रंगोली बनाकर सीएए का विरोध करने वालों का पाकिस्तान से नाता

तमिलनाडु में नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के खिलाफ कोलम (रंगोली) बनाकर प्रदर्शन करने वाली एक महिला के बारे में चेन्नई पुलिस जांच कर रही है।

चीन पर भारत क्यों नहीं कुछ बोलता?

चीन के राष्ट्रपति शी जिनफिंग पिछले ही महीने भारत के दौरे पर आए थे और तमिलनाडु के ममल्लापुरम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनका भव्य स्वागत किया था। दोनों नेता सात-आठ घंटे साथ रहे थे और हर मुद्दे पर खुल कर अनौपचारिक वार्ता की थी।

करतारपुर से खुलेगा आगे का रास्ता!

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को उम्मीद है कि करतारपुर कॉरीडोर के प्रयोग से आगे का रास्ता खुलेगा। दूसरी ओर पाकिस्तान ने करतारपुर कॉरीडोर के उद्घाटन से पहले प्रचार का एक वीडियो जारी किया है, जिसमें खालिस्तानी आतंकवादी जरनैल सिंह भिंडरावाले की फोटो लगी हुई है।

मोदी और जॉर्डन के सुल्तान के बीच द्विपक्षीय संबंध मजबूत बनाने पर चर्चा

रियाध। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को जॉर्डन के सुल्तान शाह अब्दुल द्वितीय बिन अल हुसैन से यहां मुलाकात की और दोनों पक्षों ने द्विपक्षीय तथा नागरिकों के बीच संबंधों को मजबूत बनाने पर चर्चा की। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट कर कहा, दिन की अच्छी शुरुआत। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रियाध में शाह अब्दुल द्वितीय बिन अल हुसैन से मुलाकात की। दोनों नेताओं ने व्यापार, निवेश, मानव संसाधन विकास और दोनों देशों के नागरिकों के बीच आपसी संबंधों सहित विभिन्न क्षेत्रों में रिश्ते मजबूत बनाने के लिए एक साथ मिलकर काम करने को लेकर विचारों का आदान-प्रदान किया। मोदी सऊदी अरब के सुल्तान सलमान बिन अब्दुलाजीज के निमंत्रण पर वहां गए हैं। अपने सऊदी अरब प्रवास के दौरान मोदी रियाध में फ्यूचर इनवेस्टमेंट इंस्टीट्यूट फोरम के तीसरे सत्र को संबोधित करेंगे। उनकी यात्रा के दौरान भारत और सऊदी अरब के बीच सामरिक समझौता परिषद से संबंधित एक महत्वपूर्ण समझौते पर हस्ताक्षर भी किया जाएगा। संबंधित खबर:- वैश्विक आर्थिक परिदृश्य भारत जैसे देशों पर निर्भर: मोदी

अब चिट्ठी-पत्री भी बंद

भारत और पाकिस्तान के बीच एक नया झगड़ा शुरू हो गया है। पाकिस्तान के डाक विभाग ने भारत चिट्ठियां भेजना और भारत से जाने वाली चिट्ठियों को लेना बंद कर दिया है। खबरों के अनुसार पाकिस्तान ने भारत से आखिरी डाक 27 अगस्त को स्वीकार की थी।

हम शिकार हैं शिकारी नहीं!

जरा पिछले 72 सालों के इतिहास में भारत-पाकिस्तान के रिश्तों पर गौर करें। सोचिए, इन रिश्तों में शिकारी और शिकार की प्रवृत्ति, डीएनए लिए कौन देश है? किसने शिकार करने की फितरत में तीर ताना हुआ और निशाना साधा हुआ है? किसने बार-बार तीर छोड़ कर दूसरे को घायल करना या मारना चाहा?

चीन दुश्मन है  या प्रतिस्पर्धी?

चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग का भारत और नेपाल दौरा कई कारणों से चर्चा में रहा। एक राष्ट्र के रूप में चीन की नीयत और नीति क्या है- वह शी के नेपाल में दिए एक वक्तव्य से स्पष्ट हो जाता है। वह कहते हैं, “जो कोई भी चीन के किसी भी क्षेत्र को विभाजित करने का प्रयास करेगा, वह मारा जाएगा।

राष्ट्र का व्यवहार, कौम की हकीकत

अमेरिका के डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन की ही बात है। अमेरिकी विदेश मंत्रालय में नीति निर्माण की डायरेक्टर किरोन स्कीनर ने कुछ महीने पहले चीन और अमेरिका की प्रतिस्पर्धा पर बोलते हुए कहा- लड़ाई अब भिन्न सभ्यता और भिन्न विचारधारा से है।…

कारोबार की दोस्ती

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग की दो दिन की अनौपचारिक भारत यात्रा दोनों देशों के बीच रिश्तों के नए युग का सूत्रपात करने वाली बताई जा रही है। अगर ऐसी उम्मीदें हकीकत में बदल सकती हैं तो इससे बढ़िया और क्या बात हो सकती है।

भारत-चीनः रसीली नौटंकी काफी नहीं

कल मैंने लिखा था कि चीन और भारत की क्या-क्या मजबूरियां हैं कि जिनके चलते उन्हें आपसी संबंधों को आगे बढ़ाना पड़ रहा है। आज महाबलिपुरम में जो कुछ हो रहा है, वह जो ह्यूस्टन में हुआ है, उससे किसी तरह कम नहीं है।

और लोड करें