फिल्मों के चुनाव की अपनी प्रक्रिया पर भूमि पेडनेकर ने की बात

अभिनेत्री भूमि पेडनेकर उन परियोजनाओं में शामिल होने को वरीयता देती हैं, जिससे दर्शकों व समाज को कुछ संदेश मिले। भूमि कहती हैं, मैं ऐसी फिल्मों को वरीयता देना पसंद करती हूं

अपने समाज में नशाखोरी का ज़हर कैसे?

उभरते हुए फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत (आत्महत्या या हत्या!) की गुत्थी सुलझी भी नहीं थी कि मामले के तार ड्रग्स-कारोबार से जुड़ गए। फिल्म अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती और उसके भाई शौविक सहित अन्य लोगों की नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) द्वारा विभिन्न धाराओं में गिरफ्तारी- इसका प्रमाण है।

अभिव्यक्ति की आजादी दांव पर: सोनिया

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मोदी सरकार का नाम लिए बगैर उस पर करारा प्रहार करते हुए आज कहा कि देश और समाज में नफरत फैलाने वाली ताकतें लोकतंत्र के सामने चुनौती बन गई हैं।

समाज में सौहार्द और सहिष्णुता बनाए रखें: नायडू

उप राष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान मानवीय संवेदनाओं और सद्भावना को बचाया जाना चाहिए।

सत्ता, समाज में जातिवाद का जहर!

उत्तर प्रदेश के गैंगेस्टर विकास दुबे प्रकरण ने राजनीति, प्रशासन और अपराधियों के गठजोड़ की भारत की उस ऐतिहासिक समस्या को जगजाहिर कर दिया है, जो जानते सब हैं और जो पहले भी सामने आती रही है

समाज में डिजिटल अंतर खत्म करना जरूरी: वेंकैया

उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने समाज में बढ़ते डिजिटल अंतर को खत्म करने की जरूरत पर बल देते हुए आज कहा कि प्रत्येक बच्चे को विकास के लिए समान अवसर उपलब्ध होने चाहिए।

हमदर्द फाउंडेशन ने दिये 1200 से अधिक परिवारों को राशन

हमदर्द नेशनल फाउंडेशन (एचएनएफ) ने लॉक डाउन के दौरान समाज के सबसे अधिक प्रभावित प्रवासी कामगारों और दिहाड़ी मजदूरों के राहत पहुंचाने की पहल के तहत 1200 से अधिक परिवारों को राशन उपलब्ध कराया है।

एकता कपूर पढ़ रही है नई स्क्रिप्ट

हम सभी जानते हैं कि एकता कपूर ने कंटेंट के तीनों प्लेटफार्मो के माध्यम से समाज की नई मानसिकता को आकार देने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है

रोजमर्रा की दिक्कतें दूर करने वाले समाज के हीरो: मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि कोरोना को रोकने के लिए लागू 21 दिन के लॉक डाउन के दौरान जो लोग जरूरी वस्तुओं की आपूर्ति सुचारू रूप से जारी रखे हुए है,

देश बदलने के लिए समाज को भी बदलना होगा- भागवत

गुना। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने शनिवार को कहा कि देश में बदलाव लाने के लिए समाज में भी बदलाव लाना आवश्यक है। भागवत ने यहां तीन दिवसीय युवा संकल्प शिविर में युवाओं को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि हम कुछ हासिल करना चाहते हैं तो हमें उसके लिए पुरुषार्थ भी करना होता है। इसी तरह देश में बदलाव लाने के लिए समाज में भी बदलाव लाना होगा। उन्होंने कहा कि आज के दौर में बगैर कुछ किये हासिल करने की लोगों की गलत आदत बन गयी है। यह ठीक नहीं है। सभी को समाज और देश में बदलाव लाने के लिए अपना अपना योगदान भी देना चाहिए। भागवत ने कहा कि आज हर व्यक्ति सामने आकर नेता बनने का प्रयास करता है, यह ठीक नहीं है। कुछ लोग कभी सामने नहीं आते, लेकिन वह नींव के पत्थर का काम करते हुए देश के हित में अपना जीवन लगा देते हैं। उनका नाम भी कोई नहीं जानता लेकिन उनके प्रयासों के कारण देश का नाम और ख्याति लगातार बढ़ रही है। संघ प्रमुख ने कहा कि आज हमें उन लोगों की पद्धति का अनुसरण करने का प्रयास करना चाहिए। हमारा व्यक्तित्व भी उन्हीं की तरह होना चाहिए।… Continue reading देश बदलने के लिए समाज को भी बदलना होगा- भागवत

सिनेमा समाज को आकार देने में सहायक : विक्रांत मेस्सी

‘छपाक’ के अभिनेता विक्रांत मेस्सी का कहना है कि उनकी कोशिश रहेगी कि वे ऐसे परियोजनाओं का हिस्सा बनें, जिसकी कहानी महत्वपूर्ण हो, क्योंकि सिनेमा समाज को आकार देने में सहायक होती है।

देश में भय का माहौल है : चिदमबरम

करीब साढे तीन माह बाद जमानत पर आए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता तथा पूर्व वित्त पी चिदम्बरम ने कहा है कि समाज में भय का माहौल व्याप्त है

पदगति को प्राप्त हो जाना!

मुंबई की एक विदुषी ने लिखा है कि उन के सामने गत तीन महीनों में पाँच मामले आए जिस में मुस्लिम लड़कों ने अबोध हिन्दू लड़कियों पर डोरे डाल कर, शारीरिक उत्तेजना दिला, या संबंध बनाकर, ब्लैकमेल कर, निकाह कर, धर्म-परिवर्तन कराकर, फिर जल्द उपेक्षित और मार-पीट कर, कुछ मामले में दोस्तों-संबंधियों द्वारा बलात्कार भी करवा कर, फिर अपना दूसरा निकाह कर, पहली को लाचार नौकर जैसी बनाकर रख दिया।

अमेरिका में भी है अंध, रूढ़ समाज!

संयोग से ही किताब मिली। हालांकि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर काफी ख्याति और कामयाबी हासिल करने व बराक ओबामा द्वारा इसे जरूर पढ़ी जाने वाली किताब बताने से लेकर टाइम पत्रिका की 2019 की सर्वाधिक प्रभावशाली किताब घोषित किए जाने के बावजूद मुझे इसका पता नहीं था।

प्रेग्नेंसी टालने पर समाज ने अलग नजरिए से देखा : मंदिरा बेदी

बॉलीवुड अभिनेत्री मंदिरा बेदी एक सफल उद्यमी भी हैं और अपनी फिटनेस के लिए भी वह काफी मशहूर हैं। मंदिरा का कहना है कि यदि शादी और मां बनने के बाद भी किसी महिला का एक सफल करियर है तो भी समाज उसे हमेशा जज करता है।

और लोड करें