बंगाल का तमाशा, ध्यान भटकाने की साजिश

पश्चिम बंगाल में केंद्र सरकार और उसकी एजेंसियां जो कर रहे हैं वह चुनावी हार की फ्रस्ट्रेशन के अलावा एक सुनियोजित साजिश भी है। तृणमूल नेताओं को गिरफ्तार करा कर या चुनाव बाद की हिंसा के बहाने राज्य सरकार को कठघरे में खड़ा करके या कोरोना वायरस के कुप्रबंधन के बहाने प्रदर्शन करके भाजपा के नेता अपनी खीज और निराशा जाहिर कर रहे हैं पर उसके साथ साथ इन सारे मुद्दों से यह उम्मीद भी कर रहे हैं कि लोगों का ध्यान बंगाल पर लगा रहेगा और लोग कोरोना वायरस के कुप्रबंधन का मुद्दा नहीं उठाएंगे। अंतरराष्ट्रीय मीडिया का ध्यान अपने आप इजराइल और हमास के झगड़े की ओर चला गया और प्रतिबद्ध घरेलू मीडिया को बंगाल के काम में लगा दिया गया है। यह भी पढ़ें: नई नियुक्ति या प्रियंका होंगी संकटमोचन? यह भी पढ़ें: कांग्रेस अब विपक्ष से भी जा रही है सोचें, देश में कोरोना वायरस की महामारी चरम पर है। केसेज भले कम होते दिखाए जा रहे हैं पर अब भी अनेक राज्यों में संक्रमण की दर 10 फीसदी या उससे ऊपर है। मरने वालों की दर सर्वाधिक है। सोमवार को भी चार हजार से ज्यादा लोग मरे। पूरी दुनिया में कोरोना से 10 हजार लोग… Continue reading बंगाल का तमाशा, ध्यान भटकाने की साजिश

तृणमूल नेताओं की गिरफ्तारी पर आज सुनवाई…

एक तृणमूल विधायक और एक अन्य नेता की गिरफ्तारी के मामले में बुधवार को कलकत्ता हाई कोर्ट में सुनवाई होगी…

और लोड करें