New Year 2023

  • नया वर्षः वही जात, वही मंदिर!

    सन् 2023 का पहला सप्ताह। और सात दिनों की क्या सुर्खियां? बिहार में जाति जनगणना शुरू। दिल्ली के मेयर चुनाव में मारपीट, जन प्रतिनिधियों को खरीदती भाजपा। विदेशी विश्वविद्यालयों के खुले दरवाजे। त्रिपुरा के लोगों टिकट बुक कराओ, एक जनवरी 2024 को गगनचुंबी राममंदिर दर्शन। नए कोविड वैरिएंट के मिले मरीज। अदानी-अंबानी पर अब प्रियंका का हमला। नोटबंदी वैध करार। विपक्ष से राहुल की अपील। संभव है आपने टीवी चैनलों पर हीरा बा, निकाय आरक्षण, दिल्ली एक्सीडेंट, फ्लाइट में पेशाब, मुंबई एक्ट्रेस की आत्महत्या जैसी घटनाओं से ज्ञान प्राप्त किया हो। लेकिन कुल मिलाकर तमाम खबरें वही स्क्रिप्ट लिए हैं...

  • नया वर्ष, पहला दिन संकल्प लेने का

    नव आंग्ल वर्ष के दिन सभी मनुष्य एक दूसरे को नववर्ष की शुभकामनायें देते हैं और कहते हैं - ‘सुखी बसे संसार सब, दुखिया रहे न कोय, यह अभिलाषा हम सबकी भगवन् पूरी होय।।‘ इस बधाई देने में कोई बुराई नहीं है, और सम्पूर्ण वर्ष ही शुभकामनायें देते रहनी चाहिए। सबके सुख, शांति की कामना करनी ही चाहिए। इसीलिए तो भारतीय संस्कृति में ‘सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामयाः। सर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा कश्चिद् दुःखभाग्भवेत्।।’ की कामना की गई है। देश में अब आंग्ल संवत्सर व वर्ष का बोलबाला है। अंग्रेजी वर्ष का आरम्भ 2022 वर्ष पूर्व ईसा मसीह के...

  • दुनिया में नए साल 2023 का आगाज, जश्न में डूबे लोग

    नई दिल्ली | New Year 2023 Welcome: नया साल आएगा... नया साल आएगा.... तो लीजिए आ गया नया साल। दुनिया में साल 2023 का आगाज हो चुका है। दुनिया के कई देशों की घड़ियों ने नए साल 2023 का टाइम दिखाना भी शुरू कर दिया है। कई देश नए साल यानि 2023 में जश्न और पार्टियों में डूब चुके हैं। हालांकि, अभी भारत में नए साल के दस्तक देने में कुछ घंटों का फासला बाकी है। न्यूजीलैंड में आतिशाबाजी और डांस के साथ साल 2023 का स्वागत हुआ। सोशल मीडिया पर नए साल 2023 के आगमन के वीडियो आने लगे...

  • आप का समय शुरू होता है, अब!

    2023 के गर्भ से 2024 का जन्म होगा। 2023 के प्रसव-काल में जैसी देखभाल हम कर पाएंगे, जैसा खानपान हम दे पाएंगे, वैसी ही संतान 2024 की गोद में खेलेगी। इसलिए मेरे कम कहे को ज़्यादा समझिए। इसलिए मेरी चिट्ठी को तार समझिए। संकल्प लेना है, लीजिए। नहीं लेना है, मत लीजिए। लेकिन इतना समझ लीजिए कि आप लें-न-लें, वक़्त करवट ले रहा है। बेहतर है कि आप भी अंगड़ाई लेना शुरू कर दें। नया साल आप को अपने भावी अपराध-बोध से बचाने का अवसर देने के लिए आ रहा है। तय आप को करना है कि आप यह मौका...