केजरीवाल ने मजदूरों से की अपील

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली से पलायन कर रहे मजदूरों से अपील की है कि वे दिल्ली में ही रहें, सरकार उनके लिए हर तरह के प्रबंध कर रही है। उन्होंने मजदूरों के पलायन करने पर चिंता जताते हुए कहा कि यह नहीं होना चाहिए। शनिवार को उन्होंने मजदूरों से अपील करते हुए कहा- आप जहां से वहीं रहें। हम आपके लिए हर संभव मदद करने के लिए तैयार है। गौरतलब है कि कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए लागू किए गए लॉकडाउन के कारण मजदूरों को काफी परेशानी हो रही है। रोजी-रोट का संकट तो है कि साथ ही राशन खत्‍म होने के कारण भी वे घर जाने के लिए परेशान हैं। हालांकि दिल्ली सरकार ने राजधानी में आठ सौ से ज्यादा जगहों पर सेंटर बना कर लोगों के खाने का इंतजाम किया है। मजदूरों को मैसेज देने के लिए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को प्रेस कांफ्रेंस की। मुख्यमंत्री ने लोगों से कहा कि वे दिल्ली छोड़ कर न जाएं। उनके खाने के लिए पूरी व्यवस्था की गई है। केजरीवाल ने कहा कि लोगों की दिल्ली छोड़ कर जाने की खबरे आ रही हैं जो ठीक नही हैं। उन्‍होंने भरोसा दिलाते हुए कहा-… Continue reading केजरीवाल ने मजदूरों से की अपील

गृह मंत्रालय ने राज्यों को दिया निर्देश

नई दिल्ली। दिल्ली और एनसीआर सहित देश के दूसरे शहरों और महानगरों से लोगों के पलायन को देखते हुए केंद्र सरकार ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को निर्देश दिया है। गृह मंत्रालय ने राज्यों और केंद्र शासित राज्यों के प्रशासन से कहा है कि 21 दिन के लॉकडाउन के दौरान बेघरों और दूसरे राज्यों के मजदूरों के लिए रहने की अस्थायी व्यवस्था और खाने, कपड़े और दवा का इंतजाम करें। इसके लिए राज्य आपदा कोष की राशि का उपयोग किया जाए। इस बीच, स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार को एक प्रेस कांफ्रेंस की। मंत्रालय ने कहा कि कोरोना वायरस के इलाज के लिए देश भर में डॉक्टरों को ऑनलाइन ट्रेनिंग दी जा रही है। इससे जुड़ा कोई भी डॉक्टर जरूरत पड़ने पर एम्स के डॉक्टर से किसी भी समय वीडियो कॉल करके मदद ले सकता है। एम्स में इसके लिए एक सेंटर बनाया जा रहा है। इस बीच खबर है कि कोरोना वायरस के संक्रमण से मुकाबले के लिए सरकार ट्रेन के डिब्बे को ही आइसोलेशन कोच के रूप में बदलने की तैयारी कर रही है। दिल्ली डिपो में एक डिजाइन तैयार किया गया है। इसमें छह बर्थ वाले हिस्से में से एक तरफ की मिडिल बर्थ और सामने वाली… Continue reading गृह मंत्रालय ने राज्यों को दिया निर्देश

महानगरों को खाली कराना होगा

भारत सरकार और राज्यों की सरकारें भी अगर कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकना चाहती है तो सबसे पहले महानगरों में रह रहे प्रवासियों की समस्या पर ध्यान देना होगा। देश के छोटे-बड़े सभी शहरों में और खास कर महानगरों में लाखों की संख्या में प्रवासी लोग रहते हैं। दूसरे राज्यों के मजदूर झुग्गी-झोपड़ी कॉलोनियों में रहते हैं। ऐसी कॉलोनियों में तमाम बुनियादी सुविधाओं की कमी है। दिल्ली के महिपालपुर की झुग्गी की कहानियां राष्ट्रीय मीडिया में आई हुई हैं। वहां झुग्गी-झोपड़ी कॉलोनी में पानी नहीं है। ध्यान रहे इस वायरस के संक्रमण के लिए साफ-सफाई और हाथ धोते रहना सबसे पहली जरूरत है पर लोगों के पास पीने का पानी नहीं है तो लोग सफाई क्या करेंगे। जाहिर है कि अगर सफाई के लिए पानी नहीं मिला को वायरस का संक्रमण बढ़ेगा। ऐसी अनगिनत झुग्गियां हैं और सबमें इसी तरह की कहानी है। इन झुग्गियों में दस गुणा दस या 12 गुणा 12 की झोपड़ी में पूरा परिवार रहता है। चार-पांच लोगों का परिवार इतनी छोटी जगह में है, यह अपने आप में स्वास्थ्य के लिए बड़ा खतरा है। अगर कोरोना जैसा संक्रमण फैला हो तो इसका खतरा कितना बढ़ जाता है, यह समझा जा सकता है।… Continue reading महानगरों को खाली कराना होगा

