बांग्लादेश के मंत्री का शाह को जवाब

बांग्लादेश के विदेश मंत्री एके अब्दुल मोमिन ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को बेहद तीखा जवाब दिया है। पिछले दिनों पश्चिम बंगाल के चुनाव प्रचार में अमित शाह ने कह दिया था कि बांग्लादेश के गरीब लोग भारत में घुसपैठ करते हैं क्योंकि उनके यहां खाने को नहीं मिलता है। उन्होंने कहा था कि अगर भाजपा की सरकार बनी तो वह बांग्लादेश से घुसपैठ खत्म कराएगी। बांग्लादेश के विदेश मंत्री ने बहुत खास अंदाज में जवाब दिया। उन्होंने अपने देश को भारत से बेहतर बताते हुए कई तुलनात्मक आंकड़े भी दिए। ध्यान रहे दोनों देशों के संबंध बहुत अच्छे हैं और पिछले दिनों बांग्लादेश के दौरे पर गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दोनों के संबंधों के बारे में बहुत कुछ कहा था। बांग्लादेश के विदेश मंत्री एके अब्दुल मोमिन ने अमित शाह को जवाब देते हुए कहा- दुनिया में बहुत से ज्ञानी लोग हैं, कुछ ऐसे हैं, जो देखने के बाद भी देखना नहीं चाहते, जानने के बाद भी समझना नहीं चाहते, लेकिन अगर उन्होंने (अमित शाह) ऐसा कहा है तो मैं कहना चाहूंगा कि बांग्लादेश के बारे में उनकी जानकारी बहुत सीमित है, बांग्लादेश में कोई भूख से नहीं मर रहा है, बांग्लादेश के उत्तरी जिलों में कोई… Continue reading बांग्लादेश के मंत्री का शाह को जवाब

क्या बंगाल की हिंसा प्रायोजित थी?

पश्चिम बंगाल के कूचबिहार में 10 अप्रैल को चौथे चरण के मतदान के दिन जो हिंसा हुई उसकी दो जांच हो रही है। पश्चिम बंगाल सरकार ने सीआईडी से इसकी जांच के आदेश दिए हैं तो केंद्रीय चुनाव आयोग ने भी एक जांच शुरू कराई है। दोनों जांचों का क्या नतीजा होगा, यह पहले से पता है। चुनाव आयोग की शुरुआती जांच रिपोर्ट में जो कहा गया है वहीं अंतिम नतीजा होगा कि भीड़ ने केंद्रीय अर्धसैनिक बलों पर हमला किया और केंद्रीय बलों ने आत्म रक्षा में गोली चलाई, जिसमें चार लोग मारे गए। दूसरी ओर राज्य सरकार की रिपोर्ट में कहा जाएगा कि सुरक्षा बलों ने मतदाताओं को प्रभावित करने का प्रयास किया और विरोध करने पर गोली चला कर मार दिया। ऐसे में यह नहीं कहा जा सकता है कि कौन सी जांच रिपोर्ट सही है और कौन  सी पूर्वाग्रह से ग्रसित है। लेकिन यह सवाल तो उठता है कि क्या कूचबिहार में 10 अप्रैल को हुई हिंसा प्रायोजित थी? चूंकि बंगाल में चल रहे चुनाव के हर चरण में कुछ न कुछ ऐसा हो रहा है। इससे पहले छह अप्रैल को चुनाव हुआ उससे ठीक पहले छत्तीसगढ़ में नक्सलियों के साथ मुठभेड़ में सीआरपीएफ के 23… Continue reading क्या बंगाल की हिंसा प्रायोजित थी?

ममता ने लगाया नरसंहार का आरोप

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शनिवार को कूचबिहार के एक मतदान केंद्र पर केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल, सीआईएसएफ की गोली से चार लोगों के मारे जाने की घटना को नरसंहार करार दिया है। केंद्रीय अर्धसैनिक बल ने कहा है कि उन्होंने आत्मरक्षा में गोली चलाई थी, लेकिन इसे खारिज करते हुए ममता ने कहा है कि आत्मरक्षा में लोगों के पैर पर भी गोली मारी जा सकती थी, कमर के नीचे गोली मारी जा सकती थी, लेकिन कूचबिहार में सुरक्षा बलों ने लोगों की जान लेने के लिए गोली चलाई। ममता बनर्जी ने इसके लिए अमित शाह से इस्तीफा देने की मांग भी की। शनिवार चौथे चरण के मतदान के दिन केंद्रीय सुरक्षा बलों की गोली से चार लोगों के मारे जाने की घटना के एक दिन बाद रविवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रेस कांफ्रेंस की और केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री और गृह मंत्री के साथ यह सरकार भी असमर्थ है। वे बंगाल पर कब्जा करने के इरादे से रोज यहां आ रहे हैं। ममता ने कहा- पहले आप सुरक्षा बलों के जरिए लोगों की जान लेते हैं और बाद में उन्हें क्लीन चिट देते हैं। ये नरसंहार है। उन्होंने… Continue reading ममता ने लगाया नरसंहार का आरोप

