kishori-yojna
मोदी है तो मुमकिन है ! हुज़ूर के राज में उदघाटन के साथ ही हो जाती है, बेचने की तैयारी..

निजीकरण की ऐसी आंधी चली कि उद्घाटन के साथ ही बेचने की तैयारी की जाने लगी. पीएम मोदी के आत्मनिर्भर के नारे के साथ उत्तर प्रदेश के…

भाजपा में भूपेंद्र यादव की जगह कौन लेगा?

Bhupendra Yadav BJP  : यह यक्ष प्रश्न है कि भारतीय जनता पार्टी में भूपेंद्र यादव की जगह कौन लेगा? पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा अब किसे वह जिम्मेदारी सौंपेंगे, जो भूपेंद्र यादव निभा रहे थे! Bhupendra Yadav BJP का विकल्प खोजने का मामला इतना भर नहीं है कि उनकी जगह महासचिव कौन बनेगा और क्या जो नया महासचिव बनेगा वहीं बिहार का प्रभारी भी होगा! उनका मामला इससे कहीं आगे का है। वे भाजपा के अंदर ट्रबल शूटर का काम करते थे। अमित शाह ने उन पर भरोसा किया तो जेपी नड्डा ने भी करीब डेढ़ साल तक उनको ढेर सारी जिम्मेदारी देकर रखी। संगठन को मजबूत करने के लेकर विधानसभा और यहां तक स्थानीय निकाय चुनावों तक में उनका इस्तेमाल किया गया। इसलिए उनका विकल्प खोजना बड़ी बात है और यह काम भाजपा के लिए आसान नहीं होगा। Read also सरकार से निकले नेताओं का क्या होगा? एक और अहम बात यह है कि बतौर राज्यसभा सांसद वे जो भूमिका निभा रहे थे उसके लिए भी पार्टी को नया चेहरा खोजना होगा। वे सभी अहम मुद्दों पर उच्च सदन में भाजपा के मुख्य वक्त होते थे। संसद की कई समितियों का काम उनके जिम्मे था और विधायी मसलों… Continue reading भाजपा में भूपेंद्र यादव की जगह कौन लेगा?

सरकार से निकले नेताओं का क्या होगा?

Modi New Cabinet : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार से जिन मंत्रियों की विदाई हुई है उनका क्या होगा? सरकार से हटाए गए नेताओं को लेकर तीन तरह की बातें हो रही हैं। पहला अंदाजा यह है कि कुछ नेताओं को पार्टी संगठन में लिया जा सकता है। दूसरी बात यह है कि कुछ नेताओं को राज्यों में भेजा जा सकता है और तीसरी बात यह है कि कुछ नेता राजभवनों में जा सकते हैं। हालांकि जिनको राजभवन जाना था उनको हटाने से पहले ही कर्नाटक का राज्यपाल नियुक्त कर दिया गया था। इसलिए इस चर्चा में दम नहीं लग रहा है कि रविशंकर प्रसाद तमिलनाडु के राज्यपाल बनेंगे या कोई और नेता राजभवन भेजा जाएगा। यह भी पढ़ें: सामाजिक विकास का एजेंडा नए नेताओं को संभव है कि रविशंकर प्रसाद, प्रकाश जावडेकर और डॉक्टर हर्षवर्धन को पार्टी संगठन में जिम्मेदारी मिले। मोदी सरकार ( Modi New Cabinet ) से एक दर्जन मंत्री हटाए गए और जेपी नड्डा के संगठन से तीन लोगों को सरकार में भेजा गया। पार्टी के महासचिव भूपेंद्र यादव, उपाध्यक्ष अन्नपूर्णा देवी और पार्टी सचिव विश्वेश्वर टुडू को मंत्री बनाया गया है। तभी कहा जा रहा है कि नए महासचिव नियुक्त होने हैं और उपाध्यक्ष भी… Continue reading सरकार से निकले नेताओं का क्या होगा?

हिंदुवादी नहीं जातिवादी कैबिनेट!