कोरोनाः रेलें और बसें तुरंत चलाएं

लॉकडाउन (तालाबंदी) की ज्यों ही घोषणा हुई, मैंने कुछ टीवी चैनलों पर कहा था और अपने लेखों में भी पहले दिन से लिख रहा हूं कि यह ‘लाकडाउन’ कोरोना से भी ज्यादा खतरनाक सिद्ध हो सकता है। कोरोना से पिछले दो हफ्तों में 20 लोग भी नहीं मरे हैं और 1000 लोग भी उसके मरीज़ नहीं हुए हैं लेकिन शहरों और कस्बों में काम-धंधे बंद हो जाने के कारण अब लाखों मजदूर और छोटे-मोटे कर्मचारी अपने गांवों की तरफ कूच कर रहे हैं। क्यों कर रहे हैं ? क्योंकि उन्हें हर शाम अपनी मजदूरी मिलनी बंद हो गई है। जो लोग कारखानों और दफ्तरों में ही सो जाते थे, उनमें ताले पड़ गए हैं। देश भर के इन करोड़ों लोगों के पास खाने को दाने नहीं हैं और सोने को छत नहीं है। वे अपने गांवों की तरफ पैदल ही चल पड़े हैं। उनके बीवी-बच्चे भी हैं। उनके पेट और जेब दोनों ही खाली हैं।सरकार ने 80 करोड़ लोगों के लिए खाने में मदद की घोषणा करके अच्छा कदम उठाया है लेकिन ये जो अपने गांवों की तरफ दौड़े जा रहे मजदूर, कर्मचारी और छोटे व्यापारी हैं, ये लोग भूख के मारे क्या रास्ते में ही दम नहीं तोड़ देंगे… Continue reading कोरोनाः रेलें और बसें तुरंत चलाएं

प्रवासी को रोकने का निर्देश

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने अलग अलग शहरों से पलायन कर रहे प्रवासी मजदूरों को रोकने का निर्देश जारी किया है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने शुक्रवार को राज्‍य सरकारों और केंद्र शासित प्रदेशों को परामर्श जारी करते हुए कहा है कि कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लागू किए गए लॉकडाउन के दौरान प्रवासी मजदूरों और असंगठित क्षेत्र के कामगारों के शहरों से घरों की ओर हो रहे बड़ी तादाद में पलायन को वे रोकें। गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों को भेजे गए परामर्श में यह भी कहा है कि वे छात्रावासों और कामकाजी महिला छात्रावासों में जरूरी वस्‍तुओं की निर्बाध आपूर्ति को सुनिश्चित करें, जिससे कि कामगार और मजदूर गांवों की ओर पलायन नहीं कर पाएं। गृह मंत्रालय के आधिकारिक प्रवक्‍ता ने बताया कि सरकार ने राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों को एडवाजरी जारी कर कहा है कि वे प्रवासी कृषि मजदूरों, उद्योगों में लगे कामगारों और असंगठित क्षेत्र में काम कर रहे लोगों के बड़े पैमाने पर गांवों की ओर हो रहे पलायन को रोकें ताकि कोरोना वायरस से संक्रमण को दूरदराज के इलाकों में फैलने से रोका जा सके। यही नहीं राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को यह भी… Continue reading प्रवासी को रोकने का निर्देश

और लोड करें