जब आंसू गीत बनकर बहे

कुछ समय पहले की बात है। दिल्ली में थियेटर ओलंपिक के लिये स्क्रीनिंग चल रही थी। शाम को उस दिन का काम खत्म कर हम लोग एनएसडी (राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय) से बाहर निकल रहे थे,