चैत्र नवरात्र 2021 : जानें,  क्यों है चैत्र नवरात्री का इतना महत्व, कहां कैसी होती है मां की पूजा

भारतीय कैलेंडर के अनुसार वर्ष में चार बार नवरात्री का त्योहार चार बार आते हैं. इसमें चैत्र ,शारदीय नवरात्री और दो गुप्त नवरात्री आते हैं. जिनमें चैत्र और शारदीय नवरात्री प्रमुख होते हैं. इस बार के चैत्र के नवरात्रे 13 अप्रैल से शुरू होकर 21 अप्रैल को समाप्त हो रहे हैं. चैत्र के नवरात्रों के शुरुआती दिन को भारतीय नववर्ष कहा जाता है और अंतिम दिन को रामनवमी के नाम से जाना जाता है. इन नवरात्रों को बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाता है. नवरात्र के नौ दिनों में मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है.  भक्त नवरात्री में शक्ति की उपासना करते हैं. कहा जाता है कि इस 9 दिनों में  सच्चे मन से  देवी की पूजा करने से भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती हैं. नवरात्रि का लोगों को बेसब्री से इतंजार रहता है. देवी दुर्गा की मुर्तियों को कुमकुम, चुड़ियों, वस्त्रों और आभूषणों से सजाया जाता है. बंगाल में नवरात्रि की विशेष रौनक होती है.  हालांकि दूसरी नवरात्री के समय यहां पंडालों के कारण ज्यादी रौनक होती है.  शारदीय नवरात्रों में बंगाल में बनने वाले  पंडाल देशभर में आकर्षण का केंद्र होते हैं. ऐसा कहते हैं बंगाल के लोग इन 9 दिनों में … Continue reading चैत्र नवरात्र 2021 : जानें, क्यों है चैत्र नवरात्री का इतना महत्व, कहां कैसी होती है मां की पूजा

और लोड करें