आज एक बार फिर जोरदार धमाके की आवाज के बाद सब कुछ शांत हो गया. विस्फोट काबुल के मिलिट्री अस्पताल…

पाकिस्तान ने अफगानिस्तान को भी नहीं बख्शा, 10 गुना किराया बढ़ाने के बाद तालिबान ने दी चेतावनी….

पाकिस्तान और अफगानिस्तान के बीच की विमान सेवाएं जल्द ही प्रभावित हो सकती है. इसके पीछे का कारण पाकिस्तान का अफगानिस्तान से 10 गुना ज्यादा हवाई किराया…

अफगानिस्तान में बड़ा आत्मघाती हमला, 60 की मौत

अफगानिस्‍तान के कुंदुज शहर की एक मस्जिद में हुए आत्मघाती हमले में कम से कम 60 लोगों को जान चली गई है। न्‍यूज एजेंसी एएफपी ने अस्‍पताल सूत्रों के हवाले से यह जानकारी दी है।

Afghanistan की राजधानी Kabul में फिर गरजे रॉकेट, इलेक्ट्रिक सब स्टेशन को उड़ाने की नाकाम कोशिश

रॉकेटों की इस हमले में चमतलाह इलेक्ट्रिक सब स्टेशन (electric substation) को उड़ाने की कोशिश की गई थी, लेकिन गनीमत ये रही कि, हमलावरों का निशाना चूक गया।

Taliban ने सरकार बनाने के पहले सुनाया फरमान, कहा- ‘हिजाब’ नहीं तो शिक्षा और रोजगार भी नहीं …

तालिबान के अस्तित्व में आने के बाद से लगातार महिलाओं पर शोषण के आरोप लगते जा रहे हैं. एक ओर जहां तालिबान के प्रवक्ता दुनिया के सामने ये….

काबुलः भारत करे नई पहल

मौका ऐसा है, जिस का फायदा उठाकर भारत चाहे तो भारत-पाक संबंधों को भी नई दिशा दे सकता है।

अमेरिकी विदेश नीति का अफगान सच

इस्लाम का वहाबी दर्शन मूलत: जिहाद का प्रमुख प्रोत्साहक है, जो विश्व के अधिकांश मदरसों का पाठ्यक्रम भी है। ऐसे मदरसों का सर्वाधिक वित्तपोषण सऊदी अरब द्वारा होता है।

तालिबान को मुबारक और…

इन पंक्तियों को लिखने तक काबुल एयरपोर्ट के विस्फोटों में मौत की संख्या सौ पार है। इसमें 13 अमेरिकी सैनिक है और बाकि अफगान मुस्लिम!  यह वाकिया अफगानिस्तान के भविष्य की तस्वीर है।

तालिबान और औवेसी

राजनीतिक पार्टी चला रहे और खुद कई बार से लोकसभा में चुने गए ऑल इंडिया एमआईएम के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने भी तालिबान का पक्ष लिया है लेकिन उनका अंदाज थोड़ा अलग था।

इस्लामिक स्टेट खुरासान का नया खतरा

तालिबान का अफगानिस्तान पर काबिज होना कई नए खतरों को जन्म देगा, जिसमें एक खतरा इस्लामिक स्टेट का है।

काबुल में हुए हमले का अर्थ

काबुल हवाई अड्डे पर सैकड़ों लोगों के हताहत होने की खबर ने सारी दुनिया का दिल दहला दिया है। सबसे ज्यादा अमेरिका की इज्जत को धक्का लगा हैI

धमाकों से गूंजा काबुल एयरपोर्ट, 12 अमेरिकी सैनिकों समेत 72 लोगों की मौत, अमेरिका गुर्राया, कहा- हम उन्हें मार गिराएंगे

ISIS खोरासान के आतंकियों का दावा है कि उन्होंने अमेरिकी सैनिकों को मौत की नींद सुलाया है। वहीं तालिबान इन धमाकों में खुद का हाथ होने से इनकार किया है और घटना पर दुख जताते हुए आतंकी हमले की निंदा की है

भारतीयों को निकालने की कोशिश जारी

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने सर्वदलीय बैठक में अफगानिस्तान की ताजा स्थिति की जानकारी देते हुए कहा कि सरकार वहां से भारतीयों को वापस लाने के लिए प्रतिबद्ध है।

काबुल हवाई अड्डे पर पानी की बोतल 40 डॉलर में, चावल की प्लेट 100 डॉलर में – अफगान मैन का दावा

पानी की एक बोतल 40 डॉलर और चावल की प्लेट 100 डॉलर में बिक रही है, न कि अफगानी (मुद्रा) बल्कि डॉलर। यह आम लोगों की पहुंच से बाहर है। 

काबुलः बैठे रहो और देखते रहो ?

भारत सरकार की अफगान नीति पर हमारे सभी राजनीतिक दल और विदेश नीति के विशेषज्ञ काफी चिंतित हैं। नौकरशाहों की नीति है- बैठे रहो और देखते रहो। लेकिन नेताओं की नीति है कि बैठे रहो और सोते रहो।

और लोड करें