kishori-yojna
अपने पैरों पर कुल्हाड़ी न मारे कांग्रेस

कांग्रेस पार्टी अपने पैरों पर कुल्हाड़ी मार रही है, जो वह जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 की बहाली की मांग का समर्थन कर रही है। नेशनल कांफ्रेंस और पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी अगर जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35ए की बहाली की मांग कर रहे हैं तो उनकी मांग समझ में आती है।

कश्मीर में अब क्या होगा ?

कश्मीर की छह प्रमुख पार्टियों ने कल यह तय किया कि जम्मू कश्मीर और लद्दाख की जो हैसियत 5 अगस्त 2019 के पहले थी, उसकी वापसी के लिए वे मिलकर संघर्ष करेंगे। इस संघर्ष का निर्णय 4 अगस्त 2020 को हुआ था, जिसे गुपकार घोषणा कहा जाता है।

महाराष्ट्र की पार्टियों की बिहार में रूचि

महाराष्ट्र के चुनाव में बिहार के मतदाताओं की बड़ी भूमिका होती है इसलिए बिहार के नेता वहां के चुनावों में सक्रिय रहते हैं और किसी न किसी तरह की भूमिका निभाते हैं। पर बिहार के चुनाव में महाराष्ट्र के मतदाताओं या नेताओं का कोई रोल नहीं रहता है।

‘अच्छे लोगों’ के लिए खुले हैं आप के द्वार: आतिशी

पणजी। आम आदमी पार्टी की विधायक आतिशी ने कहा है कि उनकी पार्टी को दूसरे राजनीतिक दलों के ‘अच्छे लोगों’ को अपने यहां लाने में कोई परहेज नहीं है, बशर्ते उनकी कोई भ्रष्ट, सांप्रदायिक और आपराधिक पृष्ठभूमि न हो। दिल्ली में आम आदमी पार्टी की विधायक आतिशी पार्टी के आधार को मजबूती देने के लिए गोवा में थीं। उन्होंने कहा कि पार्टी कांग्रेस और भाजपा के विकल्प के तौर पर उभरना और 2022 का गोवा विधानसभा चुनाव जीतना चाहती है। उन्होंने कहा कि पार्टी के द्वार अन्य राजनीतिक दलों के ‘अच्छे लोगों’ के लिए बंद नहीं हैं। दक्षिणी दिल्ली की कालकाजी सीट से विधायक आतिशी ने कहा, ‘हम हमेशा से कहते आए हैं कि हमारे दरवाजे अन्य राजनीतिक दलों के अच्छे लोगों के लिए खुले हुए हैं। यह कहना अहंकार होगा कि केवल आम आदमी पार्टी में ही अच्छे लोग हैं।’ उन्होंने कहा, ‘अन्य राजनीतिक दलों में भी बहुत से अच्छे लोग हैं। बहुत से ऐसे अच्छे लोग हैं, जिन्हें अकसर लगता है कि वे अपनी पार्टी की संस्कृति से खुश नहीं हैं।’ आतिशी ने कहा कि उनकी पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं को शामिल करने के अपने मानदंडों को लेकर बहुत स्पष्ट है। उन्होंने कहा, ‘हम कभी ऐसे व्यक्ति को… Continue reading ‘अच्छे लोगों’ के लिए खुले हैं आप के द्वार: आतिशी

झारखंड चुनाव में 14 पार्टियों को मिले 2 फीसद वोट

झारखंड विधानसभा चुनाव में 14 से ज्यादा पार्टियां हैं, जिन्हें दो फीसदी से कम वोट मिले हैं। भाकपा, माकपा और ऑल इंडिया फॉरवर्ड ब्लॉक मिलकर एक फीसदी वोट भी नहीं पा सकी हैं।

और लोड करें