विफलता दबाने के लिए ट्विट हटवा रही सरकार

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण से निपटने की बजाय केंद्र सरकार सोशल मीडिया प्लोटफॉर्म ट्विटर पर डाली जा रही पोस्ट हटवाने में लगी है। सोशल मीडिया पर सेंसरशिप लागू करते हुए केंद्र सरकार ने ट्विटर से कहा है कि वह कोरोना वायरस के संक्रमण से निपटने में सरकार की विफलता के बारे में डाली गई पोस्ट हटाए। हालांकि सरकार का दावा है कि सरकार अपने खिलाफ लिखी गई पोस्ट नहीं हटवा रही है, बल्कि कोरोना के बारे में फेक न्यूज वाले पोस्ट हटवा रही है। लेकिन यह बात पूरी तरह से सही नहीं है। मीडिया से जुड़े कई बड़े पत्रकारों और यहां तक की विरोधी पार्टी कांग्रेस के प्रवक्ता की पोस्ट भी हटवाई गई है, जिसमें उन्होंने सरकार की आलोचना की थी। कांग्रेस के प्रवक्ता पवन खेड़ा ने अपनी पोस्ट हटाए जाने को लेकर सूचना व प्रौद्योगिक मंत्री रविशंकर प्रसाद और ट्विटर दोनों को कानूनी नोटिस भेजा है। उन्होंने कोरोना वायरस से निपटने में दोहरे मानदंड अपनाने का आरोप लगाते हुए कुंभ मेला और तबलीगी जमात की मरकज का मामला उठाया था। उनकी इस ट्विट को हटा दिया गया है, जिसे उन्होंने कानूनी चुनौती दी है। ऐसे कई और पत्रकारों और नेताओं के ट्विट हटाए गए हैं। इस… Continue reading विफलता दबाने के लिए ट्विट हटवा रही सरकार

बोलने और अभिव्यक्ति की आजादी का दुरुपयोग : सुप्रीम कोर्ट

उच्चतम न्यायालय ने निजामुद्दीन मरकज घटना पर तब्लीगी जमात की रिपोर्टों के संदर्भ में कथित टीवी चैनलों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की याचिका पर आज कहा कि हाल में ‘बोलने और अभिव्यक्ति की आजादी’ के अधिकार का सबसे ज्यादा दुरुपयोग हुआ है।

तबलीगी जमात के सदस्यों के खिलाफ लॉकडाउन उल्लंघन का मामला दर्ज

कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए लगाये गये लॉकडाउन का उल्लंघन करके यहां इकट्ठा होने को लेकर केरल और कर्नाटक के तबलीगी जमात के 10 सदस्यों के खिलाफ आरोपपत्र दाखिल किया गया है।

तबलीगी जमात के विदेशियों पर पाबंदी

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस फैलने और दिल्ली के दंगों को लेकर निशाने पर आए तबलीगी जमात के लोगों की मुश्किलें बढ़ गई हैं।

प्रवासी मजदूरों और तबलीगियों की वापसी

कर्नाटक की सरकार ने अपना फैसला बदलकर ठीक किया। पहले उसने उत्तर भारत के मजदूरों की घर-वापसी के लिए जो रेलगाड़ियां तैयार थीं, उन्हें अचानक रद्द कर दिया था

तबलीगी जमात के प्रमुख के फार्म हाउस पर छापा

तबलीगी जमात के मरकज से हजारों लोगों के कोरोना वायरस संक्रमित होने की खबरों के बीच दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच टीम ने गुरुवार की सुबह तबलीगी जमात के प्रमुख प्रमुख मौलाना मोहम्मद साद कंधालवी के शामली स्थित फार्म हाउस पर छापेमारी की।

मौलाना साद कराएंगे कोरोना संक्रमण की जांच

तबलीगी जमात के प्रमुख मौलाना साद क्वारंटीन अवधि पूरी होने के बाद कोरोना वायरस ‘कोविड-19’संक्रमण की जांच कराने पर सहमत हो गये हैं।

खरगोन में तबलीगी जमात का सदस्य कोविड-19 से संक्रमित, मामला दर्ज

मध्यप्रदेश के खरगोन में तबलीगी जमात के 60 वर्षीय सदस्य के खिलाफ कोविड-19 फैलाने जैसे कथित घातक कार्य करने के आरोप में प्राथमिकी दर्ज की गयी है।

मस्जिद मदरसों में अंजान को न दे शरण: रिजवी

उत्तर प्रदेश शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड ने मस्जिद मदरसों में तब्लीगी जमात के सदस्यों को शरण नहीं देने की अपील करते हुये चेतावनी दी

