kishori-yojna
अनुच्छेद 370 की पूर्व स्थिति बहाल करने की मांग : विहिप

विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के विरुद्ध कुछ राजनीतिक दलों द्वारा संयुक्त घोषणा पत्र जारी करने को देश की जनभावना के विरूद्ध कार्य करार दिया।

अपने घरों में ही मनाएं रामनवमी : विहिप

विश्व हिंदू परिषद (विहिप) ने कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए गुरुवार को लोगों से अपील कर कहा है कि वह आज के दिन रामनवमी के पर्व को अपने घरों में ही रहकर मनाएं।

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग की याचिका पर भड़की विहिप

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग द्वारा सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल करने पर विश्व हिंदू परिषद ने नाराजगी जताई है। विहिप ने कहा है कि किसी भी बाहरी को भारत के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करने का कोई अधिकार नहीं है। विहिप के अंतर्राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार ने कहा, यूएनएचआरसी के पास हमारे देश के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करने का कोई अधिकार नहीं है। हम हैरान हैं कि यूएन मानवाधिकार आयोग को पाकिस्तान और अन्य तानाशाह देशों में अल्पसंख्यकों के अधिकारों का उल्लंघन नहीं दिखता। विहिप के राष्ट्रीय प्रवक्ता विनोद बंसल ने भी इस मसले पर तीखी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा, पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में गैर मुसलमानों के साथ जानवरों से भी बुरा व्यवहार होता है। इन मुस्लिम देशों में अल्पसंख्यकों के नारकीय जीवन पर बेशर्मी भरी चुप्पी साधने वाले संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग को उनकी भारतीय नागरिकता पर पीड़ा होने लगी? सुप्रीम कोर्ट में सीएए के मसले पर दाखिल हस्तक्षेप याचिका में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयुक्त मिशेल बेचलेत जेरिया ने कहा है कि उन्हें एमिकस क्यूरे यानी अदालत के मित्र के तौर पर सुनवाई में शामिल होने के लिए मंजूरी दी जाए। इस याचिका पर भारती विदेश मंत्रालय… Continue reading संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग की याचिका पर भड़की विहिप

सीएए के समर्थन में विहिप चलाएगा अभियान

इंदौर। विश्व हिंदू परिषद ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के समर्थन में जन जागरण अभियान चलाने का निर्णय लिया है और वह इस अभियान के जरिए कानून की वास्तविकता से आमजन को अवगत कराएगी। विहिप के केंद्रीय महामंत्री मिलिंद परांडे ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में बुधवार को कहा केंद्र सरकार के सीएए में पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से प्रताड़ित होकर आए धार्मिक अल्पसंख्यकों जिनमें हिंदू, ईसाई, जैन, सिख, पारसी आदि शामिल हैं, को नागरिकता के साथ सुरक्षा देने का प्रावधान है। मगर विरोधी दल राजनीतिक तुष्टिकरण के लिए इसका विरोध कर रहे हैं। विहिप इस कानून की वास्तविकता से आमजन को अवगत कराने के लिए जनजागरण अभियान चलाएगा। परांडे ने कहा पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान इस्लामिक देश हैं। वहां मुस्लिम अल्पसंख्यक नहीं हैं। वे धार्मिक रूप से प्रताड़ित भी नहीं हैं। सीएए का संबंध भारत में आए प्रताड़ित शरणार्थियों से है, इस कारण भारत के मुसलमानों का इससे कोई संबंध नहीं है।

विहिप की बैठक में राम मंदिर ट्रस्ट पर होगी चर्चा

नई दिल्ली। विश्व हिंदू परिषद (विहिप) की 27 दिसंबर से तीन दिवसीय बैठक कर्नाटक के मंगलुरु में शुरू होने जा रही है। इस बैठक में यूं तो घुसपैठ, सीएए, एनआरसी जैसे कई एजेंडे हैं मगर अयोध्या में प्रस्तावित राम मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट गठन पर भी चर्चा होगी। दरअसल, सर्वोच्च न्यायालय ने केंद्र सरकार को राम मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट बनाने का आदेश दिया है। नौ फरवरी तक यह ट्रस्ट बन जाना है। अभी तक सरकार की ओर से यह साफ नहीं किया गया है कि इस ट्रस्ट में कौन रहेगा। इसे भी पढ़ें : भोपाल के एमसीयू पहुंची प्रज्ञा ठाकुर के खिलाफ नारेबाजी विहिप सूत्रों का कहना है कि संगठन की इस तीन दिवसीय मीटिंग में राम मंदिर के निर्माण और इसके ट्रस्ट को लेकर सुझाव लिए जाएंगे। हालांकि ट्रस्ट बनाना सरकार का काम है और इसमें संगठन कोई हस्तक्षेप नहीं करेगा। लेकिन यदि सरकार कोई सुझाव मांगती है तो विहिप जरूर अपनी राय देगी। ऐसे में विहिप अपनी इस बैठक में पहले से ही राम मंदिर और ट्रस्ट को लेकर रणनीति तैयार करेगी। विहिप की इस बैठक में दो दर्जन देशों के प्रतिनिधि भी हिस्सा लेंगे।

और लोड करें