Narendra Modi Cabinet 2021 : भारत के प्रधानमंत्री और उनकी कैबिनेट का क्या मतलब है? एक ही लाइन का जवाब है कि गांव लेवल का जातिवाद अब केंद्रीय कैबिनेट की बुनावट है। आजाद भारत के इतिहास में पहले कभी ऐसे नहीं हुआ जो सात जुलाई को हिंदुवादी प्रधानमंत्री ने किया। कैबिनेट को जातियों में बांटा। जातियों के हिसाब से मंत्री पद बांट कर दुनिया को बताया कि हिंदू धर्म वह नारंगी है जो जातीय फांकों में बंटा हुआ है। कैबिनेट के केंद्रीय मंत्री जात से भारत को चलाते हैं। मुझे ध्यान नहीं पड़ रहा है कि केंद्रीय कैबिनेट की फेरबदल से पहले नगाड़ों का ऐसा कभी शोर हुआ हो कि इतने मंत्री ओबीसी-दलित के होंगे। टीवी चैनलों और मीडिया में कैबिनेट से पहले और बाद में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हेडलाइन मैनेजरों का हल्ला अकल्पनीय था कि 53 मंत्री ओबीसी-दलित-आदिवासी-अल्पसंख्यक हैं। वाह! मोदीजी की क्रांति, 77 में से 53 पिछड़े-दलित मंत्री। जैसे जनगणना में जातिगत आंकड़ों का बंटवारा है वैसे ही पिछड़ों, अति पिछड़ों, अनुसूचित जाति और जनजाति की संख्या के अनुसार नरेंद्र मोदी द्वारा मंत्री बनाना और देश व दुनिया में चर्चा करवाना कि मोदीजी ने फलां-फलां जातियों के फलां-फलां लोगों को मंत्री बनाया! मंत्रीजी का रुतबा.. रेलमंत्री ने… Continue reading हिंदुवादी नहीं जातिवादी कैबिनेट!

नया कैबिनेट, भाजपा-संघ को ठेंगा!

cabinet expansion 2021 rss : यों संघ-भाजपा में ऐसे सोचने की क्षमता नहीं है। लेकिन लॉजिक, सामान्य समझ और पार्टी-विचार के बेसिक सत्य में जरा सोचें तो क्या किसी संगठन को यह बरदाश्त होना चाहिए जो मंत्रिमंडल भी अफसरी-फेसलेस निराकार हो जाए! नरेंद्र मोदी और अमित शाह ने गजब किया है जो भाजपा-संघ से सलाह करना भी बंद कर दिया और वाजपेयी-आडवाणी वाले वक्त की संघ नर्सरी से पैदा तमाम नेता और सांसदों की एक-एक करके छुट्टी कर पूरा कैबिनेट अफसरों या निराकार चेहरों का बना डाला। 77 मंत्रियों में से मोदी-शाह को अलग कर अब सिर्फ राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी, नरेंद्र सिंह तोमर, अर्जुन मुंडा, मुख्तार अब्बास नकवी को छोड़ कर वाजपेयी-आडवाणी काल का अनुभवी जमीनी नेता कौन है? बाकी सब या तो अफसर या मोदी-शाह की मेहरबानी से बने मंत्री-सांसद हैं। जयशंकर, निर्मला सीतारमण, नए रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव, उर्जा मंत्री आरके सिंह, ज्योतिरादित्य सिंधिया, नारायण राणे, हरदीप सिंह पुरी वे सर्वाधिक महत्व के विभाग और आर्थिक दशा के संचालक मंत्री हैं, जिनका क्या तो भाजपा से नाता है और क्या ये कभी आरएसएस और भाजपा की वोट राजनीति में जनाधार वाले रहे? यह भी पढ़ें: नया कैबिनेट, भाजपा-संघ को ठेंगा! बाकी राज्यमंत्रियों के स्तर के भी चेहरे… Continue reading नया कैबिनेट, भाजपा-संघ को ठेंगा!

टेक्नोक्रेट मंत्री बनाने का प्रचार

new cabinet technocrat minister : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को अपने मंत्रिमंडल का विस्तार किया, लेकिन उससे एक दिन पहले मंगलवार को ही सभी टेलीविजन चैनलों पर यह बताया जाने लगा था कि इस बार मंत्रिमंडल में रिकार्ड संख्या में पेशेवर और टेक्नोक्रेट ( new cabinet technocrat minister ) शामिल किए जाएंगे। इसके साथ दो-तीन और चीजों का प्रचार हुआ, जैसे रिकार्ड संख्या ओबीसी, एससी और एसटी शामिल हो रहे हैं, रिकार्ड संख्या में अल्पसंख्यक शामिल हो रहे हैं, अब तक के इतिहास का सबसे युवा मंत्रिमंडल होगा आदि-आदि। इसी लाइन पर बुधवार की सुबह अखबारों में खबरें भी छपीं, लेकिन उस समय तक किसी को मंत्रियों के नाम पता नहीं थे। फिर भी पूरी श्रद्धा से सबने इस लाइन को फॉलो किया और खबरें छापी गई। असल में इसके जरिए राजनीतिक नैरेटिव को ट्विस्ट देने का प्रयास किया गया। मोदी सरकार के ऊपर कोरोना संकट के समय ठीक से काम नहीं करने का जो आरोप लगा था या हाल के दिनों में हुए चुनावों के जो नतीजे आए हैं उन्हें देखते हुए पिछड़े, दलित, वंचित, गरीब की सरकार होने का नैरेटिव बनाना था तो साथ ही मध्य वर्ग को आकर्षित करने का नैरेटिव भी बनाना था। यह भी… Continue reading टेक्नोक्रेट मंत्री बनाने का प्रचार

