दारू मैंने पी मगर ऐसा पागलपन!

लॉकडाउन के दौरान शराबबंदी पर रोक समाप्त होते ही शराब को खरीदने की जैसी मारा-मारी देखने को मिली उसकी कभी किसी ने कल्पना भी नहीं की होगी।

कोरोना का संकट और शराब का विमर्श

इन दिनों देश में कोरोना वायरस की चिंता के साथ-साथ शराब का विमर्श चल रहा है। आमतौर पर इसका विमर्श बहुत हल्का-फुल्का होता है पर इस बार इसके कई पहलू जाहिर हो रहे हैं और कुछ पहलू तो बेहद गंभीर हैं।

मोदीजी दिल्ली को न बनाएं विश्व की अछूत राजधानी!

पता नहीं भारत की बुद्धि को क्या हो गया है! समझ नहीं आता कि भारत की आंखें न्यूयॉर्क, लंदन, टोक्यो, रोम, सिंगापुर को क्यों नहीं देख रही?

शराबः भारत की बदनामी

शराब की दुकानें खोलकर हमारी केंद्र सरकार और राज्य सरकारें बुरी तरह से बदनाम हो रही हैं। बदनामी तो उन्होंने अपने पिछले कई कारनामों से भी कमाई है लेकिन इस वक्त शराबियों का जो नज्जारा सड़कों पर दिखाई पड़ रहा है, वैसा भारत में पहले कभी दिखाई नहीं पड़ा।