राजस्थान के गांव बड़ोदिया में लड़के को दुल्हन की तरह सजाकर क्यों किया गया कन्यादान?

बांसवाड़ा। यह शादी जरा हक के थी। दूल्हा और दुल्हन दोनों नाबालिग। फिर गाजे—बाजे से बारात निकली। मंडप सजाया। सात ​फेरे हुए। मंगलसूत्र पहनाया गया। मांग भरी गई और कन्यादान भी हुआ। पूरा गांव इस अनूठे विवाह का साक्षी बना। यह विवाह अनूठा इसलिए था कि क्योंकि इसमें लड़का—लड़की नहीं थे बल्कि दोनों ही लड़के… Continue reading राजस्थान के गांव बड़ोदिया में लड़के को दुल्हन की तरह सजाकर क्यों किया गया कन्यादान?