modi new cabinet 2021 : क्या-क्या करे नया मंत्रिमंडल?

modi new cabinet 2021 : स्वतंत्र भारत में इंदिराजी के ‘कामराज प्लान’ के बाद सबसे बड़ी साहसिक पहल प्र.मं. नरेंद्र मोदी ने की है। नए और युवा मंत्रियों को अपने अनुशासन में रखना और उनसे अपने मन मुताबिक काम करवाना आसान रहेगा लेकिन उनसे कौन से काम करवाना है, यह तो प्रधानमंत्री को ही तय करना होगा। पिछले सात वर्षों में इस सरकार ने कुछ भयंकर भूलें की हैं तो कई अच्छे कदम भी उठाए हैं, जिनका लाभ जनता के विभिन्न वर्गों को बराबर मिल रहा है। यह भी पढ़ें: कई-कई राज्यमंत्री क्या करेंगे? लेकिन जैसा राष्ट्र गांधी, लोहिया और दीनदयाल उपाध्याय बनाना चाहते थे, वैसा राष्ट्र बनाना तो दूर रहा, उस लक्ष्य के नजदीक पहुंचना भी हमारी कांग्रेस, जनता पार्टी और भाजपा सरकारों के लिए मुश्किल रहा है। इस समय नरेंद्र मोदी चाहें तो उक्त महापुरुषों के सपनों को कुछ हद तक साकार कर सकते हैं। क्योंकि इस वक्त पार्टी, सरकार और देश में उनका एकछत्र राज है। उनकी पार्टी और विपक्ष में उनके विरोधियों के हौंसले पस्त हैं। उनकी लोकप्रियता थोड़ी घटी जरुर है, कोरोना की वजह से लेकिन आज भी उनकी आवाज पर पूरा देश आगे बढ़ने को तैयार है। इस नए मंत्रिमंडल का पहला लक्ष्य तो… Continue reading modi new cabinet 2021 : क्या-क्या करे नया मंत्रिमंडल?

मंत्रियों के नाम से पहले मीडिया में बना नैरेटिव

obc ministers media narrative : नरेंद्र मोदी की दूसरी सरकार के पहले विस्तार में कौन कौन मंत्री बनेगा और कौन कौन बाहर होगा इसका अंदाजा किसी को नहीं था। तभी बुधवार को शाम छह बजे शपथ समारोह से चंद मिनट पहले तक अटकलें लगाई जा रही थीं। कुछ गिने-चुने नामों को छोड़ कर किसी चैनल या अखबार के पत्रकार को पता नहीं था कि कौन कौन मंत्री बन रहा है। लेकिन यह सबको पता था कि मोदी कैबिनेट अब तक की सबसे युवा कैबिनेट होगी, अब तक के इतिहास में सबसे ज्यादा ओबीसी, एससी और एसटी मंत्री बनेंगे और अब तक के इतिहास में सबसे ज्यादा प्रोफेशनल्स को सरकार में जगह मिलेगी। यह भी पढ़ें: सरकार में कम हुआ बिहार का महत्व! सोचें, जब किसी को नाम ही नहीं पता है कि कौन कौन मंत्री बन रहा है फिर यह कैसे पता चला कि सबसे ज्यादा ओबीसी, एससी और एसटी होंगे या युवा होंगे या पेशेवर होंगे? जाहिर है प्रधानमंत्री कार्यालय में मंत्रियों की सूची बना कर तैयार रखी गई थी और उस आधार पर यह विश्लेषण कर लिया गया था कि कितने ओबीसी, एससी या एसटी हैं और कितने युवा हैं और कैबिनेट की औसत आयु क्या बन रही… Continue reading मंत्रियों के नाम से पहले मीडिया में बना नैरेटिव