मुस्लिमों का आंकड़ा अलग देने से आयोग नाराज

नई दिल्ली। कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के आंकड़े में तबलीगी जमात के संक्रमितों की संख्या अलग से बताए जाने पर दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग ने नाराजगी जताई है। आयोग ने अरविंद केजरीवाल सरकार से पूछा है कि दिल्ली के कोरोना मामलों में मरकज वालों का आंकड़ा अलग क्यों लिखा जा रहा है? अल्पसंख्यक आयोग ने केजरीवाल सरकार को पत्र लिख कर इसका जवाब मांगा है। अल्पसंख्यक आयोग ने सवाल उठाए कि आधिकारिक आंकड़ों में मरकज के मरीजों के लिए अलग कॉलम क्यों रखा गया है? उन्होंने कहा कि संप्रदाय के आधार पर अलग किए गए कॉलम को जल्दी से जल्दी हटाया जाए, क्योंकि इस तरह की चीजों से ‘इस्लामोफोबिया’ के एजेंडे को बढ़ावा मिल रहा है। पत्र में आगे कहा गया कि इस वजह से देश भर के कई हिस्सों में मुसलमानों पर हमले किए जा रहे हैं। अल्पसंख्यक आयोग ने विश्व स्वास्थ्य संगठन, डब्लुएचओ  की रिपोर्ट का भी हवाला दिया, जिसमें दुनिया भर की सरकारों से अपील की गई है कि कोरोना के मरीज़ों के आधार पर राजनीति न की जाए और उन्हें धर्म के आधार पर न बांटा जाए।

तबलीगी मामले में केंद्र पर निशाना

मुंबई। दिल्ली के निजामुद्दीन में हुए तबलीगी जमात की मरकज को लेकर महाराष्ट्र सरकार के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने बुधवार को सवालिया लहजे में कहा कि धार्मिक कार्यक्रम से कोरोना वायरस संक्रमण फैलने के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय को जिम्मेदार क्यों नहीं ठहराया जाना चाहिए। देशमुख ने यह भी आरोप लगाया कि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोवाल ने जमात के नेता मौलाना साद से उस दौरान देर रात दो बजे मुलाकात की थी जब कार्यक्रम आयोजित हुआ था। उन्होंने दोनों के बीच हुई गुप्त बातचीत की प्रकृति पर सवाल उठाया। देशमुख ने यह भी सवाल किया कि डोवाल को देर रात साद से मिलने के लिए किसने भेजा था। उन्होंने सवाल किया- जमातके सदस्यों से संपर्क करना एनएसए का काम था या दिल्ली पुलिस आयुक्त का? एनसीपी के वरिष्ठ नेता देशमुख ने केंद्र सरकार पर जमात को धार्मिक कार्यक्रम आयोजित करने की अनुमति देने का आरोप लगाते हुए आठ सवाल किए और आरोप लगाया कि जमात के साथ सरकार के संबंध हैं। उन्होंने कहा कि मरकज़ के पास निजामुद्दीन पुलिस थाना होने के बावजूद कार्यक्रम रोका नहीं गया। देशमुख ने सवाल किया- केंद्रीय गृह मंत्रालय ने दिल्ली में निजामुद्दीन में तबलीगी जमात… Continue reading तबलीगी मामले में केंद्र पर निशाना

यूपी में बढ़ सकता है लाकडाउन

कोरोना संक्रमण को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार के लिये सरदर्द साबित हो रहे तबलीगी जमात के कारण लाकडाउन निर्धारित समयावधि पर खुलने में संदेह के बादल मंडरा रहे हैं।

जमात की वजह से बढ़ी संख्या

नई दिल्ली। केंद्रीय सरकार ने रविवार को एक बार फिर कहा कि तबलीगी जमात के मरकज में शामिल लोगों के बड़ी संख्या में संक्रमित होने की वजह से देश में कोरोना वायरस से संक्रमितों की संख्या में तेजी से इजाफा हुआ है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया है कि अब इस वायरस का संक्रमण देश के 272 जिलों में पहुंच गया है। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने रविवार कोबताया कि दिल्ली में हाल ही में तबलीगी जमात की घटना के कारण संक्रमण फैलने की दर में इजाफा हुआ है। उन्होंने कहा कि इस घटना के कारण संक्रमित मरीजों की संख्या कम समय में ही दोगुनी हो गई। उन्होंने कहा कि अगर यह घटना नहीं हुई होती तो संक्रमण के मामले दोगुना होने में 7.4 दिन का औसत समय लगता, जबकि इस घटना के कारण मरीजों की संख्या दोगुना होने में 4.1 दिन का ही औसत समय लगा। अग्रवाल ने कहा कि वायरस का संक्रमण रोकने के लिए देश भर में लागू लॉकडाउन को प्रभावी बनाने के प्रयासों की, सरकार लगातार समीक्षा कर रही है। उन्होंने कहा कि रविवार को कैबिनेट सचिव ने जिला स्तर पर लॉकडाउन को प्रभावी बनाने की समीक्षा करने के लिए सभी जिलाधिकारियों और… Continue reading जमात की वजह से बढ़ी संख्या

दिल्ली हवाई अड्डे पर पकड़े 8 विदेशी जमाती

यहां के स्थानीय इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर आठ लोगों को हिरासत में लिया गया है। यह सभी विदेशी मूल के हैं। पता चला है इन सभी का संबंध तबलीगी जमात से है

यह मामला हिंदू-मुसलमान का नहीं

जमाते-तबलीगी का दोष बिल्कुल साफ-साफ है लेकिन इसे हिंदू-मुसलमान का मामला बनाना बिल्कुल अनुचित है। जिन दिनों दिल्ली में तबलीग का जमावड़ा हो रहा था, उन्हीं दिनों पटना, हरिद्वार, मथुरा तथा कई अन्य स्थानों पर हिंदुओं ने भी धार्मिक त्यौहारों के नाम पर हजारों लोगों की भीड़ जमा कर रखी थी।

और लोड करें