गहराते अंदेशों से बेफिक्र सरकार

अर्थ जगत की प्रतिक्रिया से साफ है कि देश पर मंडरा रही आर्थिक आशंकाएं और गहरा…

राज्यों के पैकेज का क्या हुआ?

केंद्रीय वित्त मंत्री ने पांच दिन तक लगातार प्रेस कांफ्रेंस करके मीडिया में सुर्खियां बनवाईं।

कर्ज लेकर खाने का मंत्र कितना कारगर?

केंद्रीय वित्त मंत्री ने पांच दिन तक प्रेस कांफ्रेंस करके आर्थिक प्रोत्साहन पैकेज का ऐलान किया।…

मजदूरों को नकद पैसे क्यों नहीं देते?

हर समझदार आदमी सरकार से यहीं सवाल पूछ रहा है। वित्त मंत्री ने पांच दिन प्रेस…

ये सारा पैकेज किसके लिए?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 20 लाख करोड़ रुपए का कोरोना पैकेज देने की घोषणा लोगों की…

नुकसान की तो हद नहीं!

अर्थव्यवस्था संबंधी अनुमान फिलहाल बड़ी सुर्खियां नहीं बनते। उन्हें बस यूं ही दर्ज कर लिया जाता…

संकट के समय साहसिक सुधार!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 12 मई को राष्ट्र को संबोधित करते हुए 20 लाख करोड़ रुपए…

कोरोना काल में सेंस ऑफ ह्यूमर

वैसे हम भारतीयों में सेंस ऑफ ह्यूमर यानी हास्य-व्यंग्य की समझदारी थोड़ी कम है फिर भी…

पैकेज नहीं कर्ज बढ़ाने का जुगाड़

केंद्र सरकार ने कोरोना वायरस के संकट के समय में कई समूहों के लिए छोटी-छोटी राहतों…

यह राहत नहीं मुसीबत है!

अब समय आ गया है कि इस बात पर चर्चा हो कि आखिर राहत पैकेज क्या…

बहुत उम्मीद से मैंने भाषण सुना और…

बहुत लंबे अरसे के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का देश के नाम संबोधन सुनते हुएमुझमें बड़ी…

सुर्खियों का प्रबंधन है पैकेज

मीडिया की सुर्खियों से इन दिनों कोरोना वायरस गायब है। सोचें, सारी दुनिया में जिस कोरोना…