विषमता की शिकार महिलाएं

भारत में अक्सर महिलाओं की बदहाली की चर्चा होती है, जो वाजिब भी है। मगर बाकी दुनिया में भी अभी हालत कोई बहुत बेहतर नहीं है। कुछ देशों को छोड़ कर दुनिया के बाकी हिस्सों में आज भी महिलाएं स्वतंत्रता और स्वेच्छा से जीने की स्थिति में नहीं हैं।