गैंगेस्टर विकास दुबे पुलिस ‘मुठभेड़’ में खत्म

एसटीएफ अधिकारियों के साथ आज सुबह कथित मुठभेड़ में गंभीर रूप से घायल होने के बाद गैंगस्टर विकास दुबे ने दम तोड़ दिया। कथित तौर एक सड़क दुर्घटना के दौरान जब

सजा ऐसी दें कि हड्डियां कांपने लगें

कानपुर के गुंडे विकास दुबे को अभी तक पुलिस पकड़ नहीं पाई है। उसने आठ पुलिसवालों की हत्या कर दी। पांच दिन से वह फरार है।

विकास दुबे मामले में दो अधिकारी गिरफ्तार

पिछले दिनों कानपुर के बिकरु गांव में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले में पुलिस विभाग ने बड़ी कार्रवाई की है। बुधवार को चौबेपुर थाने के प्रभारी विनय तिवारी और दारोगा केके शर्मा को गिरफ्तार कर लिया गया।

गैंगस्टर विकास दुबे का एक साथी मुठभेड़ में ढेर, दूसरा गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश पुलिस की एसटीएफ ने दो बड़ी कामयाबियां हासिल करते हुए कानपुर के बिकरू कांड के मुख्य आरोपी विकास दुबे के करीबी साथी को मुठभेड़ में मार गिराया तथा उसके एक अन्य गुर्गे को गिरफ्तार कर लिया।

आजमगढ़ से एसटीफ ने किया इनामी बदमाश गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स(एसटीएफ) ने आज आजमगढ़ से दो जिलों में 25-25 हजार रूपयों का इनामी बदमाश को गिरफ्तार किया है।

अमिताभ यश की शिकायत के बारे में जानकारी देने से इंकार

उत्तर प्रदेश में स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) के मौजूदा पुलिस महानिरीक्षक अमिताभ यश की एक शिकायत के बारे में मांगी गयी सूचना देने से पुलिस

लखनऊ में जाली नोट छापने वाले गिरोह के दो सदस्य गिरफ्तार

लखनऊ। उत्तर प्रदेश पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने लखनऊ के विभूतिखण्ड क्षेत्र से जाली नोटों का धंधा करने वाले गिरोह के दो सदस्यों को गिरफ्तार कर उनके पास से 1,23,500 जाली नोट और उनके छापने के उपकरण आदि बरामद किए गये। एसटीएफ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक राजीव नारायण मिश्र ने गुरुवार को यहां यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि सूचना मिलने पर एसटीएफ ने लखनऊ के विभूतिखण्ड क्षेत्र से जाली नोट तैयार कर आपूर्ति करने वाले गिरोह के दो सदस्यों लखनऊ निवासी राघवेन्द्र सिंह उर्फ राजू और देवरिया निवासी रमापति यादव को गिरफ्तार किया। उनके कब्जे से 100 और 50 रुपये के एक लाख 23 हजार 500 के जाली नोट के अलावा अर्धछपे नोट और उनके तैयार करने के उपकरण और अन्य सामान बरामद किया। इस सूचना पर एसटीएफ की टीम बताये गये स्थान पर पहुंचकर दोनों लोगों को पकड़ लिया, जिनके कबजे से जाली नोट बरामद किए गये। श्री मिश्र ने बताया कि इन लोगों ने वास्तुखण्ड, गोमतीनगर में मकान किराये का मकान ले रखा है। वहां इनके साथी रामकृपाल, अनुराग सिंह चौहान, वैभव सिंह सेगर उर्फ गोलू भी रहते है, ये वहां मिलकर प्रिन्टर से फोटो व ‘स्कैन’ करके कूटरचित भारतीय मुद्रा छापते है और उसे… Continue reading लखनऊ में जाली नोट छापने वाले गिरोह के दो सदस्य गिरफ्तार

और लोड करें