बाहर से आए नेताओं की भरमार

bjp jyoditraditya scindia : केंद्र में नरेंद्र मोदी की दूसरी सरकार की पहला फेरबदल में कई ऐसे चेहरे हैं, जो अनाम हैं यानी जिनके बारे में दिल्ली की मीडिया को पता ही नहीं है। सबका बायोडाटा लेकर मीडियाकर्मी राज्यों में फोन करके जानकारी ले रहे थे। लेकिन अनेक ऐसे चेहरे हैं, जिनके बारे में सब लोग जानते थे। ऐसे चेहरों में उन नेताओं की भरमार है, जो दूसरी पार्टियों से आए हैं या दूसरे काम में थे और भाजपा या किसी दूसरी पार्टी से नहीं जुड़े थे। सहयोगी पार्टियों के अलावा ऐसे नेताओं की भरमार है, जिनको भाजपा ने अपना बनाया है। यह भी पढ़ें: नया कैबिनेट, उम्मीद करना फालतू! कांग्रेस छोड़ कर भाजपा में गए ज्योतिरादित्य सिंधिया इसकी मिसाल हैं तो शिव सेना और उसके बाद कांग्रेस छोड़ कर भाजपा में शामिल हुए नारायण राणे दूसरी मिसाल हैं। शपथ ग्रहण समारोह में ये दोनों नेता अगली पंक्ति में बैठाए गए। असम के पूर्व मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल भी भाजपा के पुराने नेता नहीं हैं। वे 10 साल पहले 2011 में भाजपा में शामिल हुए थे। उससे पहले वे असम गण परिषद से जुड़े थे और उसकी टिकट पर विधायक व सांसद दोनों रहे थे। उनको पहले भाजपा ने मुख्यमंत्री बनाया… Continue reading बाहर से आए नेताओं की भरमार

PM Modi के नए मंत्रियों ने खोला पिटारा! मंडी के जरिए किसानों को 1 लाख करोड़, हेल्थ इमरजेंसी के लिए 23 हजार करोड़

नई दिल्ली | प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) के मंत्रिमंडल विस्तार के साथ ही पीएम मोदी के मंत्रियों (PM Modi New Cabinet) ने आज कामकाज संभालते ही कई महत्वपूर्ण सेवाओं के लिए पिटारा खोल दिया। किसानों को मंडी के जरिए एक लाख करोड़ और हेल्थ इमरजेंसी पैकेज के लिए 23 हजार करोड़ रुपए का ऐलान किया गया। गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपनी नई टीम (PM Modi New Cabinet) के साथ वर्चुअली बैठक आयोजित की। इस बैठक में कृषि से संबंधित और स्वास्थ्य सेवाओं सहित कई महत्वपूर्ण विषयों पर बड़े फैसले लिए गए। केन्द्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने जानकारी देते हुए कहा कि किसानों को राहत देने के लिए मंडी के जरिए एक लाख करोड़ रुपये दिए जाएंगे। पिछले साल 15 मई को ‘एग्रीकल्चर फंड’ का गठन किया गया था, इस फंड में वित्तीय योगदान के तरीकों में बदलाव किया गया है। साथ ही कोरोना से जंग के लिए 23,123 करोड़ रुपए के इमरजेंसी पैकेज को कैबिनेट की मंजूरी मिली है। ये भी पढ़ें:-HP: BJP प्रदेशाध्यक्ष सुरेश कश्यप की वीरभद्र सिंह के अंतिम दर्शन के बाद बिगड़ी तबियत, ICU में भर्ती कृषि कानून से मंडियां खत्म नहीं, बल्कि मजबूत होंगी केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर… Continue reading PM Modi के नए मंत्रियों ने खोला पिटारा! मंडी के जरिए किसानों को 1 लाख करोड़, हेल्थ इमरजेंसी के लिए 23 हजार करोड़

नया कैबिनेट, उम्मीद करना फालतू!

