पंजाब सुलह के बाद कांग्रेस आलाकमानों का राजस्थान कूच, इसी महीने मंत्रिमंडल विस्तार के संकेत!

नई दिल्ली | Rajasthan Cabinet Expansion: पंजाब में सियासी लड़ाई (Punjab Political Crisis) में विराम लगाने के बाद अब कांग्रेस आलाकमानों की नजर राजस्थान पर है। राजस्थान में चल रहे गहलोत गुट (Ashok Gehlot) और पायलट गुट (Sachin Pilot) के बीच घमासान (Rajasthan Political Crisis) को रोकने के लिए पार्टी के आलाकमान जयपुर पहुंच रहे हैं। पार्टी के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल (Venugopal) शनिवार को जयपुर पहुंच रहे हैं। सूत्रों की माने तो पार्टी के राजस्थान प्रभारी अजय माकन (Ajay Maken) भी जयपुर पहुंच सकते हैं। ये भी पढ़ें:- राज कुंद्रा गिरफ्तारी के बाद पहली बार बोली शिल्पा शेट्टी, कहा – ‘मेरे पति हैं निर्दोष’ ये शख्स है गुनहगार सोनिया-प्रियंका-राहुल गांधी का पूरा ध्यान राजस्थान पर सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, पंजाब में सिद्धू की ताजपोशी के बाद और मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के बीच सुलह के बाद अब सोनिया गांधी, प्रियंका गांधी और राहुल गांधी का पूरा ध्यान राजस्थान की राजनीति में हो रहे घमासान पर है। ऐसे में पार्टी आलाकमानों ने अजय माकन से राजस्थान के सियासी घमासान का हल निकालकर इस मसले को जल्द से जल्द खत्म करने के लिए कहा है। अजय माकन व वेणुगोपाल की सीएम अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) से मुलाकात के साथ ही मंत्रिमंडल… Continue reading पंजाब सुलह के बाद कांग्रेस आलाकमानों का राजस्थान कूच, इसी महीने मंत्रिमंडल विस्तार के संकेत!

Vasundhara के समर्थक पूर्व मंत्री Rohitash Sharma को नोटिस, बोले- राजे मेरी नेता, नहीं निकाल सकते हैं पार्टी से

जयपुर | राजस्थान में कांग्रेस ही नहीं भाजपा में भी वर्चस्व की लड़ाई अब जोर पकड़ने लगी है। जहां कांग्रेस में सीएम गहलोत और सचिन पायलट समर्थकों के दो गुट हो गए हैं। वहीं भाजपा भी दो गुटों में तब्दील हो चुकी है। जिसमें पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) के समर्थक राजस्थान में किसी भी नए चेहरे को आगामी विधान सभा चुनावों में राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में नहीं देखना चाहते हैं। राजे के ये समर्थक चुनावों से पहले ही बयानबाजी कर रहे है और माहौल को गरमाने में लगे हैं। 15 दिन के अंदर मांगा जवाब ऐसे में राजस्थान भाजपा में चल रही गुटबाजी के बीच भाजपा आलाकमानों ने अनर्गल बयानबाजी करने वाले नेताओं पर कार्रवाई करना शुरू कर दिया है। पूर्व विधायक और मंत्री रोहिताश शर्मा (Rohitash Sharma) को पार्टी ने नोटिस जारी कर दिया है और उनके विवादित बयान पर 15 दिन के अंदर जवाब मांगा है। अगर 15 दिन के अंदर रोहिताश शर्मा ने स्पष्टीकरण नहीं दिया तो मामला अनुशासन समिति को भेज दिया जाएगा। बता दें कि रोहिताश शर्मा को पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के काफी नजदीक माना जाता है। राजे सरकार में रोहिताश शर्मा मंत्री भी रह चुके हैं। ये भी पढ़ें:- PM… Continue reading Vasundhara के समर्थक पूर्व मंत्री Rohitash Sharma को नोटिस, बोले- राजे मेरी नेता, नहीं निकाल सकते हैं पार्टी से

