सट्टेबाज संजीव चावला पर फैसला कब!

जब मैं एमए कर रहा था तब मेरे शहर कानपुर में बहुत कम लोग ही एमबीए करते थे। आज तो सेल्स, मार्केटिंग से लेकर हयूमन रिसोर्स तक विषय में इंजीनियर से लेकर डॉक्टर तक एमबीए कर रहे हैं।