Nirad C Chaudhuri

  • राष्ट्रवादी आंदोलन और बौद्धिक पतन

    नीरद बाबू की आत्मकथा के दोनों भाग समकालीन भारत का वास्तविक इतिहास समझने के लिए एक अनिवार्य स्त्रोत-ग्रंथ हैं। उन के प्रकाशन के सात और चार दशक बाद भी उन में कोई बुनियादी भूल कठिनाई से मिलती है। उसे इतिहास, राजनीति, एवं साहित्य शिक्षण की एक महत्वपूर्ण पाठ्य सामग्री बनाना चाहिए। नीरद चौधरी की विहंगम दृष्टि - 2 राष्ट्रीय सुरक्षा, विशेषतः आंतरिक सुरक्षा में स्वतंत्र भारत की भारी दुर्गति हुई है! जहाँ अंग्रेजों ने भारत में सदियों से चल रही अराजकता, हिंसा, लूट, उत्पीड़न, आदि नियंत्रित कर अंदर-बाहर सुरक्षित किया। वहीं भारतीय शासकों ने सत्ता लेते-लेते ही अपने हाथों देश...