Rajasthan: निर्दलीय MLA बोले- सरकार को खतरा हुआ तो धूल चटा देंगे, पायलट ने अभी संघर्ष देखा ही कहां है

जयपुर | Rajasthan Political Battle: राजस्थान में चल रही सियासी जंग में अब महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले निर्दलीय विधायकों (Independent MLA) ने भी हुंकार भर दी है। इन निर्दलीय विधायकों ने आज सर्किट हाउस में बैठक कर अपना सियासी दांव खेला है। इस बैठक में सभी निर्दलीय विधायकों ने सीएम अशोक गहलोत का समर्थन करते हुए कहा कि, अशोक गहलोत ने भाजपा नेताओं के घुटने टिकवा दिए थे, ये तो सचिन पायलट भाग्यशाली हैं। अच्छे घर में पैदा हुए और लगातार बड़े पद मिलते चले गए। उन्होंने अभी संघर्ष देखा ही कहा है। लोढ़ ने कहा कि, अशोक गहलोत के नेतृत्व में पहले भी ऐसे इरादे नेस्तनाबूत किये गए। ये भी पढ़ें:- Jammu Kashmir में बहेगी विकास की गंगा! PM मोदी के साथ कश्मीरी नेताओं की बैठक कल, महबूबा मुफ्ती दिल्ली रवाना सरकार को हुआ खतरा तो धूल चटा देंगे Rajasthan Political Battle : विधायकों की बैठक के बाद प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए विधायक संयम लोढ़ा ने कहा कि, राहुल गांधी ने हमें एसोसिएट मेम्बर बनाया है। किसी को हम पर सवाल उठाने का अधिकार नहीं है। राजस्थान के निवासियों को स्थिर सरकार देना ही हमारा कर्तव्य है और सरकार को खतरा पैदा किया गया तो धूल चटा देंगे। ये… Continue reading Rajasthan: निर्दलीय MLA बोले- सरकार को खतरा हुआ तो धूल चटा देंगे, पायलट ने अभी संघर्ष देखा ही कहां है

राजस्थान में सियासी घमासान के बीच गहलोत समर्थक निर्दलीय MLA ओमप्रकाश हुड़ला को जान से मारने की धमकी

जयपुर | Threat to Kill MLA Om Prakash Hudla: राजस्थान में सियासी उठापटक (Rajasthan Political Crisis) के बीच अशोक गहलोत समर्थक निर्दलीय विधायक ओमप्रकाश हुड़ला (Om Prakash Hudla) को जान से मारने की धमकी ने प्रशासन में हड़कंप मचा दिया है। जानकारी के अनुसार, मंगलवार देर रात निर्दलीय विधायक ओमप्रकाश हुड़ला को मोबाइल पर जान से मारने की धमकी (Threat) दी गई। ये फोन अज्ञात मोबाइल नंबर से आया बताया गया है। हुड़ला को धमकी की खबर के बाद से पुलिस-प्रशासन सहित राजनीतिक गलियारों में भी हड़कंप मच गया है। राजस्थान में चल रही राजनीतिक उठापटक के बीच मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने विधायक हुड़ला की सुरक्षा व्यवस्था को बढ़ा दिया है। ये भी पढ़ें:- दौसा विधायक Murari Lal Meena ने किया Pilot का समर्थन, गहलोत खेमे में मची खलबली! अज्ञात नंबर से आया फोन, लोकेशन ट्रेस देर रात जान से मारने की धमकी भरा फोन आने के बाद विधायक हुड़ला रामनगरिया थाने पहुंचे और सारा माजरा पुलिस को बताया। जिसके बाद अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज किया गया। राजस्थान में चल रहे राजनीतिक माहौल में मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने तुंरत एक्टिव मोड में आ गई और अज्ञात मोबाइल नंबर की लोकेशन ट्रेस करवाई… Continue reading राजस्थान में सियासी घमासान के बीच गहलोत समर्थक निर्दलीय MLA ओमप्रकाश हुड़ला को जान से मारने की धमकी

दौसा विधायक Murari Lal Meena ने किया Pilot का समर्थन, गहलोत खेमे में मची खलबली!