सीआईएसएफ की फायरिंग में चार की मौत

सिलिगुड़ी। पश्चिम बंगाल में चौथे चरण के मतदान के दौरान केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल यानी सीआईएसएफ की फायरिंग में चार लोगों की मौत हो गई है। शनिवार को चौथे चरण के मतदान के दौरान कूचबिहार इलाके में दो मतदान केंद्रों पर हिंसा हुई, जिनमें पांच लोगों की मौत हुई। सबसे पहले एक मतदान केंद्र के बाहर बम फेंकने की घटना हुई और गोलीबारी भी हुई, जिसमें वोट डालने पहुंचे एक युवक की मौत हो गई। इसके बाद एक दूसरे मतदान केंद्र पर कुछ लोगों ने कथित तौर पर सीआईएसएफ के जवानों पर हमला कर दिया। सीआईएसएफ का कहना है कि जवानों ने आत्मरक्षा में गोली चलाई, जिसमें चार लोगों की मौत हो गई। कूचबिहार के सीतलकुची में बूथ नंबर 126 पर भीड़ ने कथित तौर पर सीआईएसएफ के जवानों पर धावा बोल दिया। आत्मरक्षा के लिए सीआईएसएफ ने गोली चलाई, जिसमें चार लोगों की मौत हो गई। मरने वाले सभी चार लोग तृणमूल कांग्रेस से जुड़े हैं। इस सीआईएसएफ की गोलीबारी में चार लोग घायल भी हुए हैं। इस मामले में तृणमूल कांग्रेस चुनाव आयोग पहुंची है और कार्रवाई की मांग की है। दूसरी ओर भाजपा के एक प्रतिनिधिमंडल ने भी चुनाव आयोग से शिकायत की है। इस बीच चुनाव… Continue reading सीआईएसएफ की फायरिंग में चार की मौत

West Bengal Election 2021: पीएम मोदी के कान में जुल्फिकार अली ने कही थी ये बात, ये भी बताया कि क्यों पहनी थी टोपी…

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में प्रचार के दौरान एक युवक की प्रधानमंत्री मोदी के कान में कुछ बोलने की तस्वीर काफी वायरल हो रही थी. इस पर विपक्ष लगातार हमलावर होकर कह रहा था कि ये कोई हिंदू युवक है जिसने टोपी पहनकर सिर्फ तस्वीर खिंचवाई है. अब युवक की पहचान कर ली गई है युवक के विषय में मिली जानकारी के अनुसार उसका नाम जुल्फिकार अली है और वो एक मुसलमान युवक ही है. ये बात जुल्फिकार ने ही बतायी. इतना ही नहीं उन्होंने ये भी बताया है कि उस दिन सोनारपुर की रैली में उसने पीएम मोदी के कान में क्या बोला था. बता दें कि तस्वीर के वायरल होने के बाद से इस लड़के की खोज मीडिया वाले कर रहे थे. सोशल मीडिया में इस बात की चर्चा थी कि आखिर इस युवक की पहचान क्या है और उस दिन युवक ने मोदी के कान में क्या बोला था. पीएम मोदी के कान में बतायी थी ये बात जुल्फिकार ने बताया कि उस दिन पीएम की रैली के दौरान पार्किंग की जिम्मेवारी उसकी थी. उसने बताया कि हमें पार्किंग के साथ ही और भी कई तरह के निर्देश दिये गये थे जैसे किसी को पीएम के पास… Continue reading West Bengal Election 2021: पीएम मोदी के कान में जुल्फिकार अली ने कही थी ये बात, ये भी बताया कि क्यों पहनी थी टोपी…

 West Bengal election 2021:  ‘दीदी’ के गोत्र कार्ड पर ओवैसी का तंज- ना तो मैं जनेऊ धारी और ना ही शांडिल्य गोत्र का,  मेरे जैसों का क्या…. 

