ये सारा पैकेज किसके लिए?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 20 लाख करोड़ रुपए का कोरोना पैकेज देने की घोषणा लोगों की उम्मीदें बढ़ा दी थीं। तब उन्होंने कहा था कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण इस पैकेज का किश्तों में एलान करेंगी।

नुकसान की तो हद नहीं!

अर्थव्यवस्था संबंधी अनुमान फिलहाल बड़ी सुर्खियां नहीं बनते। उन्हें बस यूं ही दर्ज कर लिया जाता है। इसलिए कि लोग इस हकीकत को मान बैठे हैं कि पहले से ही संकटग्रस्त अर्थव्यवस्था पर कोरोना महामारी की पड़ी मार बेशुमार है।

संकट के समय साहसिक सुधार!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 12 मई को राष्ट्र को संबोधित करते हुए 20 लाख करोड़ रुपए के राहत पैकेज का ऐलान किया। इसके साथ ही उन्होंने ‘बोल्ड रिफॉर्म्स’ की बात भी कही थी।

कोरोना काल में सेंस ऑफ ह्यूमर

वैसे हम भारतीयों में सेंस ऑफ ह्यूमर यानी हास्य-व्यंग्य की समझदारी थोड़ी कम है फिर भी सोशल मीडिया आने के बाद, जितना संभव होता है लोग इसका परिचय देते हैं।

पैकेज नहीं कर्ज बढ़ाने का जुगाड़

केंद्र सरकार ने कोरोना वायरस के संकट के समय में कई समूहों के लिए छोटी-छोटी राहतों का ऐलान किया है। जन धन खातों में पैसे जा रहे हैं और किसान सम्मान निधि भी बंट रही है।

यह राहत नहीं मुसीबत है!

अब समय आ गया है कि इस बात पर चर्चा हो कि आखिर राहत पैकेज क्या होता है? आर्थिक राहत पैकेज जैसे जुमले शुरू होने से बहुत पहले लोग राहत और बचाव की बात बाढ़ या उस जैसी प्राकृतिक आपदा के समय सुनते थे।

बहुत उम्मीद से मैंने भाषण सुना और…

बहुत लंबे अरसे के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का देश के नाम संबोधन सुनते हुएमुझमें बड़ी आशाएं थी। सबसे बड़ी आशा इस बात की थी कि लॉकडाउन समाप्त करने के बारे में वे क्या बोलेंगे।

सुर्खियों का प्रबंधन है पैकेज

मीडिया की सुर्खियों से इन दिनों कोरोना वायरस गायब है। सोचें, सारी दुनिया में जिस कोरोना वायरस के लेकर हाहाकार मचा है और भारत में भी स्थिति धीरे धीरे बहुत ज्यादा खराब होती जा रही है।

क्या क्या नहीं कहा पीएम ने?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना संकट के दौर में 20 मार्च से 12 मई तक चार बार देश को संबोधित किया और एक बार वीडियो संदेश जारी किया। इस तरह कुल मिला कर पांच संबोधन हुए।

पिछले पैकेज का हिसाब कहां हैं?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 20 लाख करोड़ रुपए का पैकेज घोषित कर दिया। 12 मई को देश को पांचवीं बार संबोधित करते हुए उन्होंने 20 लाख करोड़ के पैकेज की घोषणा की।

तालाबंदीः उबाऊ भाषणों का दौर

कल प्रधानमंत्री और आज वित्तमंत्री का भाषण सुना। दोनों भाषणों से आम जनता को जो उम्मीद थी, वह पूरी नहीं हुई। प्रधानमंत्री का भाषण सभी टीवी चैनलों पर रात को आठ बजे प्रसारित होगा

‘डिटेल’ से कैसा सच निकलेगा?

कहा जाता है कि डेविल इज इन डिटेल- यानी सच ब्योरे में होता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक प्रोत्साहन पैकेज का एलान करते हुए विवरण नहीं दिया।

बातें हैं बातों का क्या?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बातें बहुत अच्छी करते हैं। उनकी बातों में रस होता है, आनंद होता है, भाषा का सौंदर्य होता है, लयात्मकता होती है, जिसे सुन कर लोग मंत्रमुग्ध हो जाते हैं, तालियां बजाते हैं और बहुत बाद में यह सोचते हैं

कांग्रेस ने हड़बड़ी में दी प्रतिक्रिया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का राष्ट्र के नाम संबोधन रात नौ बजे के थोड़ी देर बाद खत्म हुआ और उसी समय कांग्रेस पार्टी के नेता प्रतिक्रिया देने लगे। यह पूछने तक तो ठीक था कि प्रधानमंत्री ने मजदूरों के बारे में कुछ भी क्यों नहीं कहा।

लॉकडाउन 4.0 नए तरह का होगा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार की शाम को राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में चौथे चरण के लॉकडाउन की घोषणा की।

और लोड करें