जयपुर | Murari Lal Meena : राजस्थान में चल रही सीएम गहलोत और सचिन पायलट के बीच सियासी लड़ाई अब पंजाब की तर्ज पर और तेज हो गई है। Ashok Gehlot खेमे और Sachin Pilot खेमे के बीच लगातार बयानबाजी का दौर जारी है। हर रोज दोनों तरफ से हो रही समर्थकों की बयानबाजी ने राजनीतिक माहौल गरमा दिया है। अब कांग्रेस के राजनेता और दौसा से विधायक मुरारीलाल मीणा (Murari Lal Meena) ने सचिन पायलट का समर्थन करके गहलोत खेमे में खलबली मचा दी है। गुर्जर-मीणा एक जुट हैं दौसा विधायक मुरारीलाल मीणा ने आज एक ट्वीट कर कहा है कि गुर्जर और मीना समाज के बीच सदियों से ही अच्छे और दोस्ताना संबंध रहे है। कुछ राजनीतिक साजिशों की वजह से इनमे दूरियां आ गई थी, लेकिन 2018 विधानसभा चुनावों मे सचिन पायलट के नेतृत्व में दोनों समाजों ने एकजुटता का परिचय दिया, जो हमेशा कायम रहेगा। Rajasthan Political Update गुर्जर और मीना समाज के बीच सदियों से ही अच्छे और दोस्ताना संबंध रहे है। कुछ राजनीतिक साजिशो की वजह से इनमे दूरियां आ गई थी। लेकिन 2018 विधानसभा चुनावों में @SachinPilot के नेतृत्व में दोनों समाजों ने एकजुटता का परिचय दिया, जो हमेशा कायम रहेगा। #गुर्जर_मीना_एकजुट_है —… Continue reading दौसा विधायक Murari Lal Meena ने किया Pilot का समर्थन, गहलोत खेमे में मची खलबली!

Ashok Gehlot के समर्थन में उतरे विधायकों की सियासी दांव खेलने की तैयारी! कल बुलाई बैठक

जयपुर | Rajasthan Political Drama : राजस्थान में चल रहा सियासी खेला अब अपने चरम पर आने लगा है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) और सचिन पायलट (Sachin Pilot) के बीच वर्चस्व की लड़ाई अब और तेज हो गई है। गहलोत और पायलट खेमा अब आमने-सामने होता नजर आ रहा है। ऐसे में गहलोत समर्थक विधायकों का गुट कल बुधवार को जयपुर  में बैठक करने जा रहा है। ये भी पढ़ें:- BJP से जुड़ने का सर मुंडवा कर किया प्रायश्चित फिर गंगाजल से शुद्धि के बाद TMC में शामिल हुए 200 कार्यकर्ता सियासी दांव खेलने की तैयारी! (Rajasthan Political Drama) इसी के साथ राजस्थान में गहलोत और पायलट की वर्चस्व की लड़ाई में निर्दलीय विधायकों और बीएसपी विधायक भी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। कांग्रेस में आए इन विधायकों ने कल बुधवार को एक बैठक आयोजित की है जिसमें वो अपनी आगे की रणनीति बनाने वाले हैं। इस खेमे में 13 निर्दलीय विधायक है और बीएसपी से कांग्रेस में आए 6 विधायक हैं। ऐसे में माना जा रहा है कि राजस्थान में गरमाई राजनीति के बीच विधायकों का यह खेमा भी अपने सियासी दांव खेलने वाला है और कांग्रेस आलाकमान से गहलोत सरकार में अपनी भागीदारी की मांग उठा सकता है।… Continue reading Ashok Gehlot के समर्थन में उतरे विधायकों की सियासी दांव खेलने की तैयारी! कल बुलाई बैठक

Rajasthan के ‘सियासी संग्राम’ में नया मोड, दिल्ली से खाली हाथ लौटे Pilot, अब बैठक के बाद अगली रणनीति का खुलासा!

