नीलकंठ की अनुपस्थिति के बावजूद

कल, महाशिवरात्रि पर मैं इंदौर में था। शहर के जिस हिस्से में हमारा पारिवारिक बसेरा है, उसके पूरब में मुस्लिम बस्ती है, पश्चिम में चिड़ियाघर है, उत्तर में बड़े सरकारी नौकरशाहों के बंगले हैं और दक्षिण में एक छोटा-सा मंदिर है। इस चोहद्दी के बीच, पता नहीं कितने प्राचीन एक बरगद के बगल में, कोई… Continue reading नीलकंठ की अनुपस्थिति के बावजूद