काबुल में हुए हमले का अर्थ

काबुल हवाई अड्डे पर सैकड़ों लोगों के हताहत होने की खबर ने सारी दुनिया का दिल दहला दिया है। सबसे ज्यादा अमेरिका की इज्जत को धक्का लगा हैI

भारतीयों को निकालने की कोशिश जारी

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने सर्वदलीय बैठक में अफगानिस्तान की ताजा स्थिति की जानकारी देते हुए कहा कि सरकार वहां से भारतीयों को वापस लाने के लिए प्रतिबद्ध है।

काबुलः बैठे रहो और देखते रहो ?

भारत सरकार की अफगान नीति पर हमारे सभी राजनीतिक दल और विदेश नीति के विशेषज्ञ काफी चिंतित हैं। नौकरशाहों की नीति है- बैठे रहो और देखते रहो। लेकिन नेताओं की नीति है कि बैठे रहो और सोते रहो।

काबुलः भारत जरा सक्रियता दिखाए

अफगानिस्तान के मामले में भारत सरकार के रवैए में इधर थोड़ी जागृति आई है, यह प्रसन्नता की बात है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जर्मन चांसलर एंजला मर्केल और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पूतिन से बात की।

तालिबान ने बनाई अंतरिम सरकार

अफगानिस्तान पर कब्जा करने के 10 दिन के बाद तालिबान ने अपनी अंतरिम सरकार का ऐलान कर दिया है।

तालिबान ने पंजशीर को घेरा, लड़ाई जारी

करीब 20 साल के बाद एक बार फिर अफगानिस्तान पर कब्जा करने के बाद तालिबान ने मिशन बनाया है कि उसे इस बार पंजशीर पर कब्जा करना है।

तालिबान ने अमेरिका को दी चेतावनी

अफगानिस्तान पर कब्जा करने के एक हफ्ते बाद तालिबान ने अमेरिकी फौज को हटाने की डेडलाइन को लेकर चेतावनी जारी की है।

सरकार ने बुलाई सर्वदलीय बैठक

अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के एक हफ्ते से ज्यादा समय बीत जाने के बाद पहली बार भारत सरकार ने सभी पार्टियों के साथ बैठक कर हालात की जानकारी देने का फैसला किया है।

चार सौ लोग काबुल से लौटे

अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद बिगड़ते हालात के बीच रविवार को भारत ने चार सौ और लोगों को वहां से निकाला।

पंजशीर में तालिबान से लड़ाई जारी

अफगानिस्तान की सत्ता पर कब्जा करने के बाद तालिबान की नजर पंजशीर पर है, जो अभी तक उसके कब्जे से बाहर है।

तालिबान है मध्यकाल!

तालिबान खालिस शरियत व्यवस्था का पक्षधर है, जिसकी जड़े 1,400 वर्ष पूर्व के कालखंड में मिलती है। जो कुछ उसने पिछले ढाई दशक में किया और जो कुछ वह अब करना चाहता है

काबुल में भारत अब क्या करे ?

यह तो अच्छी बात है कि भारत सरकार की तालिबान से दूरी के बावजूद उन लोगों ने अभी तक भारतीय नागरिकों को किसी भी तरह का नुकसान नहीं पहुंचाया है। हमारा दूतावास सुरक्षित है।

भारत की इंतजारी का अर्थ

अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे को लेकर भारत अभी ‘वेट एंड वाच’ की रणनीति पर चल रहा है। अभी तक आधिकारिक रूप से इसके पक्ष या विपक्ष में कुछ नहीं कहा जा रहा है।

तालिबान से बड़ा नुकसान है

भारत सरकार ने पता नहीं अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे से होने वाले नुकसान का आकलन किया है या नहीं, लेकिन जो अनुमान है वह बहुत नुकसान का है। आर्थिक और सामरिक दोनों तरह का नुकसान भारत को होगा।

पंजशीर में तालिबान के खिलाफ लड़ाई जारी

काबुल पर कब्जा करने के साथ ही तालिबान ने करीब करीब पूरे अफगानिस्तान पर कब्जा कर लिया है। लेकिन पंजशीर ऐसा इलाका है जो अब भी तालिबान के नियंत्रण से बाहर है।

और लोड करें