मोहर्रम के चालीस गमों के दिनों का समापन

राजस्थान के अजमेर में सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती की दरगाह में फूल प्याला की सवारी निकालने के बाद आज तड़के फूलप्याले को सैराब कर दिया गया और मुस्लिम समुदाय में खुशियों का दौर लौट आया।