पांच साल बाद सब जस का तस!

पांच साल में कितनी चीजों को बदल जाना था! पर बदला कुछ नहीं। वहीं मई में लोकसभा के चुनाव हुए, कई चरणों में। फिर अक्टूबर में महाराष्ट्र और हरियाणा के विधानसभा चुनाव हुए।