बूढ़ा पहाड़
महाराष्ट्र में आज केबिनेट विस्तार

मुंबई। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के एक महीने बाद उद्धव ठाकरे अपने मंत्रिमंडल का विस्तार करने जा रहे हैं। 30 दिसंबर को उनके मंत्रिमंडल का विस्तार होगा, जिसमें करीब 35 मंत्रियों को शपथ दिलाई जा सकती है। गौरतलब है कि उद्धव ठाकरे ने 28 नवंबर को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी। उनके साथ गठबंधन सरकार में शामिल तीन पार्टियों- शिव सेना, एनसीपी और कांग्रेस के दो-दो मंत्रियों को शपथ दिलाई गई थी। बहुमत साबित करने और विधानसभा का सत्र बीतने के बाद सोमवार को वे अपनी सरकार का विस्तार कर रहे हैं। बताया जा रहा है कि इसमें तीन पार्टियों को बराबर मंत्री शपथ ले सकते हैं। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष और महाराष्ट्र सरकार के मंत्री बाला साहेब थोराट ने कहा है कि मंत्रियों के शपथ ग्रहण समारोह के लिए सूची को अंतिम रूप दे दिया गया है। उन्होंने कहा है कि कांग्रेस के 12 मंत्री होंगे, इनमें से 10 को कैबिनेट रैंक मिलेगी। हालांकि कांग्रेस के पहले से ही दो मंत्री हैं और अगर 12 मंत्री और बनाए जाते हैं तो इसका मतलब होगा कि सरकार में उसके 14 मंत्री हो जाएंगे। गौरतलब है कि राज्य सरकार में मुख्यमंत्री सहित कुल 43 मंत्री हो सकते… Continue reading महाराष्ट्र में आज केबिनेट विस्तार

हिंदू या भारतीय, क्या कहें?

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के मुखिया मोहन भागवत के हिंदू-संबंधी बयान पर भाजपा की कुछ सहयोगी पार्टियों ने असहमति व्यक्त की है और विरोधी दल पूछ रहे हैं कि यदि संघ सभी भारतीयों को हिंदू मानता है तो उसने नए नागरिकता कानून में मुसलमानों को शरण नहीं देने का समर्थन क्यों किया है ? विरोधियों का यह सवाल बिल्कुल जायज है। कल मैंने अपने लेख में कहा था कि हिंदू शब्द के मूल अर्थ पर हम जाएं तो प्रत्येक बांग्लादेशी, पाकिस्तानी और यहां तक कि अफगान भी हिंदू ही कहलाएगा। इसलिए वहां से आनेवाले मुसलमानों को शरण नहीं देना मोहन भागवत के कथन को उलट देना है। दूसरे शब्दों में भाय-भाय (मोदी और शाह) मिलकर क्या भागवत की काट कर रहे हैं ? याने संघ और भाजपा एक-दूसरे का विरोध कर रहे हैं या उसे यों कहा जा सकता है कि भागवत द्वारा हिंदुत्व की जो नई व्याख्या दी गई है, उसे भाई लोग समझ नहीं पा रहे हैं और वे पुरानी सावरकरवादी व्यवस्था से चिपके हुए हैं। यदि ‘हिंदू’ शब्द की भागवत परिभाषा आप मान लें तो पड़ौसी देशों के शरणार्थियों को शरण देते वक्त उनकी उपसाना-पद्धति का अड़ंगा लगाना निरर्थक होगा। यह ठीक है कि भारत के मुसलमान, सिख, ईसाई,… Continue reading हिंदू या भारतीय, क्या कहें?

प्रियंका से यूपी पुलिस की धक्का-मुक्की!

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में शनिवार को हाई वोल्टेज ड्रामे के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के साथ राज्य पुलिस ने धक्का-मुक्की की। इसके बावजूद प्रियंका पुलिस को चमका देकर नागरिकता कानून के विरोध के दौरान पुलिस की कथित ज्यादती का शिकार हुए लोगों के परिजनों से मिलने पहुंच गईं। पुलिस के रोके जाने के बावजूद प्रियंका पूर्व आईपीएस अधिकारी दारापुरी के परिजनों से मिलीं। हालांकि कांग्रेस की गिरफ्तार नेता सदल जफर के परिजनों से उनकी मुलाकात नहीं हो सकी। कांग्रेस के स्थापना दिवस पर शनिवार को पार्टी के प्रदेश मुख्यालय नेहरू भवन में एक कार्यक्रम में शामिल होने के बाद प्रियंका इंदिरानगर स्थित पूर्व आइपीएस एसआर दारापुरी के घर रवाना हुईं। काफिले को पॉलीटेक्निक चौराहे पर पहुंचते ही पुलिस ने रोक लिया। इस दौरान पुलिस से तीखी बहस के बाद प्रियंका गाड़ी से उतर कर पैदल चलने लगीं। थोड़ी देर में पुलिस ने उनको पैदल चलने से भी रोक दिया। प्रियंका गांधी वाड्रा ने आरोप लगाते हुए कहा है- मैं गाड़ी से उतर कर पैदल चलने लगी। मुझे घेरा गया और एक महिला पुलिसकर्मी ने मेरा गला दबाया। मुझे धक्का दिया गया और मैं गिर गई। आगे चलकर फिर मुझे पकड़ा तो मैं एक कार्यकर्ता के… Continue reading प्रियंका से यूपी पुलिस की धक्का-मुक्की!

और लोड करें