चीन ने 13 शहर में लगाया यात्रा प्रतिबंध

बीजिंग। चीन ने खतरनाक विषाणु कोरोनावायरस के फैलने की आशंका को देखते हुए और विषाणु पर नियंत्रण करने के मद्देनजर इससे प्रभावित शहर के आसपास मौजूद चार और शहरों में शुक्रवार को यात्रा प्रतिबंध लगा दिया, जिससे यात्रा प्रतिबंध वाले शहरों की संख्या बढ़कर 13 हो गई है और इसके कारण इन शहरों में रह रही करीब 4.1 करोड़ की आबादी प्रभावित है। मध्य हुबेई प्रांत में स्थित शियानिंग, शियाओगन, एन्शी और झिजियांग शहरों में अधिकारियों ने बताया कि बस एवं रेलवे स्टेशन समेत सार्वजनिक परिवहन बंद रहेंगे। हुबेई प्रांत में ही इस विषाणु का सबसे पहले पता चला था। नये कोरोनावायरस को फैलने से रोकने के लिए बीते 24 घंटे में हुबेई प्रांत के शहरों पर लगाए गए यात्रा प्रतिबंध में ये नये नाम जुड़ गए हैं। इस विषाणु से 800 से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं। विषाणु का पता सबसे पहले हुबेई प्रांत की राजधानी वुहान शहर में चला था, जहां इस महामारी के केंद्र के तौर पर एक सीफूड और पशुओं के बाजार की पहचान हुई थी। विषाणु के संक्रमण से अब तक 26 लोगों की मौत हो चुकी है और सार्स (सीवियर एक्युट रेस्पिरेट्री सिंड्रोम) से मिलते जुलते लक्षण के कारण खतरा बढ़ गया है।

चीन से आने वाले यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग

नई दिल्ली। सरकार ने चार और शहरों चेन्नई, बेंगलुरु, हैदराबाद और कोचीन के हवाई अड्डों पर चीन से आने वाले यात्रियों की ‘थर्मल स्क्रीनिंग’ के आदेश दिये हैं। चीन में फैले कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुये यह आदेश जारी किया गया है। इसके साथ ही अब देश के सात हवाई अड्डों पर चीन और हांगकांग से आने वाले यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग होगी। दिल्ली, मुंबई और कोलकाता हवाई अड्डों के लिए सरकार ने पहले ही यह आदेश जारी कर दिया था। नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने इन हवाई अड्डों को ‘थर्मल स्क्रीनिंग’ के लिए उपकरण आदि की व्यवस्था करने के लिए कहा गया है। नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने बताया कि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के परामर्श के आधार पर यात्रियों की जांच के आदेश जारी किये हैं। चीन के हुबेई प्रांत के वुहान शहर में नोवेल कोरोना वायरस से सैकड़ों लोगों के संक्रमित होने की बात सामने आयी है। दिशा-निर्देशों में कहा गया है कि चीन और हांगकांग से आने वाली उड़ानों में यात्रियों से कहा जायेगा कि यदि वे पिछले 14 दिन में वुहान शहर में गये हैं और उन्हें बुखार या कफ की शिकायत रही है तो वे एक घोषणा पत्र भरें जो विमान में ही… Continue reading चीन से आने वाले यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग

चीन में फैली सार्स जैसी बीमारी

बीजिंग। चीन में रहस्यमय सार्स जैसे विषाणु का संक्रमण बढ़ता जा रहा है और इसकी चपेट मंब आने से तीसरे व्यक्ति की मौत हो गई। चीन के आसपास दूसरे देशों में भी इस बीमारी का फैलना शुरू हो गया है। चीन के अलावा तीन एशियाई देश इसकी चपेट में आ गए हैं। अधिकारियों ने सोमवार को यह जानकारी दी। कोरोनावायरस विषाणुओं का एक बड़ा समूह है लेकिन इनमें से केवल छह विषाणु ही लोगों को संक्रमित करते हैं। इसके सामान्य प्रभावों के चलते सर्दी-जुकाम होता है। लेकिन सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम यानी सार्स से इसके जुड़ाव ने खतरे की घंटी बजा दी है। ऐसा इसलिए क्योंकि 2002-03 में चीन और हांगकांग में करीब साढ़े छह सौ लोगों की मौत हो गई थी।  फिलहाल चीन के वुहान शहर में इससे जुड़े सबसे ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं।

और लोड करें