Cabinet Expansion 2021 IAS : बुधवार, सात जुलाई की शाम को राष्ट्रपति भवन के दरबार हॉल में जब ओड़िशा काडर के 1994 बैच के आईएएस अधिकारी अश्विनी वैष्णव भारत सरकार के कैबिनेट मंत्री पद की शपथ लेने राष्ट्रपति के सामने पहुंचे तो आंखें जुड़ा गईं, मन आह्लादित हो गया और जीवन धन्य हो गया! यह याद करके कि इसी साल 12 फरवरी को संसद के बजट सत्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के आईएएस अधिकारियों के लिए अपने मनोद्गार व्यक्त किए थे। उनके शब्द थे- ‘सब कुछ बाबू ही करेंगे। आईएएस बन गए मतलब वो फर्टिलाइजर का कारखाना भी चलाएगा, आईएएस हो गया तो हवाई जहाज जहाज भी चलाएगा, ये कौन सी बड़ी ताकत बना कर रख दी है हमने? बाबुओं के हाथ में देश देकर हम क्या करने वाले हैं? हमारे बाबू देश के हैं तो देश का नौजवान भी तो देश का है’! तभी अश्विनी वैष्णव को शपथ लेते देख कर पहले हैरानी हुई लेकिन फिर लगा कि प्रधानमंत्री कितने लचीले हैं, जो पांच महीने पहले कही गई अपनी बात को दिल से निकाल दिया और ‘बाबुओं’ को देश चलाने लायक समझा। ध्यान रहे आईएएस अधिकारी अपने को ‘बाबू’ कहे जाने से नाराज होते हैं। आईएएस एसोसिएशन… Continue reading नया कैबिनेट, उम्मीद करना फालतू!

मंत्रिपरिषद में फेरबदल : भाजपा ने जो बताया

भाजपा ने बता दिया है कि अब मंत्रिपरिषद में 13 दलित, 27 ओबीसी और आठ जनजातियों के मंत्री हैं। आम भारतीय जन मानस की जैसी सरंचना है, उसमें यह महत्त्वपूर्ण है। इसके साथ ही मंडलवादी और कांशीरामवादी प्रतिनिधित्व की राजनीति पूरी तरह हिंदुत्व परियोजना में समाहित कर ली गई है। PM Modi new Cabinet : नरेंद्र मोदी मंत्रिपरिषद में फेरबदल की खबर के लाइव प्रसारण के समय एक टीवी चैनल पर अचानक ये बताया गया कि मोदी सरकार ने नए मंत्रियों की जो प्रोफाइल भेजी है, उसमें कुछ नई बातें हैँ। अनुभवी पत्रकारों ने कहा कि ऐसा उन्होंने इसके पहले कभी नहीं देखा था। नए मंत्रियों के परिचय में यह उल्लेख है कि वे किस जाति और उस जाति समूह की किस उप जाति से आते हैँ। जिस क्षेत्र से आते हैं उसका भी ब्योरा दिया साफ शब्दों में दिया गया था। यानी भाजपा यह मेसेज समाज में देना चाहती थी कि मंत्रिपरिषद की नई संचरना तय करते समय उसने किस तरह की ‘सोशल इंजीनियरिंग’ की है। ‘सोशल इंजीनियरिंग’ की धारणा 1990 के दशक में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के भीतर स्वीकृत हुई थी। उसके मुताबिक हिंदू समाज की जातीय रचना को स्वीकार करते हुए हिंदुत्व की परियोजना को व्यापकता देने… Continue reading मंत्रिपरिषद में फेरबदल : भाजपा ने जो बताया

Narendra Modi New Cabinet: PM मोदी की नई बिग्रेड तैयार, जानें किसे मिली कौन सी जिम्मेदारी

नई दिल्ली | Narendra Modi New Cabinet: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मंत्रिमंडल का विस्तार हो गया है। जिसमें कई दिग्गज नेताओं को अपने पद से हाथ धोना पड़ा तो कई नए चेहरों को देश की सेवा के लिए मौका मिला। पीएम मोदी के नए मंत्रिमंडल में आगामी चुनावों को ध्यान में रखते हुए युवा नेताओं और राजनीति के मंझे हुए दिग्गजों का सामंजस्य देखने को मिल रहा है। कई दिग्गजों के छिने पद, नयों को मिला मौका मोदी के मंत्रिमंडल विस्तार में राजनीति के कई दिग्गजों को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ हैं जिनमें डाॅ. हर्षवर्धन, रविशंकर, प्रकाश जावड़ेकर समेत कुल 12 मंत्री हैं। वहीं दूसरी और ऐसे भी युवा और अनुभवी नेता हैं जिन्हें पहली बार पीएम मोदी की कैबिनेट में जगह मिली है। जिनमें ज्योतिरादित्य सिंधिया, नारायण राणे और सर्बानंद सोनोवाल प्रमुख हैं। पीएम मोदी की कैबिनेट (Narendra Modi New Cabinet) में 43 नए मंत्रियों ने शपथ ली। जिनमें 15 सदस्यों को कैबिनेट मंत्री और 28 को राज्यमंत्री के तौर पर शपथ दिलाई गई। अब केंद्रीय मंत्रिपरिषद के सदस्यों की संख्या प्रधानमंत्री मोदी सहित 78 हो गई है। 15 कैबिनेट मंत्रियों को मिले ये विभाग  निर्मला सीतारमण- वित्त मंत्रालय और कॉर्पोरेट मंत्रालय  अमित शाह- गृह… Continue reading Narendra Modi New Cabinet: PM मोदी की नई बिग्रेड तैयार, जानें किसे मिली कौन सी जिम्मेदारी