जयपुर | राजस्थान में चल रहा ‘सियासी खेला’ (Rajasthan Political Drama) अब अपने चरम पर बढ़ता नजर आ रहा है। पहले राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) और अब कांग्रेस आलाकमानों द्वारा सचिन पायलट (Sachin Pilot) को तज्जवों नहीं दिए जाने के चर्चें सियासी गलियारों का तापमान बढ़ा रहे हैं। गौरतलब है कि सचिन पायलट सीएम गहलोत से सियासी घमासान के बाद अपनी मांगों को लेकर कांग्रेस पार्टी के आलाकमानों के पास दिल्ली पहुंचे थे और उनके प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) और राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के साथ मिलने की चर्चा थी, लेकिन दोनों ने ही पायलट को मिलने का समय नहीं दिया। ये भी पढ़ें:- Rajasthan का सियासी खेलाः कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक भंवरलाल शर्मा बोले- मैं भी बनना चाहता था सीएम, लेकिन गहलोत ने नहीं दिया साथ! 11 जून से दिल्ली में ढेरा, अब लौटना पड़ा निराश सचिन पायलट 11 जून को शाम दिल्ली पहुंचे थे और वहीं डेरा जमाए हुए थे। पायलट को आशा थी कि उन्होंने जो अपनी मांग रखी है, उसको गंभीरता से लिया जाएगा और समस्या का समाधान होगा। प्रियंका गांधी उनसे से मिलेंगी, लेकिन न तो प्रियंका गांधी उनसे मिले और न ही राहुल गांधी। यहां तक कि केसी वेणुगोपाल और अजय माकन… Continue reading Rajasthan के ‘सियासी संग्राम’ में नया मोड, दिल्ली से खाली हाथ लौटे Pilot, अब बैठक के बाद अगली रणनीति का खुलासा!

Rajasthan में CM Ashok Gehlot के सामने ही उलझ गए दो वरिष्ठ मंत्री, धारीवाल बोले- बहुत अध्यक्ष देखे हैं, करना है जो कर लेना

जयपुर। राजस्थान की राजनीति में सियासी संकट के बादल छटने का नाम नहीं ले रहे है. सरकार के मंत्री-विधायक दो दलों में नजर आ रहे हैं. हेमाराम चौधरी (Hemaram Choudhary) के इस्तिफा देने के बाद से तो कई विधायकों ने सरकार के मंत्रियों के खिलाफ भी मोर्चा खोल दिया. अब सरकार के मंत्री ही आपस में भिड़ते देखे गए है. बुधवार को हुई कैबिनेट बैठक के दौरान गहलोत सरकार (Gehlot Govt) के दो दिग्गज वरिष्ठ नेता आपसे में ही उलझते नजर आए. जिसके बाद सियासी गलियारों में इस गमागर्मी के चर्चे होने लगे हैं. बैठक में एक मुद्दे पर षिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasara)और शांति धारीवाल (Shanti Dhariwal) के बीच बहस हो गई. दोनों ही नेताओं के बीच होने वाली इस बहस को सीएम अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) देखते रह गए. बैठक के बाद एक बार फिर दोनों नेता बाहर आते ही भिड़ गए और एक दूसरे पर बयानबाजी करने लगे. दोनों को शांत करने के लिए वरिष्ठ मंत्रियों ने संभाला मोर्चा जानकारी के अनुसार, फ्री वैक्सीन (Free Vaccine) अभियान को लेकर शिक्षा मंत्री और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने सभी जिला कलेक्टर को ज्ञापन देने की बात कही थी कि यूडीएच मंत्री शांति… Continue reading Rajasthan में CM Ashok Gehlot के सामने ही उलझ गए दो वरिष्ठ मंत्री, धारीवाल बोले- बहुत अध्यक्ष देखे हैं, करना है जो कर लेना

फिर सामने आई कांग्रेस की फूट! अब यहां दिखा विधायक और मंत्री के बीच तनाव, बैठक में नहीं पहुंचा एक भी जनप्रतिनिधि

