अच्छी पहल: राजस्थान सरकार बना रही है कैदियों को आत्मनिर्भर, पेट्रोल पंप का कर रहे हैंं संचालन - Naya India
आज खास | ताजा पोस्ट | देश | राजस्थान| नया इंडिया|

अच्छी पहल: राजस्थान सरकार बना रही है कैदियों को आत्मनिर्भर, पेट्रोल पंप का कर रहे हैंं संचालन

Petrol Diesel Price

jaipur: राजस्थान सरकार और प्रशासन (administration) के संयुक्त प्रयासों से अक अच्छी पहल की गयी है. जेल में बंद कैदियों (prisons) के जीवन-स्तर को सुधारने के लिए देश में समय-समय पर कई तरह की कोशिशें की जाती रही हैं. राजस्थान की गहलोत सरकार ने एक कदम बढ़कर कैदियों को आत्मनिर्भर (self-sufficient) बनने की ट्रे्निंग दे रही है. हालांकि इस पहल का श्रेय जितना सरकार का उतना ही प्रशासन को भी दिया जाना चाहिए. राजस्थान की जेलों में बंद कैदियों को सरकार द्वारा जेल परिसर में बने पेट्रोल पंप पर काम करने का प्रशिक्षण दिया जा रहा है. इस संबंध में राजस्थान के जेल महानिदेशक (Director General of Prisons) राजीव दासोत ने जानकारी दी. उन्होंने बताया कि इस तरह से कैदियों के काम करने से उनमें भी सामान्य लोगों की ही तरह जीने के इच्छा पैदा होगी. इससे जब वे बाहर निलकेंगे तो उन्हें अस सामान्य जीवन जीने में परेशानी नहीं होगी.

इसे भी पढें- सदन में विधायक के टी-शर्ट पहनकर आने से नाराज हुए विधानसभा अध्यक्ष, कह दिया गेट आउट !

पेट्रोल पंप पर काम करने की सैलरी भी दी जाती है

राजीव दासोत ने बताया कि जेेलो में कैदियों को पेट्रोल पंप पर काम करने की ट्रेनिंग दी जा रही है. उन्होंने बताया कि राजस्थान के जेल परिसर में कुल 6 पेट्रोल पंप है. कैदियों को काम सिखाकर इनसे ही पेट्रोल पंपों का संचालन भी करवाया जा रहा है. श्री दासोत ने बताया कि इन पेट्रोल पंपों पर 100 से ज्यादा कैदी कार्यरत हैं. इतना ही नहीं कैदियों के काम के अनुसार उन्हें प्रतिदिन की सैलरी भी दी जाती है. इन्हें वेतन के रूप में 249रुपये/ दिन का दिया जाता है. िसके लिए कैदियों का एक बैंक अकाउंट भी जदेल प्रबंधन की ओर से खुलवाया गया है. इनकी सैलरी सीधे इनके अकाउंट में दी जाती है.

इसे भी पढें- आप भी जानें,  कौन सी  5 बातें बंगाल में भाजपा को कर सकती है सत्ता से दूर

कैदियो को आत्मनिर्भर बनने में मिलेगी मदद

जेल महानिदेशक का कहना है कि राजस्थान सरकार की इस पहल से जेल में सजा काट रहे कैदियों को आत्मनिर्भर बनने में मदद मिलेगी. सज़ा खत्म होने के बाद लोगों को को काम मिलने में आसानी होगी. उन्होंने कहा कि ये काम कैदियों के जीवन स्तर को सुधारने के लिए किया जा रहा है. इस तरह मेहनत कर कमाने से इनमें आगे कभी गलत रास्ता नहीं अपनाने की भावना भी जागेगी. उन्होंने बताया कि अगले चरण में राज्य में 12 जगहों पर पेट्रोल पंप खोलने की तैयारी की जी रही है. जिससे और भी कैदियों को काम पर लगाया जा सकेगा. बता दें कि जयपुर पेट्रोल पंप पर इन कैदियों के द्वारा पिछले महीने में 1 करोड़ रुपये की बिक्री दर्ज की गई है, अब इसका लक्ष्य 3 करोड़ रुपये प्रति माह रखा गया है.

इसे भी पढें- रात में चलनी वाली ट्रेनों का बढ़ेगा किराया ! जानें सच

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *