चीन-पाक की कूटनीति फिर विफल!

संयुक्त राष्ट्र। कश्मीर के मसले को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में उठा कर भारत को नीचा दिखाने का चीन और पाकिस्तान का साझा प्रयास एक बार फिर फेल हो गया है। चीन के प्रयास कश्मीर मसले पर सुरक्षा परिषद की बंद कमरे में बैठक हुई पर सुरक्षा परिषद के सदस्यों ने इसे भारत और पाकिस्तान का दोपक्षीय मामला बताते हुए इसे ज्यादा तवज्जो नहीं दी। इसके बाद भारत ने पाकिस्तान पर तीखा हमला किया। सुरक्षा परिषद में इस मसले पर पाकिस्तान को सिर्फ उसके सदाबहार सहयोगी चीन का ही साथ मिला। इस मामले में भारत ने पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए कहा कि इस्लामाबाद को नई दिल्ली के साथ सामान्य संबंध सुनिश्चित करने के लिए प्रयासों पर ध्यान देना चाहिए। गौरतलब है कि पाकिस्तान का प्रयास बुधवार को एक बार फिर विफल हो गया क्योंकि सुरक्षा परिषद के लगभग सभी सदस्य देशों का मानना है कि कश्मीर, भारत और पाकिस्तान का दोपक्षीय मामला है। सुरक्षा परिषद परामर्श कक्ष में बंद कमरे में हुई बातचीत के दौरान पाकिस्तान ने अन्य मामलों के साथ कश्मीर मुद्दे को एक बार फिर उठाने की कोशिश की। इस पर संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने कहा- हमने एक बार फिर देखा… Continue reading चीन-पाक की कूटनीति फिर विफल!

कश्मीर मुद्दे पर चीन को वैश्विक सहमति के साथ रहना चाहिए : कुमार

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में जम्मू कश्मीर पर चीन द्वारा लाये गये प्रस्ताव को समर्थन नहीं मिलने के बाद भारत ने चीन को सलाह दी है कि उसे इस मुद्दे पर

सुरक्षा परिषद के स्थायी प्रतिनिधियों से मिलेंगे ट्रंप

वाशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पांच दिसंबर को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) के स्थायी प्रतिनिधियों से व्हाइट हाउस में मुलाकात करेंगे। व्हाइट हाउस ने इसकी पुष्टि की है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सूत्रों ने शुक्रवार को बताया कि परिषद के प्रतिनिधि पांच दिसंबर को व्हाइट हाउस का दौरा करेंगे। व्हाइट हाउस ने एक बयान में कहा, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पांच दिसंबर को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के स्थायी प्रतिनिधियों का व्हाइट हाउस में स्वागत करेंगे। दिसंबर में अमेरिका के सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता का कार्यभार संभालने के समय ही स्थायी प्रतिनिधियों का यह दौरा हो रहा है। बयान के अनुसार इस दौरान ट्रंप सुरक्षा परिषद के स्थायी प्रतिनिधियों से अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा संबंधी चुनौतियों से निपटने के लिए साथ मिलकर काम करने का आग्रह करेंगे।

और लोड करें