पश्चिम बंगाल में मतदान शुरू हो गया है. 1 अप्रैल को दूसरे चरण के मतदान में ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) के भविष्य पर भी फैसला हो जाएगा. नंदीग्राम ( Nandigram) के साथ ही बंगाल में दूसरे चरण की 30 सीटों पर मतदान होने हैं.  प्रचार के आखिरी दिन ममता ने अपना गोत्र बताकर अंतिम दांव खेला है. जिसके बाद उनके इस बयान पर विपक्ष ने जमकर हमला बोला.  दीदी ने प्रचार के अंतिम दिन नंदीग्राम की जनता के साथ गोत्र कार्ड खेला. अब इस गोत्रकार्ड पर बंगाल में सियासत गर्मा गई है. BJP से लेकर Congress और AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने भी ममता के इस गोत्र कार्ड पर चुटकी ली है. ओवैसी ने कहा कि  मेरे जैसे लोगों का क्या होना चाहिए जो न तो शांडिल्य (Shandilya Gotra) के हैं और न ही जनेऊधारी. ट्वीट कर भी कसा तंज ओवैसी ने दीदी पर निशाना साधते हुए कहा कि बंगाल में  हर पार्टी अपना हिंदू चेहरा दिखाने में लगी हुई है. ओवैसी ने बुधवार को भी दीदी पर तंज कसते हुए ट्वीट किया, कि ‘मेरे जैसे लोगों का क्या होना चाहिए जो न शांडिल्य हैं और न ही जनेऊधारी. जो न तो किसी खास भगवान का भक्त है… Continue reading  West Bengal election 2021:  ‘दीदी’ के गोत्र कार्ड पर ओवैसी का तंज- ना तो मैं जनेऊ धारी और ना ही शांडिल्य गोत्र का,  मेरे जैसों का क्या…. 

Bengal Election 2021: BJP के पिटारे में सिर्फ फूफकारने वाले  COBRA निकले मिथुन , कहीं से भी नहीं लड़ेंगे चुनाव  

Kolkata: Mithun Chakraborty का BJP में जोरदार स्वागत किया गया था. अनुमान लगाया जा रहा था कि  BJP  कम से कम एक सीट पर तो मिथुन पर दांव खेलेगी.  लेकिन अब ऐसा लग रहा है कि मिथुन BJP के दिखाने वाले ही हथियार थे. मिथुन ने भी भाजपा का हाथ थामने के साथ कहा था कि वो एक COBRA हैं. उम्मीदवारों की लिस्ट जारी करने के बात लगता है कि मिथुन कोबरा तो थे लेकिन दिखाने वाले. बता दें कि बंगाल की सत्ता पर बैठी Trinamool Congress ने भी इसपर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि भाजपा वाले सुर्खियां बटोरने के लिए किसी को भी पार्टी में शामिल करने के लिए तैयार हो जाते हैं. बता दें कि BJP ने अपने प्रत्याशियों की आखिरी लिस्ट भी जारी कर दी है. इस अंतिम सूची में भी अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती का नाम नहीं है. इससे अब स्थिति साफ हो गयी है कि  मिथुन इस बार चुनाव नहीं लड़ेंगे. हालांकि मिथुन स्टार प्रचारक के रूप में चुनाव प्रचार करेंगे. इसे भी पढ़ें- दिल्ली में एलजी तब क्या राजनेता? कोलकाता के किसी सीट से चुनाव लड़े जाने की थी सूचना 7 मार्च को मिथुन चक्रवती ने पीएम मोदी की ब्रिगेड रैली में BJP ज्वाइन की… Continue reading Bengal Election 2021: BJP के पिटारे में सिर्फ फूफकारने वाले COBRA निकले मिथुन , कहीं से भी नहीं लड़ेंगे चुनाव  

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव 2021 :  BJP में सीएम पद के दावेदारों की भरमार, कई चौंकाने वाले नाम भी शामिल

भारतीय जनता पार्टी पश्चिम बंगाल के चुनाव में कितनी सीटें जीतेगी यह तय नहीं है। यानी विधायक कितने होंगे यह पता नहीं है पर उससे पहले ही मुख्यमंत्री के दर्जनों दावेदार हो गए हैं।

और लोड करें