समावेशी विकास की दिशा में एक कदम

शौचालयों की प्रकृति हमारे विचार-विमर्श का सबसे महत्वपूर्ण पहलू था। हमें यह तय करना था कि ट्रांसजेंडर के लिए अलग से शौचालय का निर्माण करना है या जेंडर इनक्लूसिव (समावेशी) यूनिट बनाई जाए।