मोदी मंत्रिमंडल का विस्तार आज!

modi cabinet expansion : नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी दूसरी सरकार का पहला विस्तार बुधवार को कर सकते हैं। जानकार सूत्रों के मुताबिक बुधवार को शाम छह बजे नए मंत्रियों को शपथ दिलाई जा सकती है। यह भी बताया जा रहा है कि कुछ मंत्रियों की छुट्टी हो सकती है और कुछ के विभाग बदले जा सकते हैं। मोदी मंत्रिमंडल में बदलाव की चर्चाओं को इस बात से भी बल मिला है कि कैबिनेट मंत्री थावरचंद गहलोत को कर्नाटक का राज्यपाल बना दिया गया है। बहरहाल, फेरबदल और विस्तार की चर्चाओं के बीच संभावित मंत्रियों का दिल्ली पहुंचना शुरू हो गया है। कांग्रेस छोड़ कर भाजपा में शामिल हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया को अचानक दिल्ली बुला लिया गया है। वे इंदौर में महाकाल के दर्शन के लिए गए थे, जहां से उनको दिल्ली आने के लिए कहा गया। माना जा रहा है कि नए मंत्रियों की सूची में उनका नाम शामिल हैं। मध्य प्रदेश से उनके अलावा जबलपुर के सांसद राकेश सिंह का नाम भी शामिल बताया जा रहा है। महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री नारायण राणे और असम के पूर्व मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल भी दिल्ली पहुंच चुके हैं। इन दोनों के भी मंत्री बनने की चर्चा है। modi cabinet expansion… Continue reading मोदी मंत्रिमंडल का विस्तार आज!

PM Modi Cabinet के विस्तार को लेकर आज प्रमुख बैठक, होंगे बड़े फैसलें, कई मंत्रियों पर गिर सकती है गाज!

नई दिल्ली | PM Modi Cabinet Expansion 2021 : केंद्रीय मंत्रिमंड विस्तार की कवायद शुरू हो गई है। ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) के मंत्रिमंडल विस्तार लेकर आज पीएम मोदी के आवास पर भाजपा के कई बड़े नेताओं और मंत्रियों की बैठक होने जा रही है। जिसे लेकर कैबिनेट में बड़े फेरबदल की आशंका जताई गई है। यह भी पढ़ें:- मिट जाएंगे पर पीछे नहीं हटेंगे: लालू अच्छा प्रदर्शन नहीं करने वालों पर गिरेगी गाज! सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, मंत्रिमंडल का ये विस्तार कई राज्यों उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, गुजरात में होने वाले आगामी विधानसभा चुनावों और लोकसभा चुनाव 2024 को ध्यान में रखकर किया जा रहा है। सूत्रों की मानें तो जिन मंत्रियों ने अपने कार्यकाल के दौरान अच्छा प्रदर्शन नहीं किया उन्हें हटाने या फिर विभाग बदलने जैसे कदम उठाए जा सकते हैं। ये भी पढ़ें:- शिव सेना दुश्मन नहीं: भाजपा इन बड़े नामों पर हो रहा मंथन PM Modi Cabinet Expansion 2021 : मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, प्रधानमंत्री खाली पड़ी 28 जगहों में से कुछ पर भाजपा नेताओं को मौका दे सकते हैं। ज्योतिरादित्य सिंधिया, असम के सर्वानंद सोनोवाल को मंत्रिमंडल में शामिल किया जा सकता है। इसके अलावा यूपी में एनडीए के सहयोगी अपना दल… Continue reading PM Modi Cabinet के विस्तार को लेकर आज प्रमुख बैठक, होंगे बड़े फैसलें, कई मंत्रियों पर गिर सकती है गाज!

और लोड करें