कहीं भारी न पड़ जाए लापरवाही

लगभग 2 महीने के लॉक डाउन के बाद धीरे-धीरे बाजार दफ्तर खुलने लगे हैं और रेल एवं हवाई यात्राएं शुरू होने जा रहे हैं। इससे धीरे-धीरे जनजीवन सामान्य होने का एहसास होगा लेकिन थोड़ी सी लापरवाही भारी पड़ सकती है