जयपुर। राजस्थान में एक बार फिर से शुरू हुई सियासी जंग (Rajasthan Political Crisis) बढ़ती जा रही है. सरकार के मंत्री और विधायकों के अंदर दबी चिंगारी एक-एक करके बाहर आ रही है. लंबे समय से अंदर ही अंदर कुलते रहने के बाद अब विधायकों का सब्र खत्म होता जा रहा है और धीरे-धीरे सब अपनी व्यथा उजागर करने में लगे है. गुड़ामालानी विधायक हेमाराम चौधरी (Hemaram Choudhary) का मामला क्या सामने आया, अब तो हर रोज किसी न किसी विधायक का बयान सामने आने लगा है. अब राज्य के प्रतापगढ़ जिले में विधायक रामलाल मीणा (Ramlal Meena) और जिले के प्रभारी और जनजाति मंत्री अर्जुन बामनिया (Arjun Bamniya) के बीच का विवाद खुलकर सामने आया है. मंत्री जी के खिलाफ गुस्सा और नाराजगी ऐसी की कोविड महामारी (Coronavirus) को लेकर जिले के दौरे पर पहुंचे मंत्री जी के कार्यक्रम में जिला कांग्रेस का एक भी जनप्रतिनिधि शामिल होने नहीं आया. जिसके बाद राजनीतिक गलियारों में चर्चा शुरू हो गई. अपने दौरे के वक्त मंत्री बामनिया ने जिला अस्पताल का निरीक्षण कर जिला अधिकारियों की बैठक ली. बैठक में भी जन प्रतिनिधियों के साथ प्रतापगढ़ विधायक रामलाल मीणा (MLA Ramlal Meena) और जिला प्रमुख इंदिरा मीणा (Indra Meena) की भी… Continue reading फिर सामने आई कांग्रेस की फूट! अब यहां दिखा विधायक और मंत्री के बीच तनाव, बैठक में नहीं पहुंचा एक भी जनप्रतिनिधि

Rajasthan Vidhan Sabha Upchunav 2021: राजस्थान में कल साफ होगी चुनावी तस्वीर, परवान चढ़ेगा चुनावी रंग

जयपुर। राजस्थान की तीन सीटों सहाड़ा, सुजानगढ़ और राजसमंद विधानसभा सीटों (rajasthan assembly by-election 2021) पर 30 मार्च को हुए नामांकन के बाद अब नामांकन वापसी शनिवार को है। ऐसे में शनिवार को दोपहर 3 बजे तक नाम वापस लिए जा सकेंगे। इसके बाद शाम पांच बजे फाइनल प्रत्याशियों की सूची जारी कर दी जाएगी। शनिवार को नाम वापसी के बाद ये साफ हो जाएगा कि किस सीट (rajasthan vidhan sabha upchunav 2021) पर कितने प्रत्याशी चुनाव मैदान में खड़े हैं।   होंगे चुनाव चिन्ह आवंटित शनिवार को प्रत्याशियों की तस्वीर साफ के बाद चुनाव मैदान में शेष बचे उम्मीदवारों को चुनाव चिन्ह आवंटित किए जाएंगे। प्रत्याशियों की फाइनल सूची जारी होने के बाद ही राजस्थान में तीन सीटों पर उपचुनाव का रंग नजर आने लगेगा।   17 अप्रेल को होना है मतदान आपकों बता दें कि तीनों विधानसभा सीटों पर 53 उम्मीदवारों ने 68 नामांकन पत्र दाखिल किए थे। सबसे ज्यादा आवेदन सहाड़ा विधानसभा (rajasthan assembly) में भरे गए, जहां 21 उम्मीदवारों ने 25 नामांकन पत्र दाखिल किए थे। गौरतलब है कि तीन सीटों के लिए 17 अप्रेल को प्रातः 7 बजे से शाम 6 बजे तक मतदान होगा, जबकि परिणाम 2 मई को जारी किया जाएगा। प्रदेश की… Continue reading Rajasthan Vidhan Sabha Upchunav 2021: राजस्थान में कल साफ होगी चुनावी तस्वीर, परवान चढ़ेगा चुनावी रंग

और लोड करें